technology

[Technology][threecolumns]

Health

[Healthcare][bleft]

Business

[Business][twocolumns]

Network Marketing

[Network Marketing][grids]

Climate change and its Impact on creatures

Read this article in Hindi


Climate change and it's Impact on creatures
Olympic National Park: Lilian Glacier (Image source: Google)

The biggest effects of climate change are highly visible on the season cycle. The greatest damage to the changing weather cycle is happening to animals. Due to increasing fire incidents in the forest, many species are moving to new places.

Studies by researchers around the world have modified the temperature increase on the Earth's surface as well as the atmosphere and oceans.

In the same amendment done by scientists of the University of Michigan, it has been found that birds of more than 40 species have increased in size of wings and birds of more than 52 species are getting smaller in size. This observation has been issued after practicing birds from 1979 to 2014 in this revision, which published in the journal 'ECOLOGY LETTERS'.



Climate change and it's Impact on creatures




In the same amendment, it has also been recorded that the number of birds of more than 49 species has come down drastically.

Scientists measured the bone, beak length, wings and body size of birds. In birds, the length of Tarsus* is counted as the most perfect change in the body. Researchers have observed that the tarsus length of the bird decreases in the body's body and vital organs. The length of the tarsus has decreased by 2.4 percent, while the length of the wings has increased by 1.3 percent.

(*Tarsus: The shank of the bird is usually exposed and the length from the inner bend of the tibiotarsal articulation to the base of the toes which is often marked by a difference in the scalation is used as a standard measure. In most cases, the tarsus is held bent but in some cases, the measurement may be made of the length of this bone as visible on the outer side of the bend to the base of the toes. Source: Wikipedia)

According to Brian Weeks, an assistant professor at the University of Michigan and the lead author of this report on birds, we can tell from previous studies that body size is decreasing as a result of rising temperatures. However, the continuation of this change is disappointing.

It is surprising that rising temperatures are having almost the same effect on all species. The causal relationship between rising temperature and the body of birds is illustrated by this report. It is also being speculated that the size relationship that may decrease due to increasing temperature maybe for a long time.

What is Bergmann's Rule

Climate change and it's Impact on creatures
Image source: Google
According to Bergman's law, there is a theory of the size of creatures being large in cold weather and small in size in the hot environment.


Climate change and it's Impact on creatures
Image source: Google

Climate change is a big challenge


Climate change has become a big challenge for the world. To deal with this crisis, all the countries around the world have not yet agreed, due to which the subject has become a very serious form now. In the United Nations Conference related to the environment in Berlin, the hope of a consensus on climate change is being expressed by environmental lovers.

The trade between, high carbon emission countries and low carbon emission countries are called the Global Carbon Trading System. 

Facts of climate change

  • From the year 1880 till today, 4 years of the highest summer came in which 2018 was also one.
  • According to NASA's findings, the temperature was reached at its high in 2015 to 2018 & a temperature increase of 0.83% was recorded in compare to 1951 to 1980. This means extreme temperatures were recorded in the last 4 years. And it is also being speculated that in the coming few years it can increase by 1.5%.
  • Compared to 1880, a 1% increase in the temperature of the earth is being recorded in the last few years. The reason for this change is that carbon dioxide and greenhouse gases dissolve in the Earth's atmosphere.


According to a report published in October 2014 last year, if global warming is not stopped here, then in the coming years, the increased amount of heat, drought,  hunger, and poverty can be seen. This conclusion has been drawn from more than 6000 exercises by 91 researchers from 40 countries. Click on the link for more information
    Climate change and it's Impact on creatures


      Climate change indicators are becoming more apparent. In 2016, the level of carbon dioxide was 357.0 per million, it has increased to 405.5 parts in 2017. It is expected to increase further in 2019.


      Main causes of climate changes

      Several types of research have shown that the main cause of climate change is humans themselves. Greenhouse gases, the emission of excessive amounts of carbon dioxide created by burning of fuel, cutting of forests and trees. Industries are also said to have a much larger role in man-made global warming. Industrialization is being blamed for an additional 40% of carbon emissions in the last 60 years.

      This year, a huge fire in the Amazon forest was also caused by human damage to the environment, on which we wrote an article. Click to read more

      The main cause behind the excess acid found in the ocean's waters is the chemicals released by the industries into the rivers. 


