technology

[Technology][bleft]

Health

[Healthcare][bleft]

Business

[Business][bleft]

Network Marketing

[Network Marketing][bleft]

An organ donor can save hundreds of lives!

An organ donor can save hundreds of lives!
Image source: Google


Read this article in Hindi

The technology of organ donation has given new life to many people in today's era. Body parts of a living or brain dead person can now be transplanted to a needy person. While donating the organ, whether the organ donor or his relatives, take a step that makes it possible to survive even after death. We often hear that after death, a person donating an organ can give life to 6 - 7 people by giving them their organs.


But some people rise above this and do such a thing, can save the lives of hundreds of people.

Today's true story is something like this, just like a film story! These stories are emerging as a new ray of hope in society.

By the way, we either blame God for our little problems or our luck. Untoward can happen to anyone, anywhere and anytime. But even those who dodge death, when they take a new breath, get deep inspiration for thousands of people to fight untoward.



Very motivational story...!


This is the story of a highly qualified woman Mrs. Komal Godse-Pawar! Komal, who lives in the Satara district of Maharashtra, is an assistant professor in an engineering college in this city.

After doing a Bachelor in Engineering, Komal is moving forward to marry and live her life like a common man. But soon she suffered an incurable ailment at the age of 25.

In the first phase of this incurable disease, she started feeling dizzy and tired. This is not a symptom of some specific illness, so she ignored it for some days, but one day when she was vomit bleeding while teaching in class, he felt the pain of some serious illness.

After some check-ups of the primary form, she was diagnosed with a disease called primary pulmonary hypertension. It is a rare lung disease in which the blood vessels in the lung become narrow and the pressure in the pulmonary artery is much higher than the normal level. The pulmonary arteries carry blood from your body to the lungs.

This is a serious and untreated chronic disease whose next stage is heart failure.

Due to this illness, Mrs. Komal had to stay for 24 hours on artificial oxygen. According to doctors, Komal's survival probability was only one percent. While no medicines for this disease could be modified yet, she was brought from Pune to Satara and started giving experimental medicines.

During this period, the situation of Mrs. Komal's health desperately down, day by day. After a few days, his weight dropped from 56 kg to only 20 kg. In this period full of afflictions, she has night and day blood vomiting.

In these difficult situations, sleeping on the bed surrounded her by bedsore. Even though Komal was not told that she was under siege by some incurable disease, but seeing her condition, she had sensed that something was going wrong, so she was also a victim of depression several times.

In such a situation, her courage was definitely saluted, but a lot of mental pressure on her husband, who knew everything about Komal's situation, but Komal got a sign of courage from him in this situation.

Due to the no medicine in allopathy, Komal's husband continued to search for ailments like Ayurvedic, Homeopathy in every nook and corner of the country. In such a situation, Komal had many times thoughts of suicide in his mind. But due to the efforts of Komal's husband Dheeraj's efforts, Komal also maintained her sharpest will to live.


But despite this, Komal's health was getting worse. The amount of oxygen applied to them was increasing day by day. Now only one percent was left hopeful.

There was no other synonym except LUNG TRANSPLANT. So Komal was taken to the Global Hospital Chennai where the team of renowned cardiothoracic surgeon Dr. Sandeep Attavar was kept under observation.


But here, another bad news was waiting for Komal. Now, along with lung failure, the diagnosis of heart failure also came to light. Now, there was no option to transplanting the heart along with the lungs.

This was the only example of transplanting so many organs simultaneously. Earlier, Dr. Attavar had done a lot of organ transplantation, but he saw a challenge in Komal's case. The middle-class family of Komal also found it difficult to add a huge amount like 50 lakhs for this transplant surgery. Already, her family had spent more than Rs 10 lakh in the last 2 years.

But says where there is a will, there is a way. People were called for donations through social organizations, social media, print media. The people of Maharashtra, while presenting the example of their royal heart, deposited this amount within 15 days only.

Komal still believes that it was not just money. It was accompanied by the blessings and goodwill given by the people who once again provided an opportunity for them to take an open breath.

But yet another challenge stood in front of the doctor's team. Where to get a donor for donating organs? Komal's weight which had come down to 20 kg, required the organs of a child for her.


Anyway, getting donors to donating organs is not an easy thing. People wait for several years and while waiting for something, they lose their lives. In such a situation, getting the organs of a brain-dead child was a very difficult task.

