technology

[Technology][bleft]

Health

[Healthcare][bleft]

Business

[Business][bleft]

Network Marketing

[Network Marketing][bleft]

Why Asaduddin Owaisi says Supreme Court is not infallible?

Facts on Ram Mandir, which are accepted by the Supreme Court

Why Asaduddin Owaisi says Supreme Court is not infallible?



The harsh judgment was taken by the Supreme Court of India in the Ayodhya dispute that had been pending for decades. This decision was welcomed by Hindus, Muslims and all sections of Indian society. This article is being written a week after the decision given by the Supreme Court of India. In this one week, brotherhood is prevailing all over the country and all the people are accepting the decision of the Supreme Court happily.

As the Prime Minister of India, Narendra Modi has said, no one has lost in this and the country has won. This is the truth.

Despite this, the (so-called) leaders of Muslims such as Asaduddin Owaisi are not seen coming out of their old antics.

Owaisi believes that the Supreme Court is not infallible, despite considering the Supreme Court as supreme. He has started such a statement.

Owaisi has every right to say his words, but by saying such a thing, the work of disturbing the atmosphere of goodwill that has arisen in the country. 

Here, one of the biggest questions arises on Owaisi's intention. Is the  Supreme Court of India has taken this decision under any sentiment? 5 learned judges of the Supreme Court including Chief Justice Ranjan Gogoi along with other members of the Constitution Bench, Justice S.A. Bobde, Justice Dhananjay Y. Chandrachud, Justice Ashok Bhushan and Justice S.K. People like Abdul Nazeer gave a unanimous decision that the land of Babri Masjid is handed over to Shri Ram Janmabhoomi Nyas.

So Owaisi wants to say that these five learned people are not able to give 'infallible' decisions by consensus?

By the way, in countries like India, no decision is given by the court under the influence of emotions. Facts, arguments, and evidence are behind any decision. But still, people like Owaisi continue to bake their bread even such sensitive decisions.

Many facts and arguments were discussed behind this decision of the court for years. Let us know on which basis this decision has been taken. The Archaeological Survey of India report was given more importance behind this decision. The faith of both the parties is in its place, but the facts are the most important, full consideration was taken of this matter.


Facts of Ram Mandir are accepted by the Supreme Court

Ram Janmabhoomi from the point of view of historians

Facts of Ram Mandir accepted by Supreme Court


According to the Sikh religious book 'Janamsakhi', Guru Nanak Dev had also come to Ayodhya Ram Janmabhoomi in 1500. Mardana, the Muslim disciple of Guru Nanak Dev, requested him to visit the birthplace of Shri Ram in Ayodhya. Meaning there must have been a temple of Shri Ram there, that's why Guru Nanak Dev went there. The amazing fact is that Babri Masjid was built in 1524. From this, it appears that this mosque was built by demolishing the Ram temple.

Abu Al Fazl, who wrote Akbar's biography, has also written about the importance of Ayodhya and worship of Shri Ram in his Ain-e-Akbari text. It is surprising that he did not even mention the Babri Masjid.

Sujan Rai Bhandari, who was Aurangzeb's minister in 1895, has also written about the importance of Ayodhya and Prabhu Shri Ram for Hindus.


From 1707 to 1811, British expatriate William Finch visited Ayodhya. Finch wrote Ayodhya as an archaic city and wrote that now some remnants of Prabhu Shri Ram's house are left. Hindu priests still worship on the broken remains. Hindus from all over the country come here, it is called Ramkot.

A letter from Aurangzeb's granddaughter is also considered as big evidence. In this letter, she writes that Hindus should stop worshiping and start offering prayers by muslims in the mosques that have been built by breaking Ram's birthplace and Hanuman Garhi in Ayodhya and Sri Krishna's birthplace in Mathura. In her written book too, she has written a lot about Ayodhya.


This can be taken to mean that in Mathura or Ayodhya, mosques were built by breaking the temple there, but in Aurangzeb's era, Namaz was not performed and Hindus were worshiping there.