      Climate change and it's Impact on creatures


      According to the report released on 23 September 2019, the President of the World Meteorological Organization said -
      1. With the rise in land and sea temperatures, there is a record break hike in sea level and emission of greenhouse gases till now. 
      2. Dramatic and more changes in weather conditions are also being seen. Last year (2018) saw 14 disasters related to weather and climate change in the US alone, where the devastation caused a loss of US $ 49 billion dollars. Worldwide, more than 35 million people have been affected by the floods. Cyclone Idai is a recent example in southern Africa, as was expected.
      3. The impact of climate change on public health is increasing and its fatal consequences are coming out. Since the beginning of this century, the average number of people exposed to heatwave has increased by about 125 million. The United Nations Secretary-General said that extreme heat and air pollution walking together is proving increasingly dangerous, especially as long as the heatwaves become longer, more intense and persistent. 

      In reality, this report is a strong wake-up call. This proves that we have been saying that climate change is moving faster than our efforts to prevent it.

      Is the next generation be more sensitive to climate change?



      While writing this article, good news came. Greta Thunberg is a 16-year-old youth activist fighting against climate change, who was awarded Person of the Year by Time magazine.

      How dare you play with our future by throwing hollow words at us…? Greta Thunberg, who spoke these words and made a mark on social media, print media and digital media, has received Time magazine's 'Person of the Year'.

      Greta Thunberg is the youngest to receive this honor at the World Climate Change Conference held in New York with the United Nations General Assembly, asking such a question to the world's biggest leaders.




      In the year 2018, she ran away from school and performed outside Sweden's parliament. She raised slogans of 'Save the Earth and the Environment'. From that moment, the movement spread like a flame across the world. Under this, 'Earth Summit' now runs in more than a hundred countries.


      Greta's work has been praised on many levels and she has also received the 'Right Livelihood Award' ** which is seen as an alternative Nobel Prize.

      (**The Right Livelihood Award is an international award to "honour and support those offering practical and exemplary answers to the most urgent challenges facing us today." The prize was established in 1980 by German-Swedish philanthropist Jakob von Uexkull, and is presented annually in early December)


      Greta, who brought her public awakening to climate change by stopping her education, also spoke at the World Economic Conference in Davos last year. After that, she joined the NewYork WEATHER CONFERENCE. There, Greta lashed out at the apathetic leaders for curbing carbon emissions.

      Greta arrived in the United States on a solar-powered yacht to avoid carbon emissions. It took a period of 15 days to travel her from Britain to America.

      A book of her speeches titled 'No One Is Too Small to Make a Difference' has also been published. This book is also available on Amazon for sale. Click here to buy this book.



      Greta has dedicated the funds from the sale of this book to organizations with climate change awareness.

      Greta, who is staying away from her school life, doesn't like everything. "You have taken away our childhood, our school, our happiness. How dare you?", she said in the Climate Council.



      Greta believes that leaders and CEOs of large companies around the world are pretending to work against climate change. Because nothing happens without accountability thinking and creative public relations. He recently spoke at the ongoing United Nations Climate Discussion (COP25) in Madrid.



      At the time, she criticized politicians. Greta also alleged that "businessmen and political leaders are misleading people on climate issues.


      Greta says,

      "What you do now we children can't undo in the future.

      So please, treat the crisis as the crisis it is and give us a future.

      Our lives are in your hands"


      Like Greta, many youths is coming forward and bringing their inner will to the world to deal with this crisis. 


      Carbon emissions and India's efforts

      As we know, India comes third in the world, in carbon emissions. China is at number one, America at second. Both of these also come in developed nations, and India comes in the list of underdeveloped countries. But India's efforts also show the sharpest will to overcome this crisis.

      Although India can increase its contribution to this issue, it should also be increased. That is why there is a need for young people to come forward in India. Our thousands of years of culture have definitely taught us how to walk with nature. And we need to take it forward.