In this game of hope despair, Komal's courage was close to breaking, all hopes were seen to be over. .... but maybe Komal's inner power worked here too. And finally, Komal got the parts of a child.

The 16-hour-long surgery was carried out by a team of 30 doctors. Later Komal was kept under observation for 3 days. 3 days later, when Komal was asked to take her breath… ... it was the first breath of her rebirth.

His rebirth was possible only due to the parents of the dead child donating the organ, this is the ultimate truth. This child is probably still alive inside Komal.


Now Komal is very healthy and agile. But these two and a half years of illness had changed the purpose of his life.


She started an organization called "Komal New Life Foundation". The patients who are in need of an organ transplant, Komal now guides and counsels them, inspiring them, like her, those patients can also emerge from it.

By the efforts of this institution of Komal, more than 170 organ transplant patients have got a new life so far. Donating an organ by a child and saving the life of a gentle person is not the lesson of this story. The life gift he got, is now proving to be a boon for the same society.

Komal's story is spoken by her







Let us understand

the process of ORGAN DONATION


Which organs that can be donated?

Liver, Kidney, Pancreas, Heart, Lung, Intestine.

Heart Transplant

An organ donor can save hundreds of lives!
Image source: Google

Lung Transplant

An organ donor can save hundreds of lives!
Image source: Google


Kidney Transplant



An organ donor can save hundreds of lives!
Image source: Google

Who can donate organs?

Living Donor: Any person not less than 18 years of age, who voluntarily authorize the removal of any of his organ and/or tissue, during his or her lifetime, as per prevalent medical practices for therapeutic purposes.

Deceased Donor: Anyone, regardless of age, race or gender can become an organ and tissue donor after his or her Death (Brainstem/Cardiac). Consent of near relative or a person in lawful possession of the dead body is required. If the deceased donor is under the age of 18 years, then the consent required from one of the parents or any near relative authorized by the parents is essential. Medical suitability for donation is determined at the time of death.

How many types of organ donation?

i)Living Donor Organ Donation: A person during his life can donate one kidney (the other kidney is capable of maintaining the body functions adequately for the donor), a portion of pancreas (half of the pancreas is adequate for sustaining pancreatic functions) and a part of the liver (the segments of liver will regenerate after a period of time in both recipient and donor).

ii)Deceased Donor Organ Donation: A person can donate multiple organs and tissues after (brain-stem/cardiac) death. His/her organ continues to live in another personӳ body...

Who can donate organs?


Living Donor: Any person not less than 18 years of age, who voluntarily authorize the removal of any of his organ and/or tissue, during his or her lifetime, as per prevalent medical practices for therapeutic purposes.


Deceased Donor: Anyone, regardless of age, race or gender can become an organ and tissue donor after his or her Death (Brainstem/Cardiac). Consent of near relative or a person in lawful possession of the dead body is required. If the deceased donor is under the age of 18 years, then the consent required from one of the parents or any near relative authorized by the parents is essential. Medical suitability for donation is determined at the time of death.



You can be a donor by expressing your wish in the authorized organ and tissue donation form (Form-7 As per THOA). You may pledge to donate your organs by signing up with our website www.notto.nic.in and register yourself as donor or for offline registration you may download Form 7 from our website. You are requested to fill the form 7 and send the signed copy to NOTTO at below-mentioned address:



NATIONAL ORGAN AND TISSUE TRANSPLANT ORGANISATION (NOTTO)


4th Floor, NIOP Building, Safdarjung Hospital Campus, New Delhi-110029



A-In India there is a growing need for organ and tissue transplants due to a large number of organ failures. As there is no organized data available for the required organs, the numbers are only estimates. Every year, the following a number of persons needs organ/tissue transplant as per organ specified:

How many patients are on the waiting list of organ transplants in India?


There are millions of patients waiting for organ transplants in India, who are in dire need of organs. 

Kidney transplant patients 2,50,000

Liver transplant patients 80,000

Heart transplant patients 50,000

Cornea transplant patients 1,00,000

Such a large number of patients are waiting for organ donation and tissue donation. This list is not official, as there is no mechanism to collect the data of such patients, while this rate is that this list can increase further. Due to the presence of large amounts of organ failure, it is increasing.



