technology

[Technology][bleft]

Health

[Healthcare][bleft]

Business

[Business][bleft]

Network Marketing

[Network Marketing][bleft]

Trolling Lata Mangeshkar is itself an irony


Trolling Lata Mangeshkar is itself an irony (Hindi)
Image source: google.com


How appropriate is it to troll a person like Lata Mangeshkar?



Bharataratna Lata Mangeshkar, famous around the world with her divine voice, is also facing internet trolls. By the way, Internet trollers do not need to give much importance, because they have open freedom in the Internet world to have their views. But freedom cannot mean someone's loss of character.

That is why, in this article, an attempt has been made to answer the trollers in their own style.

Who is Ranu Mondal?



In the last few months, a woman named Ranu Mandal is becoming very popular. A video of this woman filling her stomach by singing a song outside the railway station had become quite viral. In this video, she is singing a song by Lata Mangeshkar,





After this video went viral, she got an opportunity to sing in some TV shows. His popularity got charred when famous composer and singer Himesh Reshammiya gave a chance to sing in his film. The promo of the song of this film became quite viral and Ranu Mondal became a star.






Ranu Mandal certainly has a lot of talent. Her voice is also melodious. She has all the qualities required to become a good singer, and if she gets the right opportunity, she has a good career for many years.

Everything is fine till here. But to create a career in singing, apart from being a genius, it is also necessary to learn, hard work, and much more. Because music is a practice. The profession is made later. Many great singers of classical songs learn music for many years and keep on learning throughout their lives.

But here Ranu's fans compared her directly to Lata Mangeshkar. Perhaps Lata Didi's musical journey is twice the age of Ranu's age, this thing, the fans may have been forgotten. First of all, it is not right to compare anyone. Ranu is a good singer, so she should definitely get her respect, we all do such a wish.

But due to the response was given on Ranu Mondal, the trend of trolling Lata Mangeshkar on social media began.

An interview of Lata Mangeshkar became the root of this controversy. In the interview, the question was asked, what would about new talent like Ranu Mandal, who is following your footsteps, want to say on that?

Lata Mangeshkar on Ranu Mondal


Lata didi's answer in her own words.

 "If someone is good with my name and work, I consider myself lucky, but no one can be successful for more days than copying someone. Me or Kishore Da, Rafi Sahab, Mukesh Bhaiyya or Asha (Bhosle) New singers can gain fame for a short time by singing songs, but they cannot survive for a long time (in this field). There is a lot of concern for them."

"So many children sing my songs so beautifully. But how many of them are remembered on this road to success? I only know Sunidhi Chauhan and Shreya Ghoshal. (Those who have achieved success)"

"Make an identity of your own voice. Always sing the evergreen songs sung by me and my colleagues; but after a while, the singer must find his/her own voice. 
If I hadn't forced Asha to sing in her own voice, maybe today she would remain as my copy. By identifying herself and choosing her own path and taking her to the destination, Asha (Bhosle) is the biggest example. "

Just after, this answer created chaos on Twitter, YouTube, and started cursing Lata Didi. Lata ji was presented as a villain, on Twitter and YouTUBE. Don't know, how big insult made by Lata Didi of Ranu Mondal.


Now understand it carefully that Lata Didi herself had not made any comment on Ranu Mondal. She was asked this question.

Secondly, in her reply, she did not just quote Ranu Mondal. Her answer was for all budding singers, not just of Ranu Mandal.


If she had a narrow view, she would not have named Shreya Ghoshal and Sunidhi Chauhan.

Hearing Lata Didi's answer, there is no such allegation in them, no person of a civilized society can impose it. Only illiterate people can prove their answers wrong.


In reality, it should not be the answer, but instead, this is Guru mantras for the new talents who have come to the dream of doing something in the music field.

If some people do not want to listen to the living legend, who has spent his life in the field of music for more than 70 years, then it is wrong to have high expectations from such people.

Ranu Mandal sings like Lata Mangeshkar, she has created competition for Lata Mangeshkar, Lata Mangeshkar is jealous of her …… etc. Making claims is total nonsense. Those making such claims neither understand the music nor understand Lata properly.