      Watch this report by BBC




      climate change, climate change news, climate change definition, is climate change real, is climate change a hoax, climate change 2019, climate change report, climate change solutions, climate change poster, climate change vs global warming, climate change un, climate change quotes, climate change the facts, is climate change caused by humans, climate change un report, climate change quotation,







      जलवायु परिवर्तन और जीवों पर इसके दुष्प्रभाव


      Climate change and it's Impact on creatures
      Olympic National Park: Lilian Glacier (Image source: Google)

      जलवायु परिवर्तन का सबसे बड़ा प्रभाव ऋतु चक्र (Season cycle) पर अत्यधिक दिखाई दे रहा हैं. बदलते मौसम चक्र का सबसे ज्यादा नुक्सान प्राणियों पर हो रहा हैं. जंगल में बढ़ती हुयी आग की घटनाओं की वजह से कई प्रजातियां नए स्थानों पर जा रही हैं.

      दुनिया भर के शोधकर्ताओं द्वारा किए गए अध्ययनों ने पृथ्वी की सतह और साथ ही वायुमंडल और महासागरों में तापमान में वृद्धि का संशोधन किया है।

      इसी तहत मिशिगन यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों द्वारा किये गए संशोधन में पाया गया हैं ४० से ज्यादा प्रजातियों के पक्षियों पंखों के आकार में वृद्धि हुयी हैं और ५२ से ज्यादा प्रजाति के पक्षियों का आकार छोटा हो रहा हैं. 'ECOLOGY LETTERS' नामक जर्नल में  प्रसिद्ध हुए इस संशोधन में १९७८ से लेकर २०१६ तक पक्षियों का अभ्यास करने के बाद यह निरिक्षण जारी किया गया हैं. 


      Climate change and it's Impact on creatures


      इसी संशोधन में यह भी दर्ज किया गया हैं की ४९ से ज्यादा प्रजातियों के पक्षियों की संख्या में भारी गिरावट आयी हैं. 

      वैज्ञानिकों द्वारा पक्षियों के पैरों की हड्डी, चोंच की लंबाई, पंखों और शरीर के साइज को मापा. पक्षियों में टारसस (Tarsus*) की लंबाई को शरीर में हो रहे बदलावों को सबसे सटीक तरीके से गिना जाता हैं. शोधकर्ताओं ने देखा है कि पक्षी की टारसस लंबाई, शरीर के वस्तुमान और महत्वपूर्ण अंगों में कम होती जाती है. टारसस की लंबाई 2.4  प्रतिशत कम हो गई है, जबकि पंखों की लंबाई में 1.3 प्रतिशत की वृद्धि हुई है.

      (*Tarsus: The shank of the bird is usually exposed and the length from the inner bend of the tibiotarsal articulation to the base of the toes which is often marked by a difference in the scalation is used as a standard measure. In most cases, the tarsus is held bent but in some cases, the measurement may be made of the length of this bone as visible on the outer side of the bend to the base of the toes. source: Wikipedia)

      मिशिगन विश्वविद्यालय सहायक प्रोफेसर और पक्षियों पर इस रिपोर्ट के प्रमुख लेखक ब्रायन वीक्स के अनुसार, हम पिछले अध्ययन से कह सकते हैं कि बढ़ते तापमान के परिणामस्वरूप शरीर का आकार कम हो रहा है. हालाँकि, इस परिवर्तन की निरंतरता निराशाजनक है.

      यह आश्चर्यजनक बात है कि बढ़ते तापमान का सभी प्रजातियों पर लगभग समान प्रभाव पड़ रहा है. बढ़ते तापमान और पक्षियों के शरीर के बीच कारण संबंध इस रिपोर्ट द्वारा चित्रित किया गया है. अनुमान यह भी लगाया जा रहा हैं की बढ़ते हुए तापमान की वजह से कम होने वाले आकार सम्बन्ध लम्बे समय के लिए हो सकता हैं. 


      What is Bergmann's Rule

      Climate change and it's Impact on creatures
      Image source: Google
      Bargmann's Rule के अनुसार भी ठन्डे मौसम में प्राणियों के आकार बड़े होने और गर्म वातावरण में आकार में छोटे होने का सिद्धांत होता हैं. 

      Climate change and it's Impact on creatures
      Image source: Google

      Climate change is a big challenge

      जलवायु परिवर्तन दुनिया के लिए एक चुनौती बन बैठा हैं. इस संकट से जूझने के लिए अभी तक दुनियाभर के सभी देशों में सहमति नहीं हो पायी हैं, जिससे यह विषय आज भी काफी गंभीर स्वरुप ले चूका हैं. बर्लिन में हो रहे पर्यावरण से सम्बंधित संयुक्त राष्ट्र सम्मलेन में जलवायु परिवर्तन पर आम सहमति बनने की आशा पर्यावरण प्रेमियों द्वारा व्यक्त की जा रही हैं. 