There is a dire need to increase public awareness of organ transplants and organ donation in India. In such a situation, it is also necessary to get support from common Indian people for the efforts made by service organizations like Komal New Life Foundation.



Therefore, the process of organ donation needs to be converted into a movement.



Can we all donate organs?

Yes, you and I can save many lives by joining this organ donation process. For this, we can write to

NOTTO (National & TISSUE TRANSPLANT ORGANIZATION, National Level Organization set up under Directorate General of Health Services, Ministry of Health and Family Welfare, Government of India) about their willingness to donate.



NATIONAL ORGAN AND TISSUE TRANSPLANT ORGANISATION

4th Floor, NIOP Building,

Safdarjung Hospital Campus,


New Delhi-110029


http://notto.nic.in



Go to the download section of this website and download Form-7 and according to your wish, fill-up this form and sign it. And send it to the address given below.


Which state of India is ahead in Organ Transplant?


Maharashtra has won the best state award by the central government for creating effective movement by calling it 'Organ donation is the best donation'. Maharashtra was honored at the National Organ and Tissue Transplant Organization (Noto), event organized on 10th National Organ Donation Day. The crown of honor has been planted in the head of the Maharashtra state.



A special program was organized by Noto on Saturday, November 30, 2019, on the occasion of National Organ Donation Day. Under this program, the states that contributed to the organ donation movement were honored.

The awards were announced on the basis of data from the period from November 2018 to October 2019. Accordingly, Union Health Minister Dr. Harshavardhan said that Maharashtra performed best in the organ donation movement. Maharashtra state was given the best state award by Dr. Harshvardhan.

Director of Roto-Soto (Western Region) Lobo Gajiwala accepted the award. Speaking on this, 'It is a proud moment for all of us to get Maharashtra the best state award for organ donation. The Central Government has honored the efforts made by Maharashtra for the awareness generation of the organ transplant. Ghaziwala expressed such feelings.

In the latter part of the program, Dr. Harshvardhan thanked everyone who donated the organ and worked for the organ donation movement. As well as the oath of organ donation has taken the attendees.

- Organs sent for transplantation - 446

- Transplanted organs - 449 (including organs transplanted to Maharashtra from other states)


- Braindead Patients - 193

- Braindead patient implanted for transplantation - 153

- Organ donation awareness programs organized by Roto-Soto, ZTCC and other social organizations  - 153

- Mumbai is the first of the constituents in Maharashtra and Pune is the second largest


- Organ Transplant Coordinator Surekha Joshi is honored as the Best Transplant Coordinator. Work for organs since 1979. Organ transplant coordination at Ruby Hall Clinic in Pune.


The heart-touching story of Rivyani Rahangdale

Image courtesy: The Indian Express

The parents of the six-year-old girl Rivyani Rahangdale were also honored in this ceremony in Delhi. After Rivyani died in an accident, her parents decided to donate her organs. Rivani's heart was transplanted in a 4-year-old girl from Mumbai. Her kidney is implanted in a 14-year-old boy from Nagpur. The liver has also been donated to a needy patient in Nagpur. With her twinkling eyes, two lives can see the world.





अंगदान महादान: 6 साल की ब्रेन-डेड बच्ची ने 4 लोगों को दी नई ज‍िंदगी

In school, six-yr-old spoke on organ donation; in death, she practices those lines


Come on friends, even after dying, join this process of living in some other body!

organ donor, organ donation, organ donor india, organ donation india, organ for transplant, organ transplant, organ transplantation, organ donation importance, organ donation information, organ donation in india




An organ donor can save hundreds of lives!
Image source: Google

Read this article in English

अंग दान (organ donation) की तकनीक ने आज के युग में कई लोगों को नया जीवन प्रदान किया हैं. टेक्नोलॉजी इस हद तक पहुँच गयी हैं, की किसी जीवित या ब्रेन डेड व्यक्ति के शरीर के अंग अब किसी जरूरतमंद दुसरे व्यक्ति को ट्रांसप्लांट किये जा सकता हैं. अंग दान करते समय खुद अंग दान (organ donor) करने वाला हो या उसके रिश्तेदार हो, एक ऐसा कदम उठाते हैं, जिससे मृत्यु पश्चात भी जीवित रहा पाना संभव हो जाता हैं. हम अक्सर सुनते हैं, की मृत्यु पश्चात अंग दान करनेवाला व्यक्ति 6 - 7 लोगो को अपने अंग देकर जीवन प्रदान कर सकता हैं.