Trolling Lata Mangeshkar is itself an irony (Hindi)
Screen shots taken from YOUTUBE


Trolling Lata Mangeshkar is itself an irony (Hindi)
Screenshots taken from YOUTUBE

Only those who do not understand the dedication of Lata Didi can do such ridiculous things. Ranu Mandal has yet to walk far enough, brothers, she has to prove herself. She has sung 2-4 songs so far. Spreading these kinds of things means getting stuck in the road of Ranu.


Lata Mangeshkar on Asha Bhosle

What Lata Didi has said about Asha Bhosle, is 100% true. Asha ji has her own identity in the music field. There are many songs that are made just for Asha Bhosle. Musician O. P. Nayyar is one such person who, never composed songs for Lata Didi, despite being on the top in the music world, but always preferred Asha Bhosle's voice in his songs.

This proves that Asha ji has created her own identity. There are many songs in Hindi and Marathi, after listening to these songs, it seems that it is made only for Asha ji.

Asha Bhosle famous song






Now, look at this little girl. Sang this song so beautifully







This girl is Arya Ambekar! She is still a rising star in the Marathi film music. Despite having so much talent, she will never even think of competing with Asha Didi, in a dream also. And neither did it stop the opportunity, to sing Asha Didi.

But these things about Ranu ji are being spread under a mindset. The addiction to fame is so bad, that people can definitely get away from their path, Ranu ji should keep the distance from such fans, who are engaged in encash her talent, for own profit.

Raj Kapoor with Lata Mangeshkar


Music played an important role in making Raj Kapoor films a blockbuster. I have never seen any film director, in my life, so knowledgeable in music as The Great Showman Raj Kapoor is!

Most of the songs in Raj Kapoor's films have been sung by Lata Didi. A song from his film Heena which is heard even today.






Raj Kapoor and Lata Mangeshkar were a very good combination, who played an important role in giving new dimensions to the music of Hindi films. There was also a conflict between him and Lata Didi, due to which Lata Mangeshkar did not sing songs of some films. After all, Raj Sahab had accepted Lata Didi's demands & offer a profit share of film.

Lata Didi sang for RK films, several songs. These songs were definitely a Golden Era for Bollywood music., This is the magic of Lata Didi.



Let's hear, what Raj Kapoor is saying about Lata Mangeshkar.


Raj Kapoor on Lata Mangeshkar







Lata Didi did not sing only for films. Lata Didi's voice has done to bring the great task of singing the hymns of Shri Ram, Shri Krishna, Sant Mirabai, Sant Dnyaneshwar, Sant Tukaram, Sant Ravidas to the whole world. We often forget these things. The hymns sung by her have done an immense job of increasing devotion, in millions of hearts.

I am very much a fan of Lata Didi's singing, Sant Meerabai Bhajan. Come on, trollers, enjoy the heavenly pleasures of this divine musical journey of the Lata, by erasing the bitterness of the mind.

Meera Bhajan by Lata Mangeshkar







Pt. Bhimsen Joshi & Lata Mangeshkar Bhajan







Thank you Lata Mangeshkar, for bringing such a heavenly voice to the Earth!


Pandit Bhimsen Joshi on "imitation"


Now let's hear, what the great singer Pandit Bhimsen Joshi says on "imitation"







Now look at the imitation, a Pakistani singer named Khalid Baig, sing the song of Rafi Sahab. It is definitely not a common thing to sing just like legendary singer Rafi Sahab. but he did!

Mohammad Rafi famous song







There is no shortage of talent in this world, this video shows. Will Khalid Baig ever replace Rafi Sahab? no at all. Still, he has to make own identity with his own voice.

This was said by Lata Didi, but some of the scholars (?) On Twitter, did not like it and while took out their anger on Lata ji. They definitely showed their ignorance.

Lata Mangeshkar trolled on twitter

















Lata Didi, without naming anyone given advice, has created such a ruckus. Is it not the identity of a wrong culture being created? Probably .... which is given the name of Internet Trolling!