      उच्च कार्बन उत्सर्जन करनेवाले देश और कम कार्बन उत्सर्जन वाले देशों के बीच होनेवाले व्यापारी लेनदेन को ग्लोबल कार्बन ट्रेडिंग सिस्टम कहा जाता हैं. 

      Facts of climate change

      • सन 1880 से लेकर आज तक सबसे ज्यादा गर्मी के 4 वर्ष आये जिसमे 2018 भी एक था.
      • नासा के निष्कर्ष के अनुसार 1951 से लेकर 1980 के बीच के तापमान का मध्य निकला गया और तुलना में 2015 से 2018 में 0.83% तापमान वृद्धि दर्ज की गयी. मतलब यह 4 वर्ष में अत्यधिक तापमान दर्ज किया गया. और अनुमान यह भी लगाया जा रहा हैं की आनेवाले कुछ वर्षों में इसमें वृद्धि होकर 1.5% तक बढ़ सकता हैं. 
      • सन 1880 की तुलना में गत कुछ वर्षों में धरती के तापमान में 1% वृद्धि दर्ज की जा रही हैं. इस बदलाव के लिए कार्बन डाइऑक्साइड का एवं ग्रीन हाउस गैसेस का वातावरण में घुलने का कारण बताया जा रहा हैं. 


      गत वर्ष अक्टूबर २०१८ में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार अगर ग्लोबल वार्मिंग को यहीं पर रोका नहीं गया तो आनेवाले कुछ वर्षों में गर्मी, सूखा, बाढ़ एवं भूखमरी और गरीबी की मात्रा में बढ़ोतरी देखी जा सकती हैं. 40 देशों के 91 संशाधकों द्वारा 6000 से ज्यादा अभ्यासों से यह निष्कर्ष निकला गया हैं. अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें. 
        Climate change and it's Impact on creatures


          जलवायु परिवर्तन इंडीकेटर्स अधिक स्पष्ट होते जा रहे हैं. २०१७ में कार्बन डाइऑक्साइड का स्तर प्रति मिलियन 357.0  था वह 2017 में 405.5 भागों तक बढ़ गया हैं. २०१९ में इसमें और वृद्धि होने की अपेक्षा रही हैं. 


          Main causes of climate changes

          कई संशोधनों से यह पता चला हैं की जलवायु परिवर्तन का मुख्य कारण मानव खुद हैं. ग्रीन हाउस गैसेस, ईंधन के जलने से निर्मित अति मात्रा में कार्बन डाइऑक्साइड का उत्सर्जन, जंगलों एवं वृक्षों की कटाई. मनुष्य निर्मित ग्लोबल वार्मिंग में इंडस्ट्रीज का भी काफी बड़ा रोल बताया जाता हैं. विगत 60 वर्षों में अतिरिक्त 40% कार्बन उत्सर्जन के लिए औद्योगिकीकरण को जिम्मेदार बताया जा रहा हैं.

          इस वर्ष अमेज़न जंगल में लगी भीषण आग भी मानव द्वारा पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने की वजह से ही लगी थी जिसपर लिखा गया हमारा आर्टिकल पढ़िए.

          महासागरों के पानी में अतिरिक्त एसिड पाए जाने के पीछे इंडस्ट्रीज द्वारा नदियों के पानी में छोड़े जानेवाले केमिकल्स मुख्य कारण रहे हैं. 