पर कुछ लोग इससे भी ऊपर उठकर ऐसा काम करते हैं, की एक अंग दाता का अंग दान करने का निर्णय, सेंकडो लोगो के जीवन को बचाने में सफल हो जाता हैं. 

आज की एक सच्ची कहानी कुछ इसी प्रकार की हैं, बिलकुल फ़िल्मी स्टोरी जैसी! ये कथा समाज में एक नयी आशा की किरण बनकर उभर रही हैं.

वैसे तो हम छोटे छोटे दुखों के लिए या तो भगवान् को दोषी मानते हैं या अपनी किस्मत को. अनहोनी किसी के भी साथ कही भी और कभी भी हो सकती हैं. मगर मृत्यु को भी चकमा देने वाले लोग, जब नया सांस लेते हैं, तो हजारो लोगो के लिए अनहोनी को परास्त करने की प्रेरणा बनते


Very motivatonal story...!


यह कहानी हैं, श्रीमती कोमल गोडसे-पवार नामक हाई क्वालिफाइड महिला की! महाराष्ट्र के सतारा जिले की रहनेवाली कोमल इसी शहर में इंजीनियरिंग कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफ़ेसर हैं.

बचेलोर इन इंजीनियरिंग करने के पश्चात शादी कर अपने जीवन को आम इंसान की तरह जीने का सपना लिए आगे बढ़ रही कोमल को उम्र की 25 वे  में एक खतरनाक बीमारी (incurable ailment) का शिकार हुयी.

इस असाध्य बिमारी के प्रथम चरण में उन्हें चक्कर आने लगे और थकान महसूस होने लगी. यह कुछ ख़ास बिमारी का लक्षण नहीं हैं, इसलिए कुछ दिन उन्होंने इस बात को अनदेखा किया, मगर जब एक दिन क्लास में पढ़ाते समय खून की उलटी हुयी, तब किसी गंभीर बिमारी की आहट उन्हें महसूस हुयी.

प्राथमिक स्वरुप के कुछ चेक-अप करने पर उन्हें primary pulmonary hypertension नामक एक बिमारी का निदान किया गया. यह एक फेफड़े का दुर्लभ बिमारी है जिसमें फेफड़े में रक्त वाहिकाएं संकीर्ण (narrow) हो जाती हैं और फुफ्फुसीय धमनी (pulmonary artery) में दबाव सामान्य स्तर से बहुत अधिक बढ़ जाता है. फुफ्फुसीय धमनियां आपके शरीर से फेफड़ों तक रक्त ले जाती हैं.

यह एक गंभीर और ठीक ना होनेवाली क्रोनिक बिमारी हैं जिसका अगला चरण हार्ट फेलियर होता है.

श्रीमती कोमल को 24 घंटे कृत्रिम ऑक्सीजन रहना पड़ता था. डॉक्टरों की माने तो कोमल की जिन्दा रहने की प्रोबेबिलिटी सिर्फ एक प्रतिशत ही थी. जबकि इस बिमारी के लिए कोई दवाइयां अभी तक संशोधित नहीं हो सकी, इसलिए सतारा से उन्हें पुणे में लाया गया और प्रायोगिक दवाइयां देना प्रारम्भ किया गया.

इस दौर में श्रीमती कोमल की हालात दिनों दिन नाजुक होती जा रही थी. कुछ दिनों के पश्चात उनका वजन 56 किलो से घटकर केवल 20 किलो ही रह गया था. वेदनाओं से भरे इस दौर में उन्हें रात दिन खून की उल्टियां होती थी.

बेड पर सोने से बेडसोर जैसी बिमारी ने उन्हें घेर लिया. इतने कठीण हालात में भले ही कोमल को यह नहीं बताया गया की उन्हें किसी दुर्धर बिमारी ने घेरे में लिए हैं, मगर अपनी हालत देख कर वह भांप गयी थी की कुछ तो अघटित हो रहा हैं. वह कई बार डिप्रेशन का शिकार भी होती थी.