There is also a historical reference to this dispute. Nawab Siraj-ud-daula of Bengal had asked the Peshwa Raghunathrao and Maratha Sardar Malharrao Holkar to be handed over Ayodhya to Hindus, in return of his help against the Afghan Rohillas.

The most significant evidence of this chain was the book written by the father of Muslim scholar Ali Mian, who was ex-chairman of the Muslim Personal Law Board. He wrote a book in Arabic. In 1973, Ali Mian translated this book into Urdu. In this book titled 'Hindustan Ahad Mein', he mentions the construction of mosques by breaking seven temples in a chapter called 'Mosques of Hindustan'. Among the demolished 7 temples, one of the temples is Ram Mandir of Ayodhya. 

Later, when Arun Shourie, the then editor of the Indian Express came to know about this, he tried to find this book. A copy came from somewhere and he wrote articles on this book in the Indian Express. After these articles published, as if stirred up. Overnight, all copies of this book were disappeared. Watch this video.





Report of Archaeological Survey of India 

Facts of Ram Mandir accepted by Supreme Court

The report prepared by the Archaeological Survey of India revealed many scientific facts about demolishing the temple, and construction of Babri Masjid. The land of Babri Masjid is the birthplace of Lord Shri Ram and to prove it, 2 times excavation.


The place was excavated in 1977 first time, where the Babri Masjid was erected. The then director-general of the Archaeological Survey of India is B. B. Lal. In this year's excavations, ASI got 14 pillars. Many evidence of Hindu worship method was found on this pillar made of black stone.

The composition of such pillars is used in the construction of temple pavilions. This is a piece of strong evidence that there is a temple at the bottom of the Babri Masjid that existed at that time.

But in this country, who pay a huge price for the secularism, these claims of ASI had completely rejected by some leftist historians.

But in 2003, the order of excavation was again issued by the Allahabad High Court. In this excavation, ASI officers and laborers of both Hindu and Muslim religions were included and 2 magistrates of Allahabad Court were present at the time of every excavation. Also, representatives of the Babri Masjid Action Committee and Nirmohi Arena were also there.

Due to this, no one could raise questions on this excavation. During this excavation, many new pieces of evidence came out which proved the former temple of Babri Masjid and the Babri Masjid was built by breaking this temple. Not only this, many remnants of this temple were also used to build Babri Masjid.


In this excavation, a similar arrangement was found for the drainage of water of Jalabhishek in the temple. Many relics of the urn of the temple were also found. In this excavation, a five feet long and two feet wide Sheela article was also found, which is called Vishnuharisheela plank. This inscription is also in the Nagari script and Sanskrit language.

In 1992, when the Babri structure was uprooted, its walls gave testimony to Lord Ram's temple itself. Stone emerged from the wall of the Babri Masjid. These inscriptions belong to the eleventh century.


This piece of stone (Inscription) revealed four hundred years of history from Babur. The Inscription was analyzed by script specialist A.N. Atri and KV Ramesh.

In it, the time of reconstruction, the name of the renovator, the name of the deity of the temple, everything is written. This evidence has revealed that hundreds of years before the Babri Masjid there was a Ram temple here.

The following are the gist of this Sheela article. 


Who was a pioneer of scholars in the world and was the son of Megh ...

His nephew, Nayachandra, from the reign of Govind Chandra, the best among the kings

Succeeded Saket Mandal ...

Gold urns with Sheela grade like shell peaks engraved by tank

Built this beautiful temple of Shri Vishnuhari ...

May never be built by complete kings,

He built this beautiful temple with the aim of crossing the world ocean soon

May never be built by complete kings,

He built this beautiful temple with the aim of crossing the world ocean soon

Considering the small steps ...

By killing Hiranyakashipu, restraining Vansura in battle,

By drenching the arm of Balliraj, having a vision of the landlord,

Who can be the other saint who killed the evil Darshanan?



This inscription proves that the mosque was built from the remains of temples. But a dispute was also raised on this matter. Click here for more details.