          Climate change and it's Impact on creatures


          23 सितम्बर २०१९ को जारी रिपोर्ट के अनुसार World Meteorological Organization के अध्यक्ष ने कहा की-
          1. जमीन और समुद्र के तापमान में वृद्धि के साथ समुद्र के स्तर में तथा ग्रीन हाउस गैसेस के उत्सर्जन में रिकॉर्ड ब्रेक वृद्धि देख हैं. 
          2. मौसम की स्थिति का नाटकीय एवं अधिक बदलाव भी देखे जा रहे हैं. पिछले साल (2018) में अमेरिका में, 14 मौसम और जलवायु बदलाव से जुडी आपदाओं को देखा, जहां तबाही की वजह से  यूएस $49 बिलियन डॉलर का नुकसान हुआ. दुनिया भर में, 35 मिलियन से अधिक लोग बाढ़ से प्रभावित थे. दक्षिणी अफ्रीका में चक्रवात इडाई एक हाल ही का उदाहरण है, जैसा कि अनुमान किया गया था.
          3. सार्वजनिक स्वास्थ्य पर जलवायु परिवर्तन का प्रभाव बढ़ रहा है और उसके घातक परिणाम सामने आ रहे हैं. इस सदी की शुरुआत के बाद से हीटवेव के संपर्क में आने वाले लोगों की औसत संख्या में लगभग 125 मिलियन की वृद्धि हुई है. संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने कहा कि अत्यधिक गर्मी और वायु प्रदूषण का एकसाथ चलना तेजी से खतरनाक साबित हो रहा है, खासकर जब तक कि हीटवेव लंबी, अधिक तीव्र और लगातार होती जायेगी. 

          वास्तविकता में यह रिपोर्ट मजबूत वेक-अप कॉल है. यह साबित करता है कि हम यह कहते रहे हैं कि जलवायु परिवर्तन हमारे प्रयासों की तुलना में तेजी से आगे बढ़ रहा है.

          आने वाली पीढ़ी जलवायु परिवर्तन के प्रति अधिक संवेदनशील होगी?


          ये आर्टिकल लिखते समय ही एक अच्छी न्यूज़ आयी. Greta Thunberg, एक 16 वर्षीय युवा कार्यकर्ता हैं जिसे टाइम मैगज़ीन द्वारा पर्सन ऑफ़ द ईयर का सन्मान दिया गया. 

          आप हमारे ऊपर केवल खोखले शब्दों को फेंककर हमारे भविष्य के साथ खिलवाड़ करने की हिम्मत कैसे कर करते हैं ...? इन शब्दों को बोलकर सोशल मीडिया लेकर प्रिंट मीडिया एवं डिजिटल मीडिया पर धूम मचाने वाली ग्रेटा थनबर्ग को टाइम मैगज़ीन का' पर्सन ऑफ द ईयर' मिला हैं.

          न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा के साथ हुए विश्व जलवायु परिवर्तन सम्मेलन में इस तरह का सवाल तमाम दुनिया के बड़े नेताओं के सामने उपस्थित करनेवाली वाली ग्रेटा थनबर्ग यह सम्मान पाने वाले सबसे कम उम्र की युवा हैं.



          वर्ष 2018 में, स्कूल से भागकर स्वीडन की संसद के बाहर प्रदर्शन किये थे. उसने 'पृथ्वी और पर्यावरण को बचाओ' के नारे लगाए। उस क्षण से, आंदोलन दुनिया भर में एक लौ की तरह फैल गया. इसी के तहत अब सौ से अधिक देशों में 'वसुंधरा मेले' चलते हैं.

          ग्रेटा के इस काम की कई स्तरों में प्रशंसा की गई है और वह 'राइट लाइवलीहुड अवार्ड'** जिसे वैकल्पिक नोबेल पुरस्कार  की नजर से देखा जाता हैं, यह पुरस्कार भी उन्होंने प्राप्त किया हैं.

          (**The Right Livelihood Award is an international award to "honour and support those offering practical and exemplary answers to the most urgent challenges facing us today." The prize was established in 1980 by German-Swedish philanthropist Jakob von Uexkull, and is presented annually in early December)


          अपनी शिक्षा को रोक कर जलवायु परिवर्तन की जन जागृति लाने वाले ग्रेटा ने पिछले साल दावोस में विश्व वित्त सम्मेलन में भी अपनी बात राखी थी. उसके बाद, वह न्यूयॉर्क वेदर कॉन्फ्रेंस (NEWYORK WEATHER CONFERENCE) में शामिल हुईं। वहां, ग्रेटा ने कार्बन उत्सर्जन पर अंकुश लगाने के बारे में उदासीन नेताओं को आड़े हाथों लिया था. 