What these trollers are, they also get a glimpse. The questions are, these trollers help how many people, who advise Lata Didi, to become more gracious and accuses her of derogatory remarks. In my view, the value of such people is not more than a rainy frog.

Without understanding, the Lata Didi's social contributions, charities (she does not share it on Twitter like trollers), commenting on her can be a symptom of an inferiority complex.

Did Lata Mangeshkar not let her competitors get ahead

Another well-known accusation is already being leveled against Lata Didi, that she did not let competitive singers come forward. Veterans like Raj Kapoor gave other singers the opportunity to sing in many films. But then why did he have to call back Lata Mangeshkar to sing? There are many musicians who preferred only Lata.


Lata ji must have done some conspiracy behind this, this can only be an argument. She has unlimited talent, it is also a truth, which cannot be denied.

Despite having as much talent in front of a legend artist or player, many others cannot move forward, but how can she be held responsible for this?

That era was of melodious songs. The same trend of Bollywood songs was very high, whose pioneer was Lata, in which she had made her identity and place, long back.


Suman Kalyanpur

This can also be a reason that Suman Kalyanpur was as talented as  Lata Mangeshkar, but Suman Kalyanpur could not take her place. For many years,

I was thinking that this song belongs to Lata Didi. Then after many years, it is revealed that this is Sumanji's voice. This is called a trend.







The biggest thing is, who do the listeners want to hear? It was a period in which, common story and despite being an ordinary actor, the film was hit, largely because of the music of that time.

In such a situation, Lata, Mukesh, Rafi, Kishore da had become a brand in Bollywood and people liked their singing songs. So there is a risk in launching new singers, such music directors or producers also believe that. This could not mean that Lata had hatched a conspiracy and not given new singers to move forward.

Gossips are a different thing. Gossips spread like wildfire in the film world. But this is definitely the case, that people also to stone the same tree on which the fruits are more.

Then why do these charges are being leveled against Lata Mangeshkar? How many Rafi, Mukesh, Kishore became in that period? But they were never accused.


This does not mean that the singers with new talent did not emerge. Many singers came, such as Jagjit Sing, Shankar Mahadevan, Hariharan, Suresh Wadkar, Yesudas, Shailendra Sing, we remember these names even today. They created their own style. They never tried to follow any of these. So today we do remember their songs and names.


Another important point is that there were not as many platforms for any emerging artist in those times, as are available in the present day. If you do not get a chance to sing in the film today, then you can present your talent from social media platforms like YouTube, Facebook, Twitter, etc; just like happened with Ranu Mandal. That is why today, many talents is coming in front of us, which was not possible to be in those days.


Kishor Kumar & Lata Mangeshkar

Kishore Kumar always used to take 1 rupee less than Lata didi, so that Lata ji would be respected. When Kishorada never thought of insulting her, how dare trollers like you take a finger on Lata Didi? Because you consider yourself very smart, which you are not!


Is it right to accuse someone without understanding all facts? Those who are making their comments without understanding the facts, they need to study more. Accusing Lata Didi is a big mistake for them.

Now come to the topic of Ranu Mandal. Like I have already said, she is a talented singer. Her journey, from the grass-root level to the sky will definitely encourage the new artists to come forward.

But one fear is also in the mind. Is internet sensation Ranu Mondal being 'used' for the promotion of someone's film? What people do not do today for the promotion of their film?

Has Himesh been tried to bake his bread behind sing songs from Ranu? This will be known in a few years. But Ranu has definitely benefited from this.

I would only say that Ranu Mandal should follow Lata Didi's advice, it would prove to be a profitable deal for him. If she wants desired fame, then try to learn as much as possible from those who have achieved a lot in their lives. And above all, keep a distance from the rainy frogs sitting under the cover of the fans.


Disclaimer: The purpose of this article is not to insult anyone and to discredit anyone. There have been attempts to give answers to trollers; Before you blame charges on a living legend like Lata Didi, you need to know and understand the reality.











लता मंगेशकर जैसी शख्सियत को ट्रोल करना कितना सही हैं?