Ayodhya dispute from the eyes of Mahakavi Tulsidas

Facts of Ram Mandir accepted by Supreme Court


The Babri Masjid was built in 1528-1527. At the same time, Saint Goswami Tulsidas (1532–1623) was producing texts with supernatural talent, which includes Ramcharitmanas and Hanuman Chalisa.

In such a situation, Saint Tulsidas ji wrote a lot of couplets about the construction of Babri Masjid and the temple collapse and included himself and his book in 'Tulsi Doha Shatak'. These texts also presented in front of SC.

At that time, Tulsidas also describes the vandalism committed on Hindus by Meer Banki and Mughal rulers. He writes,
मन्त्र उपनिषद ब्राह्मनहूँ 
बहु पुराण इतिहास।
जवन* जराये रोष भरि
करि तुलसी परिहास। 
(Meaning: Yavnas filled with anger destroyed many texts,
mantras, history by ridiculing them)

सीखा सूत्र से हीन करि
बल ते हिन्दू लोग। 
भमरि भगाये देश ते
तुलसी कठिन कुजोग। 
(Meaning: The Yavanas, after deviating from the crest and the Janeu of the Hindus, drove them away from home and their native places.)

बाबर बर्बर आइके
कर लीन्हे करवाल। 
हने पचारि पचारि जन
तुलसी काल कराल। 
(Meaning: Babur brutalized Hindus with the sword in hand)

सम्बत सर वसु बान भर नभ 
ग्रीष्म ऋतु अनुमानि। 
तुलसी अवधहि जड़ जवन
अनरथ किए अनखानी। 
(Meaning: Samvat 1585 Vikram - AD 1528 Construction of Babri Masjid - In the summer, the Mughals tortured Ayodhya people beyond description.)


 राम जनम मंदिर महिं
तोरि मसित बनाय। 
जबहि बहु हिंदुन हते
तुलसी कीन्हि हाय। 
(अर्थ: राम जन्म (मंदिर) को तोड़कर मस्जिद बनायी और साथ ही  बड़ी संख्या में स्थानीय हिन्दू निवासियों पर जुल्म किये जिससे तुलसीदास शोक में डूब गए)

दल्यो मीरबाकी अवध 
मंदिर राम समाज। 
तुलसी  रोवत ह्रदय अति 
त्राहि त्राहि रघुराज। 
(Meaning: Tulsidas cried seeing Mir Banki destroyed the idols of Ram temple)

राम मंदिर जनम जहँ 
लसत अवध के बीच। 
तुलसी रचित मसीद तहँ 
मीरबाँकी खल नीच। 
(Meaning: Mir Banki who built a mosque in the middle of Awadh
where the Ram temple was.)

रामायण घरि घँट जहँ
श्रुति पुराण उपखान। 
तुलसी जवन अजान तहँ
कुरान अजान। 
(Meaning: Where the voices of Ramayana, Vedas, Shruti used to resonate,
now the voice of  Azaan and Quraan  resonate)

Ayodhya dispute during British rule

Not only this, even during the British rule, Hindus worshiped on the disputed land of Ayodhya. Many facts related to this were also disclosed before the Supreme Court.

Similar facts were accepted by the Supreme Court because, in historical facts, the Babri Masjid Action Committee failed to prove its ownership over the disputed land, and the Supreme Court held the claim of the Hindu side to be authoritative.

The Supreme Court gave a clear verdict, but Owaisi blamed this verdict infallible, which can be either a sign of ignorance of Asaduddin Owaisi or a symbol of his jihadi mentality.

Whatever Owaisi says, but the harmony and understanding that the Muslims of India have shown, they are eligible to be greeted.

Watch this video, you know yourself that India's Muslims have changed. Now it is time to change people like Owaisi.


After hearing this Maulana, named Hafiz Ghulam Sarwar, it will be known that now people like Owaisi have no place in this society.

babri masjid, babri.masjid, babri masjid case, 

ram mandir ayodhya proof in hindi

babri masjid demolition, babri masjid ayodhya, babri masjid in ayodhya, babri masjid attack, babri masjid news, babri masjid history, babri masjid video, babri masjid photo, ram janmbhoomi, ram janmabhoomi, ayodhya ram janmabhoomi, ram ki janmabhoomi, ram mandir ayodhya, ayodhya ram mandir, ram mandir ayodhya video, ram mandir in ayodhya video, ram mandir ayodhya history, ram mandir ayodhya photo, ram mandir ayodhya history in hindi,








असदुद्दीन ओवैसी सुप्रीम कोर्ट को अचूक क्यों नहीं मानते?