          ग्रेटा कार्बन उत्सर्जन से बचने के लिए, सौर-चालित नौका पर संयुक्त राज्य अमेरिका में पहुंची थी. इस  उन्हें ब्रिटैन से अमेरिका पहुँचाने में 15 दिन की अवधी लगी थी. 

          'No One Is Too Small to Make a Difference' इस नाम से उनके भाषण की एक पुस्तक भी प्रकाशित हुयी हैं. अमेज़न पर भी यह पुस्तक उपलब्ध हैं. यह पुस्तक खरीदने के लिए क्लिक करें




          ग्रेटा ने इस पुस्तक बिक्री से मिलने वाली राशि जलवायु परिवर्तन की जनजागृति वाले संगठनों समर्पित की हैं. 

          अपनी स्कूली जीवन से दूर रह रही ग्रेटा को यह सब कुछ पसंद हैं ऐसा बिलकुल नहीं. "हमारा बचपन, हमारी स्कूल, हमारी खुशियां आप लोगों ने छीन ली हैं," ऐसा उन्होंने जलवायु परिषद् के अपने भाषण में कहा था. 



          ग्रेटा मानती हैं की दुनियाभर के नेता एवं बड़ी कंपनियों के सीईओ जलवायु परिवर्तन के खिलाफ काम करने का नाटक कर रहे हैं. 
          क्योंकि जवाबदेही की सोच और रचनात्मक जनसंपर्क के बिना कुछ नहीं होता है. उन्होंने हाल ही में मैड्रिड में चल रहे संयुक्त राष्ट्र जलवायु चर्चा (COP25) में बात की.

          उस समय, उन्होंने राजनीतिज्ञों की आलोचना की। ग्रेटा ने यह भी आरोप लगाया कि "व्यापारी और राजनीतिक नेता जलवायु मुद्दों पर लोगों को भ्रमित कर रहे हैं

          इसीलिए ग्रेटा थनबर्ग कहती हैं,

          "हम आज जो भी (पृथ्वी का विनाश) कर रहे हैं, उसे हमारे बच्चे दुरुस्त नहीं कर पाएंगे.

          संकट को संकट ही समझे, और हमें हमारा भविष्य प्रदान कीजिये.

          हमारी जिंदगी अब आपके हाथों में हैं." 


          "What you do now we children can't undo in the future. So please, treat the crisis as the crisis it is and give us a future. Our lives are in your hands"


          एक के बाद एक युवा आगे आ रहे हैं और इस संकट से निबटने के लिए उनकी अंदरूनी इच्छाशक्ति को दुनिया के सामने ला रहे हैं. 


          कार्बन उत्सर्जन और भारत के प्रयास

          जैसे की हम जानते हैं, कार्बन उत्सर्जन में भारत का दुनिया में तीसरा नंबर आता हैं. पहले नंबर पर चीन, दुसरे पर अमेरिका हैं. ये दोनों भी विकसित राष्ट्रों में आते हैं, और भारत विकसित होनेवाले देशों की सूची में आता हैं. मगर भारत के प्रयासों में भी इस संकट से जूझने के लिए लगने वाली तीव्रतम इच्छाशक्ति दिखाई देती हैं.

          हालांकि भारत इस विषय में अपने योगदान को बढ़ा सकता हैं, और बढ़ाना भी चाहिए. इसीलिए भारत में युवाओं के आगे आने की जरुरत हैं. हमारी हजारो साल के संस्कृति ने हमें प्रकृति के साथ एक रूप होकर चलने की सीख जरूर दी हैं. और हमें इसे आगे ले जाने की जरुरत हैं.

          ये बीबीसी की रिपोर्ट देखिये.





          हम जाग चुके हैं, आप कब जागोगे?



          climate change, climate change news, climate change definition, is climate change real, is climate change a hoax, climate change 2019, climate change report, climate change solutions, climate change poster, climate change vs global warming, climate change un, climate change quotes, climate change the facts, is climate change caused by humans, climate change un report, climate change quotation,



          Post A Comment
          • Blogger Comment using Blogger
          • Facebook Comment using Facebook
          • Disqus Comment using Disqus

          No comments :


          Current Affairs

          [Current Affairs][bleft]

          Climate change

          [Climate Change][twocolumns]

          Lifestyle

          [Lifestyle][twocolumns]

          Animal Abuse

          [Animal Cruelty][grids]