ऐसे में उनकी हिम्मत को सलाम जरूर बनता हैं, पर उससे भी ज्यादा कठीण समय उनके पति पर था. जो कोमल की हालात के बारे में सब कुछ जानते थे, मगर इस संकट की घडी में कोमल के लिए एक बहोत बड़ा सहारा भी थे.

अलोपथी के इलाज के चलते कोमल के पति ने आयुर्वेदिक, होमियोपैथी जैसे इलाजों की खोज देश के कोने कोने में जारी रखी. ऐसे में कोमल के मन में कई बार आत्महत्या के ख़याल भी आते थे. मगर कोमल के पति धीरज के प्रयत्नों की पराकाष्ठा से कोमल भी जीने के प्रति उनकी तीव्रतम  इच्छाशक्ति को बनाये रखती थी.

लेकिन इसके बावजूद भी कोमल की तबियत बदतर होते जा रही थी. उन्हें लगने वाली ऑक्सीजन की मात्रा में दिनों दिन बढ़ोतरी हो रही थी. अब तो बस एक प्रतिशत ही उम्मीदे बची थी. 

फेफड़ों का प्रत्यारोपण (LUNG TRANSPLANT) के अलावा अन्य कोई पर्याय नहीं बचा था. इसलिए कोमल को ग्लोबल हॉस्पिटल चेन्नई ले जाया गया जहाँ जाने माने कार्डिओथोरेसिस सर्जन डॉ. संदीप अत्तावर की टीम के निगरानी में रखा गया. 

मगर यहाँ कोमल के लिए एक और बुरी खबर इंतजार कर रही थी. अब फेफड़े फेलियर के साथ साथ हार्ट फेलियर का भी डायग्नोसिस सामने आया. अब लंग्स के साथ साथ हार्ट ट्रांसप्लांट करने के सिवाय कुछ भी पर्याय नहीं बचा था. 

एक साथ इतने अंगों का ट्रांसप्लांट का ये एकमात्र उदहारण था. इससे पहले डॉ. अत्तावर ने अंग प्रत्यारोपण की काफी शस्त्रक्रिया की थी, मगर उन्हें कोमल के बिमारी में एक चैलेंज नजर आ रहा था. कोमल के मध्यमवर्ग परिवार को भी इस ट्रांसप्लांट सर्जरी के लिए 50 लाख जैसी बड़ी रकम को जोड़ना काफी मुश्किल था. पहले ही उनका परिवार गत 2 वर्षो में 10 लाख रुपये से ज्यादा खर्च कर चूका था.

मगर कहते हैं, जहां चाह वहा राह. सामाजिक संस्थाए, सोशल मीडिया, प्रिंट मीडिया के माध्यम से लोगो को डोनेशन के लिए आवाहन किया गया. महाराष्ट्र की जनता ने भी अपनी दर्या दिली का उदहारण पेश करते हुए केवल 15 दिनों के अंदर ही यह रकम जमा किया.

कोमल आज भी यह मानती हैं, की यह केवल रकम नहीं थी. इसके साथ लोगों द्वारा दिए गए आशीर्वाद और सद्भावनाएँ भी थी जिन्होंने उनके लिए फिर से एक बार खुली सांस लेने का अवसर प्रदान किया.

लेकिन अभी एक और चैलेंज डॉक्टर की टीम से लेकर सभी के सामने खड़ा था. अंग दान देनेवाला डोनर कहाँ से मिलेगा. कोमल वजन जो की 20 किलो तक नीचे आ गया था, उनके लिए किसी बालक के अंगों की जरुरत थी.

वैसे भी अंगों को दान करनेवाले डोनर मिलना कोई आसान बात नहीं हैं. लोग सालो तक इन्तजार करते हैं और कुछ तो इन्तजार करते करते अपने जीवन से हाथ धो बैठते हैं. ऐसे में किसी ब्रेन-डेड बालक के अंगों का मिलना बहोत ही कठीण काम था.

आशा निराशा के इस खेल में कोमल की हिम्मत टूटने के करीब थी, सारी उम्मीदें ख़त्म होने के आसार नजर आ रहे थे. ....पर शायद यहाँ भी कोमल की आतंरिक शक्ति काम कर गयी. और अंत में कोमल को किसी बालक के अंग मिल गए.