Why Asaduddin Owaisi says Supreme Court is not infallible?


भारत के सुप्रीम कोर्ट द्वारा दशकों से प्रलंबित अयोध्या विवाद में कड़ा फैसला आया. जिसका भारत के हिन्दू, मुस्लिमों एवं सभी तबको द्वारा स्वागत किया गया. यह आर्टिकल सुप्रीम कोर्ट ऑफ़ इंडिया द्वारा दिए गए निर्णय के एक हफ्ते बाद लिखा जा रहा हैं. इस एक हफ्ते में पूरे देश में भाईचारा कायम हैं और सभी लोग सुप्रीम कोर्ट के निर्णय को सर आंखों पर मान रहे हैं.

जैसे के भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा हैं की इसमें किसी की भी हार नहीं हुयी हैं और देश जीता हैं. यही सत्य हैं.

इसके बावजूद भी असदुद्दीन ओवैसी जैसे  मुस्लिमो के (तथाकथित) नेता अपनी पुरानी हरकतों से बाज़ आते नहीं दिख रहे हैं.

सुप्रीम कोर्ट को सर्वोच्च मानते हुए सुप्रीम कोर्ट अचूक नहीं हैं ऐसा ओवैसी मानते हैं. वैसी बयानबाज़ी की शुरुआत उन्होंने कर दी हैं.

ओवैसी को अपनी बात कहने का पूरा अधिकार हैं, लेकिन ऐसी बात कहकर देश में सद्भाव का जो माहौल पैदा हुआ हैं, उसे बिगाड़ने का काम उनका बड़बोलापन कर सकता हैं.

यहाँ एक सबसे बड़ा सवाल ओवैसी की नीयत पर यह उठता हैं की क्या सुप्रीम कोर्ट ऑफ़ इंडिया ने भावना के अधीन  होकर यह फैसला किया हैं? सुप्रीम कोर्ट के ५ विद्वान न्यायाधीश जिसमे प्रमुख न्यायाधीश रंजन गोगोई के साथ संविधान पीठ के अन्य सदस्य न्यायमूर्ति एस.ए. बोबड़े, न्यायमूर्ति धनंजय वाई. चंद्रचूड़, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस. अब्दुल नज़ीर जैसे लोगो द्वारा आम सहमति से फैसला दिया, की बाबरी मस्जिद की जमीन को श्रीराम जन्मभूमि न्यास को सौपा जाए.

तो ओवैसी यह कहना चाहते हैं की यह पांच विद्वान लोग आम सहमति से 'अचूक' निर्णय देने में सक्षम नहीं हैं?

वैसे तो भारत जैसे देशों में भावना विवश होकर कोई भी निर्णय कोर्ट द्वारा नहीं दिया जाता. तथ्य, दलीले  एवं सबूत ही किसी निर्णय के पीछे होता हैं. मगर फिर भी ओवैसी जैसे लोग संवेदनशील निर्णयों में भी अपनी रोटी सेंकने में लगे रहते हैं.

कोर्ट के इस निर्णय के पीछे भी सालो से अनेक तथ्यों एवं दलीलों पर विचार विमर्श किया गया. आइये जानते हैं किन तथ्यों के आधार पर यह निर्णय लिया गया हैं. इस निर्णय के पीछे भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (Archaeological Survey of India) की रिपोर्ट को अधिक महत्व दिया गया. दोनों पक्षों की आस्था अपनी जगह पर, लेकिन तथ्य सबसे महत्वपूर्ण होते हैं,  इस बात का पूरा पूरा ख़याल रखा गया.