अपने स्वर्गीय आवाज से दुनिया भर में प्रसिद्ध भारतरत्न लता मंगेशकर को भी आज कल इंटरनेट ट्रोल का सामना करना पड़ रहा हैं. वैसे तो इंटरनेट ट्रोलर्स को ज्यादा अहमियत देने की जरुरत नहीं होती, क्यूंकि उन्हें अपना विचार रखने के लिए, इंटरनेट की दुनिया में खुली आजादी हैं. मगर आजादी का मतलब किसी का चरित्रहनन तो नहीं हो सकता. इसीलिए ट्रोलर्स को उनके ही अंदाज में जवाब देने की कोशिश इस आर्टिकल में की गयी हैं.

Who is Ranu Mondal?

गत कुछ महीनो से रानू मंडल नाम की एक महिला काफी लोकप्रिय हो रही हैं. रेलवे स्टेशन के बाहर गाना गाकर अपना पेट भरने वाली इस महिला की एक वीडियो काफी वायरल हो चुकी थी. इस वीडियो में उन्होंने लता मंगेशकर का एक गाना गया था,





उसके बाद उन्हें कुछ टीवी शो में गाने का अवसर मिला. उनकी लोकप्रियता को चार चाँद तब लग गए, जब प्रसिद्ध संगीतकार एवं गायक हिमेश रेशमिया ने अपनी फिल्म में गाने का मौका दिया. इस फिल्म के गाने का प्रोमो काफी वायरल हुआ और रानू मंडल सितारा बन गयी.




निश्चित ही रानू मंडल में काफी प्रतिभा हैं. उनकी आवाज भी सुरीली हैं. एक अच्छा सिंगर बनने के लिए लगने वाले सभी गुण उनमे जरूर हैं, और सही मौका मिलता रहे तो कई वर्षों तक अच्छा करियर भी हैं.

यहाँ तक सब कुछ ठीक ठाक हैं. पर गाने में करियर बनाने के लिए जन्म से प्रतिभा होने के साथ साथ कड़ी मेहनत और बहुत कुछ सीखना भी जरुरी होता हैं. क्यूंकि संगीत एक साधना हैं. प्रोफेशन बाद में बनता हैं. क्लासिकल गानेवाले कई बड़े गायक कई सालों से संगीत सीखते हैं और जिंदगी भर सीखते ही रहते हैं, ऐसा वह मानते हैं.

मगर यहाँ रानू के प्रशंसकों ने उनकी तुलना सीधी लता मंगेशकर से कर दी. रानू की जितनी उम्र नहीं, उससे दुगना तो लता दीदी का संगीत क्षेत्र का सफर हैं, ये बात शायद तुलना करने वाले भूल गए. सबसे पहली बात तो यह हैं की किसीसे तुलना करना ही सही नहीं हैं. रानू एक अच्छी सिंगर हैं तो उनको उनका सम्मान जरूर मिले, ऐसी कामना हम सभी करते हैं.

मगर रानू मंडल पर दी गयी प्रतिक्रिया से लता मंगेशकर को सोशल मीडिया पर ट्रोल करने का एक ट्रेंड आ गया.

इस विवाद की जड़ बना लता मंगेशकर का एक इंटरव्यू. इंटरव्यू में सवाल पूछा गया की रानू मंडल जैसी नयी प्रतिभाएं, जो आपके कदमो पर चल रही हैं उस पर क्या कहना चाहेगी?

Lata Mangeshkar on Ranu Mondal

उस पर लता दीदी का जवाब उन्ही की जुबानी.

 "अगर मेरे नाम और काम से किसी का भला होता हैं तो मैं अपने आपको खुशकिस्मत समझती हूँ, मगर किसी की नक़ल करने से कोई ज्यादा दिन तक सक्सेस नहीं हो सकता. मेरे या किशोर दा, रफ़ी साहब, मुकेश भैय्या या आशा (भोसले) के गाने गाकर नए गायक थोड़े समय के लिए प्रसिद्धि बटोर सकते हैं, मगर लम्बे समय तक (इस क्षेत्र में) नहीं टिक सकते. टेलीविजन पर संगीत शो में जो नयी प्रतिभाएं उभर कर आ रही हैं, उनके प्रति बहुत चिंता महसूस करती हूँ.