16 घंटे की लम्बी सर्जरी को 30 डॉक्टरों की टीम ने अंजाम दिया. बाद में कोमल को 3 दिन तक अंडर ऑब्जरवेशन रखा गया. ३ दिन बाद जब कोमल को बेड से उठाकर सांस लेने के लिए कहा गया.....  ये उनके पुनर्जन्म की पहली सास थी जो उन्होंने ली!

उनका यह पुनर्जन्म सिर्फ अंग दान करने वाले बालक के माता पिता द्वारा लिए गए निर्णय की वजह से ही हुआ, यह अंतिम सत्य हैं. यह बालक शायद आज भी कोमल के अंदर जीवित हैं.

अब कोमल एकदम तंदुरुस्त और चुस्त हैं. पर इन ढाई सालो ने उनके जीवन का उद्देश्य ही बदल दिया था.

"कोमल न्यू लाइफ फाउंडेशन" नामक संस्था की शुरुआत उन्होंने की हैं. ऑर्गन ट्रांसप्लांट की जरुरत जिन पेशेंट्स को हैं, कोमल अब उन्हें मार्गदर्शन एवं काउंसलिंग करती हैं, उन्हें प्रेरणा देती हैं, की उनकी तरह ही वह पेशेंट्स भी इसमें से उभर सकते हैं.

कोमल की इसी संस्था द्वारा किये गए प्रयासों द्वारा अब तक 170 से अधिक अंग प्रत्यारोपण के पेशेंट्स को एक नयी जिंदगी मिली हैं.  एक बालक द्वारा अंग दान करना और कोमल की जान बचना इतना ही इस कहानी का सबक नहीं हैं. उन्हें मिला हुआ जीवनदान, अब उसी समाज के लिए वरदान सिद्ध हो रहा हैं.

कोमल की कहानी उन्ही की जुबानी!





आइये अब समझते हैं अंग दान (ORGAN DONATION)

की प्रक्रिया क्या होती हैं?


कौनसे अंगों का प्रत्यारोपण हो सकता हैं?

Which organs that can be donated?

Liver, Kidney, Pancreas, Heart, Lung, Intestine.

Heart Transplant

An organ donor can save hundreds of lives!
Image source: Google

Lung Transplant

An organ donor can save hundreds of lives!
Image source: Google

Kidney Transplant


An organ donor can save hundreds of lives!
Image source: Google

अंग दान कौन कर सकता हैं?

Who can donate organs?

जीवित डोनर: कोई भी व्यक्ति जिसकी आयु 18 वर्ष से कम नहीं है, जो अपनी स्वेच्छा से अपने (एक से अधिक अंग जो शरीर में होते हैं, जैसे की किडनी) अंग या टिश्यू को चिकित्सीय उद्देश्यों के लिए प्रचलित अधिकृत मेडिकल पद्धतियों के अनुसार हटाने की अनुमति देता हैं. इस पद्धति में डोनर भी जीवित रहता हैं और पेशेंट भी. 

मृतक डोनर: इस प्रकार के डोनर जिनका ब्रेन डेड हो चूका हो, या मृत्यु हो चुकी हो, ऐसे किसी भी व्यक्ति के शरीर के एक से ज्यादा अंगों को उसके रिश्तेदारों की अनुमति के बाद निकाल लिया जाता हैं. 


अंग दान करने के कितने प्रकार हैं?

How many types of organ donation?

जीवित डोनर: कोई भी व्यक्ति अपने जीवनकाल में एक किडनी डोनेट कर सकता है (जबकि उसकी दूसरी किडनी उसके शरीर के सही फंक्शन्स चला सकती हैं), पैंक्रियास का  आधा हिस्सा भी डोनेट किया जा सकता हैं, क्यूंकि आधा बचा हुआ हिस्सा भी सही कार्य कर सकता हैं और वह डोनर जीवित रह सकता हैं; इसके अलावा लिवर का  भी कुछ हिस्सा डोनेट किया जा सकता हैं. क्यूंकि स्वस्थ लिवर भी डोनर और रेसिपिएंट के शरीर में कुछ समय बाद अपने आप पुनर्निर्माण होते हैं.

मृत डोनर: जैसे की पहले बताया गया हैं, मृत व्यक्ति के अनेक अंग किसी जीवित जरूरतमंद व्यक्ति के अंग में प्रत्यारोपण किये जा सकते हैं.