सुप्रीम कोर्ट द्वारा स्वीकार किये गए राम मंदिर के तथ्य 

Facts of Ram Mandir are accepted by the Supreme Court

इतिहासकारों की नजर से राम जन्मभूमि

Facts of Ram Mandir accepted by Supreme Court


सिखों  धार्मिक पुस्तक 'जन्मसखि' के अनुसार गुरु नानकदेव भी सन १५०० में अयोध्या राम जन्मभूमि  जाने का उल्लेख आया हैं. गुरु नानकदेव के मुस्लिम शिष्य मरदाना ने उन्हें अनुरोध करते हुए कहा की अयोध्या में श्रीराम की जन्मभूमि हैं दर्शन करे. मतलब वहां श्री राम का मंदिर रहा होगा इसीलिए गुरु नानक देव वहां गए.

अकबर की  बायोग्राफी लिखने वाले अबू अल फज़ल ने अपने आइन-ए-अकबरी ग्रन्थ में ग्रन्थ में भी अयोध्या का महत्व और श्री राम की उपासना के बारे में लिखा हैं. आश्चर्य की बात यह हैं की उसने बाबरी मस्जिद का उल्लेख भी नहीं किया. 

१६९५ में औरंगजेब के मंत्री रहे सुजान राय भंडारी ने भी हिन्दुओं के लिए अयोध्या एवं प्रभु श्रीराम के महत्व् के बारे में लिखा हैं. 

१६०८ से १६११ के बीच ब्रिटिश प्रवासी विलियम फिंच ने अयोध्या को भेंट की. फिंच ने अयोध्या को पुरातन शहर लिखते हुए लिखा की प्रभु श्रीराम के सदन के अब कुछ अवशेष बचे हैं. हिन्दू पुजारी अभी टूटे हुए अवशेषों पर पूजा करते हैं. देशभर के हिन्दू यहाँ आते हैं, इसे रामकोट कहा जाता हैं.

औरंगजेब की पौत्री के एक पत्र को भी बड़ा सबूत मना जाता हैं. इस पात्र में वह लिखती हैं की, मथुरा में श्रीकृष्ण के जन्मस्थान और अयोध्या में सीता रसोई और हनुमान गढ़ी को तोड़कर जो मस्जिदें बनायी हैं, वहां हिन्दुओं को पूजापाठ करने से रोकना चाहिए और जुमे की नमाज शुरू करनी चाहिए. अपने लिखे पुस्तक में भी उसने अयोध्या के बारे में काफी कुछ लिखा हैं. 

इसका मतलब यह निकाला जा सकता हैं की मथुरा हो या अयोध्या वहां मंदिर तोड़कर मस्जिदें बनायी गयी थी लेकिन वहां औरंगजेब के जमाने में भी नमाज अदा नहीं की जाती थी और हिन्दू पूजापाठ कर रहे थे.

इसी विवाद का एक ऐतिहासिक सन्दर्भ भी आता हैं. बंगाल के नवाब सिराजुद्दौला अफ़ग़ान रहिल्लो के खिलाफ अपनी मदद के बदले में पेशवा रघुनाथराव और मराठा सरदार मल्हारराव होल्कर को  अयोध्या हिन्दुओं को सौपने की बात कही थी.

इस कड़ी सबसे अहम् सबूत खुद मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के तत्कालीन अध्यक्ष रहे विद्वान अली मियां के पिताजी ने अरबी भाषा में एक पुस्तक लिखी थी. १९७३ में अली मियां ने इसी पुस्तक का उर्दू अनुवाद किया. 'हिंदुस्तान आहद में' नामक इस पुस्तक में उन्होंने 'हिंदुस्तान की मस्जिदें\ नामक चैप्टर में सात मंदिरों को तोड़कर मस्जिदे बनायीं जाने का उल्लेख किया हैं, जिसमे एक अयोध्या की बाबरी मस्जिद  भी  उल्लेख आता हैं.

बाद में जब इस बात का पता इंडियन एक्सप्रेस के तत्कालीन संपादक अरुण शौरी को लगा तो उन्होंने इस पुस्तक को ढूंढने कोशिश की. कहीं से एक कॉपी उनके हाथ आयी और उन्होंने इंडियन एक्सप्रेस में इस पुस्तक के बारे में लिखा. मानो जैसे हड़कंप हुआ. रातोरात इस पुस्तक सारी  कॉपियां गायब कर दी गयी. यह वीडियो देखें.



Archaeological Survey of India की रिपोर्ट

Facts of Ram Mandir accepted by Supreme Court

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा तैयार किये गए रिपोर्ट में मंदिर को तोड़कर बाबरी मस्जिद बनाने जाने  के कई वैज्ञानिक तथ्यों को उजागर किया गया. बाबरी मस्जिद की जगह प्रभु श्रीराम की जन्मभूमि ही हैं और इसे सिद्ध करने के लिए २ बार की गयी खुदाई से सामने आये सबूतों को अहम् मना गया.

बाबरी मस्जिद जहाँ कड़ी की गयी थी उस जगह १९७७ में पहली बार खुदाई की गयी थी. उस वक्त के भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के डायरेक्टर जनरल बी. बी. लाल थे. इस वर्ष की गयी खुदाई में ASI को पूरे १४ पिलर मिले. काले पत्थर के बने इस पिलर पर हिन्दू  पूजा पद्धति के कई सबूत मिले.


इस तरह के स्तम्भों की रचना मंदिरों के मंडपों के निर्माण में इस्तेमाल किया जाता हैं. यह पुख्ता प्रमाण हैं की उस वक़्त अस्तित्व में होनेवाले बाबरी मस्जिद के तल में एक मंदिर हैं. 

लेकिन सर्वधर्मसमभाव की बड़ी कीमत अदा करनेवाले इस देश में ASI के इन दावों को पूरी तरह खारिज करने की जैसे होड़ लगी रही. आरोप प्रत्यारोप चलते रहे. 

मगर २००३ में अलाहाबाद हाई कोर्ट द्वारा फिर से खुदाई के आदेश जारी किये गए. इस वक्त की गयी खुदाई में ASI के अफसरों में एवं मजदूरों में हिन्दू एवं मुसलमान दोनों धर्म विशेष के लोगों को शामिल किया गया था और अलाहाबाद कोर्ट के २ मजिस्ट्रेट हर खुदाई के वक़्त हाजिर रहते थे. साथ ही बाबरी मस्जिद एक्शन कमिटी एवं निर्मोही अखाड़ा के प्रतिनिधि भी होते थे. 

इसी कारन से इस खुदाई पर कोई भी प्रति प्रश्न खड़ा नहीं कर सकता था. इस खुदाई के दौरान कई नए नए सबूत सामने आते गए जिन्होंने वहा बाबरी मस्जिद के पूर्व मंदिर होने को प्रमाणित किया और इसी मंदिर को तोड़कर बाबरी मस्जिद का निर्माण किया गया. इतना ही नहीं इस मंदिर के कई अवशेषों को बाबरी मस्जिद बनाने में इस्तेमाल भी किया गया था. 

इस खुदाई में मंदिर में जलाभिषेक के पानी की निकासी के लिए जैसे मकरमुख बना होता है, उस तरह का प्रबंध किया गया था. मंदिर के कलश के भी कई अवशेष मिले थे. इसी खुदाई में एक पांच फ़ीट लम्बा और दो फ़ीट चौड़ा शीला लेख भी मिला जिसे विष्णुहरिशीला फलक कहते है. यह शिलालेख नागरी लिपि और संस्कृत भाषा में भी है. 

१९९२ में जब बाबरी ढांचा उधवस्त किया गया तो उसके दिवारो ने भगवान् राम का मंदिर की गवाही खुद ही दे दी. बाबरी मस्जिद के दिवार से एक पत्थर निकला। ये शिलालेख ग्यारहवीं शताब्दी का हैं.

पत्थर के इस टुकड़े ने बाबर से चार सौ साल पाहिले का इतिहास उजागर कर दिया. इस शिलालेख के लिपि विशेषज्ञ ए.एन. अत्रि और के वी.रमेश ने अवगत कराया. 