भारत में अंग दान की प्रतीक्षा सूची कितनी बड़ी हैं?

How many patients are on the waiting list of organ transplants in India?

भारत में अंग प्रत्यारोपण की लाखो मरीज प्रतीक्षा हैं कर रहे हैं, जिन्हे अंगों की सख्त जरुरत हैं. इसलिए 

Kidney transplant patients 2,50,000

Liver transplant patients 80,000

Heart transplant patients 50,000

Cornea transplant patients 1,00,000

इतनी बड़ी संख्या में पेशेंट्स अंग दान और टिश्यू दान की प्रतीक्षा में हैं. यह सूची आधिकारिक नहीं हैं, क्यूंकि ऐसे पेशेंट्स का डाटा कलेक्ट करने के लिए अभी कोई यंत्रणा नहीं हैं, जब की यह दर हैं की यह सूची और बढ़ सकती हैं. बड़ी मात्रा में ऑर्गन फेलियर के केसेस सामने आने से इसमें बढ़ोतरी होती जा रही हैं.

भारत में अंग प्रत्यारोपण एवं अंग दान  के प्रति जन जागरूकता बढ़ाने की सख्त आवश्यकता हैं. ऐसे में कोमल न्यू लाइफ फाउंडेशन जैसे सेवा संस्थाओं की ओर से किये जानेवाले प्रयासों के लिए आम भारतीय लोगों द्वारा सहयोग मिलना भी जरुरी हैं.


इसलिए अंग दान की प्रक्रिया को आंदोलन में परिवर्तित किया जाना जरुरी हैं.



क्या हम सभी अंग-दान कर सकते हैं?

Can we all donate organs?

जी हाँ, आप और मैं अंग दान की इस प्रक्रिया में शामिल होकर कई लोगो की जान बचा सकते हैं. इसके लिए हम सभी NOTTO (NATIONAL & TISSUE TRANSPLANT ORGANIZATION, National level organization set up under Directorate General of Health Services, Ministry of Health and Family Welfare, Government of India) को अपनी अंगदान की इच्छा के बारे में लिख सकते हैं.

http://notto.nic.in

इस वेबसाइट के डाउनलोड सेक्शन में जाकर फॉर्म-7 को डाउनलोड करें और आपकी इच्छा के अनुसार इस फॉर्म को फील-अप कर अपने हस्ताक्षर करे. और नीचे दिए गए एड्रेस पर भेज दीजिये. 

NATIONAL ORGAN AND TISSUE TRANSPLANT ORGANISATION

4th Floor, NIOP Building,

Safdarjung Hospital Campus,

New Delhi-110029


Which state of India is ahead in Organ Transplant?


महाराष्ट्र सरकार व्दारा बेहतरीन काम करने के चलते राज्य को केंद्र सरकार की ओर से अंगदान का बेस्ट अवाॅर्ड प्राप्त हुआ. महाराष्ट्र राज्य को नेशनल आॅर्गन एण्ड टिश्यू ट्रान्सप्लान्ट आॅर्गनायजेशन (नोटो) की ओर से 30 नवम्बर को 10वें नेशनल अंगदान दिवस पर आयोजित विशेष कार्यक्रम में राज्य को  सम्मानित किया गया, जिससे आज महाराष्ट्र के सर पर अंगदान का ताज सज गया है. 



महाराष्ट्र सरकार को यह पुरस्कार एक बेसिक डेटा के आधार पर दिया गया, जिसका संकलन नवम्बर 2018 से लेकर अक्टूबर 2019 के दौरान किया गया. इस संदर्भ में बोलते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डाॅ. हर्षवर्धन ने कहा कि, अंगदान के विषय में महाराष्ट्र राज्य ने एक बेहतरीन काम किया है. बाकी राज्य भी इसी दिशा में जल्द आगे बढ़ें, ऐसा आवाहन उन्होंने इस समय किया. 

कार्यक्रम में रोटो-सोटो (पश्चिम रिजन) के निदेशक लोबो गाजीवाला ने इस पुरस्कार का स्वीकार किया. इस समय उन्होंने कहा कि, अंगदान के इस आंदोलन को सफल बनाने के लिए मिला पुरस्कार हमारे लिए गौरव है. अंगदान के इस कार्य का केंद्र सरकार की ओर से उचित तौर पर संज्ञान लिया गया है. इस पुरस्कार से मिली प्रेरणा के चलते अब हम आने वाली पीढियों में भी अंगदान के संदर्भ में जनजागृति करेंगे. 