इसमें पुनर्निर्माण करने का वक्त, पुनर्निर्माण करनेवाले का नाम,मंदिर के देवता का नाम सबकुछ लिखा है. इस प्रमाण ने बता दिया की बाबरी मस्जिद के सैंकड़ो साल पहले यहाँ राम मंदिर ही था.

इस शीला लेख का सार कुछ इस प्रकार हैं. 

जो संसारो में विद्वानों में अग्रणी था और मेघ का पुत्र था... 
उसके भतीजे नयचन्द्र ने राजाओं में श्रेष्ठ गोविंदचंद्र के प्रासाद से
साकेत मंडल का आधिपत्य प्राप्त किया... 
टंको द्वारा उत्कीर्ण शैल शिखरों की भाँती शीला श्रेणी से युक्त स्वर्ण कलश वाले 
श्री विष्णुहरि के इस सुन्दर मंदिर का निर्माण करवाया... 
पूर्ण राजाओं द्वारा कभी न निर्माण करवाए जा सकने वाले,
इस सुन्दर मंदिर का निर्माण उसने संसार सागर को शीघ्र लांघ जाने के उद्देश्य से 
लघु चरणों का ध्यान करते हुए किया...
हिरण्यकशिपु को मारकर, वाणासुर को युद्ध में संयमित करके,
बलिराज के  बाहु का दलन करके, भूविक्रम  का दर्शन करानेवाले,
दुष्ट दशानन को मारनेवाला वह दूसरा कौन पुण्यशाली हो सकता हैं? 


इस शिलालेख से यह पूरी तरह सिद्ध होता हैं की मंदिरों के अवशेषों से ही मस्जिद बनायी गयी थी. मगर  इस बात पर भी विवाद खड़ा किया गया. अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें. 




महाकवि तुलसीदासजी की नजर से अयोध्या विवाद

Facts of Ram Mandir accepted by Supreme Court


बाबरी मस्जिद का निर्माण सन १५२८-१५२९ में किया गया था. इसी समय संत गोस्वामी तुलसीदास (१५३२-१६२३) अलौकिक प्रतिभा से ग्रंथों  निर्माण कर रहे थे, जिसमे रामचरितमानस एवं हनुमान चालीसा शामिल हैं.

ऐसे में संत तुलसीदास जी ने बाबरी मस्जिद के निर्माण एवं मंदिर ढहाने के विषय में काफी सारे दोहे लिखे और अपने और अपने ग्रन्थ 'तुलसी दोहा शतक' में शामिल किये. जिसे मा. सर्वोच्च न्यायलय के सामने गया. 

 उस समय मीर बाँकी और मुग़ल शासकों द्वारा हिन्दुओं पर की गयी बर्बरता के वर्णन भी तुलसीदास  हैं. वह लिखते हैं,
मन्त्र उपनिषद ब्राह्मनहूँ 
बहु पुराण इतिहास।
जवन* जराये रोष भरि
करि तुलसी परिहास। 
(अर्थ: क्रोध से भरे यवनों ने बहोत सारे ग्रन्थ, मन्त्र, इतिहास  उपहास करते हुए उन्हें नष्ट किया)

सीखा सूत्र से हीन करि
बल ते हिन्दू लोग। 
भमरि भगाये देश ते
तुलसी कठिन कुजोग। 
(अर्थ: हिन्दुओ की शिखा, एवं जनेऊ से विरहित कर यवनों ने उन्हें घर से और उनके मूल स्थानों से भगा दिया)

बाबर बर्बर आइके
कर लीन्हे करवाल। 
हने पचारि पचारि जन
तुलसी काल कराल। 
(अर्थ: हाथ में तलवार लिए आये बाबर ने हिन्दुओं पर बर्बरता की)

सम्बत सर वसु बान भर नभ 
ग्रीष्म ऋतु अनुमानि। 
तुलसी अवधहि जड़ जवन
अनरथ किए अनखानी। 
(अर्थ: संवत १५८५ विक्रम -सन १५२८ बाबरी मस्जिद का निर्माण समय- ग्रीष्मकाल में मुग़लों ने अयोध्या में वर्णन करने से परे अत्याचार किया)

आगे तो वह स्पष्ट रूप  से लिखते हैं,
 राम जनम मंदिर महिं
तोरि मसित बनाय। 
जबहि बहु हिंदुन हते
तुलसी कीन्हि हाय। 
(अर्थ: राम जन्म (मंदिर) को तोड़कर मस्जिद बनायी और साथ ही  बड़ी संख्या में स्थानीय हिन्दू निवासियों पर जुल्म किये जिससे तुलसीदास शोक में डूब गए)

दल्यो मीरबाकी अवध 
मंदिर राम समाज। 
तुलसी  रोवत ह्रदय अति 
त्राहि त्राहि रघुराज। 
(अर्थ: मीर बांकी ने राम मंदिर की मूर्तियों को नष्ट किया, यह देख तुलसीदास रोये)

राम मंदिर जनम जहँ 
लसत अवध के बीच। 
तुलसी रचित मसीद तहँ 
मीरबाँकी खल नीच। 
(अर्थ: छल करनेवाले मेरे बांकी ने अवध के बीचोबीच जहाँ राम मंदिर था, वहा मस्जिद बनायी)

रामायण घरि घँट जहँ
श्रुति पुराण उपखान। 
तुलसी जवन अजान तहँ
कुरान अजान। 
(अर्थ: जहां रामायण, वेद, श्रुति के स्वर गूंजते थे, वहां अब अजान के स्वर गूंजते हैं)

अंग्रेजो के शासन काल में अयोध्या विवाद

इतना ही नहीं, अंग्रेजो के शासनकाल में भी अयोध्या की विवादित जमीन पर हिन्दू पूजा करते थे. इससे सम्बंधित भी कई तथ्य सुप्रीम कोर्ट के सामने उजागर किये गए. 

इसी तरह के तथ्यों को सुप्रीम कोर्ट ने मान लिया, क्यूंकि ऐतिहासिक तथ्यों में बाबरी मस्जिद एक्शन कमिटी विवादित जमीन पर अपना मालिकाना हक़ सिद्ध करने में असफल रही, और सुप्रीम कोर्ट ने हिन्दू पक्ष के दावे को अधिकृत माना. 


इतना स्पष्ट रूप से निर्णय देनेवाले सुप्रीम कोर्ट पर अचूक ना होने का आरोप करना या तो असदुद्दीन ओवैसी की अज्ञानता का प्रतीक हो सकता हैं या उनकी जिहादी मानसिकता का प्रतीक. 

ओवैसी चाहे कुछ भी कहे, मगर भारत के मुस्लिमों ने जो सद्भाव समझदारी का परिचय दिया हैं, वह तो अभिनन्दन करने के पात्र हैं. 

यह विडिओ देखिये, आप खुद जान जाओगे भारत का मुसलमान बदल चूका हैं. अब बदलने की बारी ओवैसी जैसे लोगों की हैं.

हाफिज गुलाम सरवर नामक इस मौलाना को सुनाने के बाद ऐसा पता चलेगा की अब ओवैसी जैसे लोगों को इस समाज में कोई जगह हैं.

babri masjid, babri.masjid, babri masjid case, 

ram mandir ayodhya proof in hindi

babri masjid demolition, babri masjid ayodhya, babri masjid in ayodhya, babri masjid attack, babri masjid news, babri masjid history, babri masjid video, babri masjid photo, ram janmbhoomi, ram janmabhoomi, ayodhya ram janmabhoomi, ram ki janmabhoomi, ram mandir ayodhya, ayodhya ram mandir, ram mandir ayodhya video, ram mandir in ayodhya video, ram mandir ayodhya history, ram mandir ayodhya photo, ram mandir ayodhya history in hindi,


Post A Comment
  • Blogger Comment using Blogger
  • Facebook Comment using Facebook
  • Disqus Comment using Disqus

No comments :


Current Affairs

[Current Affairs][bleft]

Climate change

[Climate Change][twocolumns]

Lifestyle

[Lifestyle][twocolumns]

Animal Abuse

[Animal Cruelty][grids]