इस कार्यक्रम में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डाॅ. हर्षवर्धन ने उन सभी अंगदानकर्ताओं तथा लोगों को अंगदान करने लिए प्रेरणा देने वाले कार्यकर्ताओं के प्रति अपने आभार प्रकट किए. इस समय उपस्थित सभी लोगों ने अंगदान करने तथा इसके लिए दूसरों को प्रेरणा देने की शपथ ली.

अंगदान में इस तरह रहा महाराष्ट्र का अहम योगदान

- ट्रान्सप्लान्ट के लिए भेजे गए अंग - कुल 446
- ट्रान्सप्लान्ट किए गए अंगों की संख्या - 449 (राज्य से राज्य के बाहर भेज गए अंगों की संख्या के साथ)
- ब्रेनडेड मरीजों की कुल संख्या - 193
- अंगदान में काम आए ब्रेनडेड मरीजों की कुल संख्या 153
- अंगदान के संदर्भ में जनजागृति करने के लिए रोटो-सोटो, जेडटीसीसी जैसे संस्थाओं की तरफ से आयोजित कार्यक्रमों की कुल संख्या - 153
- अंगदान की मुहिम में महाराष्ट्र राज्य में मुंबई विभाग ने पहला तथा पुणे विभाग ने दूसरा स्थान प्राप्त किया है.



पुणे के रूबी हाॅल क्लिनिक की अंगदान प्रत्यारोपण संयोजक सुरेखा जोशी, जोकि 1979 से अपने इस काम को सफलता पूर्वक अंजाम दे रही है, को बेस्ट ट्रान्सप्लान्ट को-ऑर्डिनटोर के पुरस्कार से सम्मानित किया गया.

रिव्यानी रहांगडाले की आंखें नम करने वाली कहानी....

Image courtesy: The Indian Express

दिल्ली में हुए इस कार्यक्रम में अंगदान करने वाली छह वर्षीय रिव्यानी रहांगडाले के परिवारवालों को भी सम्मानित किया गया. छह वर्ष की मासूम रिव्यानी एक हादसे में ब्रेनडेड हो चुकी थी. रिव्यानी के बहादूर माता-पिता को जब डाॅक्टरों ने बताया कि, रिव्यानी अब जीवित नहीं रह सकती, लेकिन वे अंगदान कर कुछ लोगों का जीवन बचा सकते है.


इसके बाद उसके माता-पिता ने रिव्यानी का अंगदान करने का फैसला किया. रिव्यानी के हृदय प्रत्यारोपण से मुंबई की एक चार वर्षीय बच्ची की जान बच गई. साथ ही रिव्यानी की किडनी से नागपूर के एक 14 वर्षीय लड़के को जीवनदान प्राप्त हुआ तथा उसका लीवर एक जरुरतमंद बच्चे में ट्रान्सप्लान्ट किया गया. रिव्यानी की आंखों से आज दो नेत्रहिनों के आंखों का उजाला बन गई है और वे इस दुनिया को देख पा रहे है. रिव्यानी की यह कहानी सुनकर कार्यक्रम उपस्थित सभी गला भर आया और आंखें भी नम हो गई. रिव्यानी की कहानी आज कई लोगों के लिए प्रेरणास्रोत बनी हुई है.




अंगदान महादान: 6 साल की ब्रेन-डेड बच्ची ने 4 लोगों को दी नई ज‍िंदगी

In school, six-yr-old spoke on organ donation; in death, she practices those lines

आइये मित्रो, मर कर भी किसी ओर के शरीर में जिन्दा रहने की इस प्रक्रिया में शामिल हो जाए!

organ donor, organ donation, organ donor india, organ donation india, organ for transplant, organ transplant, organ transplantation, organ donation importance, organ donation information, organ donation in india



Post A Comment
  • Blogger Comment using Blogger
  • Facebook Comment using Facebook
  • Disqus Comment using Disqus

1 comment :


Current Affairs

[Current Affairs][bleft]

Climate change

[Climate Change][twocolumns]

Lifestyle

[Lifestyle][twocolumns]

Animal Abuse

[Animal Cruelty][grids]