"इतने सारे बच्चे मेरे गीतों को इतनी खूबसूरती से गाते हैं. लेकिन सफलता की इस राह पर उनमें से कितने को याद किया जाता है? मैं केवल सुनिधि चौहान और श्रेया घोषाल को जानती हूं. (जो टिकी रही)"

"अपने आवाज की एक पहचान बनाये. मेरे और मेरे सहयोगियों द्वारा गाये गए सदाबहार गीत जरूर गायें; लेकिन एक समय बाद गायक को अपना खुद की आवाज ढूंढनी चाहिए. अगर मैं आशा (भोसले) को उनकी अपनी आवाज में गाने के लिए बाध्य नहीं करती तो शायद आज वह मेरा हमसाया (कॉपी) बनकर रहती. खुद की पहचान बनाकर अपना मार्ग खुद चुनना और उसे मंजिल तक पहुँचाना, ये उसका (आशा भोसले) बहोत बड़ा उदहारण हैं".

बस ये जवाब ने जैसे ट्विटर, यूट्यूब पर कोहराम मच गया, और लता दीदी को कोसना शुरू कर दिया. YOU TUBE, Twitter पर तो जैसे लता जी को विलेन दिखने की बाढ़ आयी है. ना जाने लता दीदी ने रानू मंडल का कितना बड़ा अपमान किया हो.

अब ये ध्यान से समझे की लता दीदी ने खुद होकर रानू मंडल पर कोई टिपण्णी नहीं की हैं. उन्हें ये सवाल पूछ गया था.

दूसरी बात अपने जवाब में उन्होंने सिर्फ रानू मंडल को कोट नहीं किया. उनका जवाब सभी उभरते गायको के लिए हैं, ना की सिर्फ रानू मंडल के लिए.

अगर लता दीदी छोटे मन की होती तो ना वह श्रेया घोषाल (Shreya Ghoshal) का नाम लेती ना सुनिधि चौहान (Sunidhi Chauhan) का.


लता दीदी का जवाब सुनकर इसमें उनपर किसी भी प्रकार का आरोप कोई भी सभ्य समाज का व्यक्ति नहीं लगा सकता. केवल अनपढ़ व्यक्ति ही उनके जवाब को गलत साबित कर सकता हैं.

हकीकत में इसे जवाब नहीं कहना चाहिए, बल्कि संगीत क्षेत्र में कुछ कर दिखने का सपना लेकर आये हुए नयी प्रतिभाओं के लिए गुरुमंत्र हैं.

७० साल से ज्यादा संगीत के क्षेत्र में अपनी जिंदगी बिताने वाले लिविंग लीजेंड की बात अगर कुछ लोग नहीं सुनना नहीं चाहते तो तो ऐसे लोगों से ज्यादा अपेक्षाएं रखना भी गलत हैं.

रानू मंडल लता मंगेशकर जैसा गाती हैं, उन्होंने लता मंगेशकर के लिए प्रतिस्पर्धा निर्माण की हैं, लता मंगेशकर उनसे जलती हैं...... इत्यादि दावे करना पूरी तरह बकवास हैं. ऐसे दावे करनेवाले ना संगीत को समझते हैं और ना ही लता को ठीक से समझते हैं.

Trolling Lata Mangeshkar is itself an irony (Hindi)
Screen shots taken from YOUTUBE

Trolling Lata Mangeshkar is itself an irony (Hindi)
Screenshots are taken from YOUTUBE

जिनको गाने की समझ नहीं हैं वही लोग ऐसी हास्यास्पद बातें कर सकते हैं. रानू मंडल को अभी बहोत दूर तक चलना हैं भाइयों, उन्हें अपने आपको सिद्ध करना हैं. २-४ गाने गाये हैं उन्होंने अभी तक, इसलिए इस तरह की हवाई बाते करनेवाले एक तरह से रानू का ही नुकसान तो नहीं कर रहे हैं?

Lata Mangeshkar on Asha Bhosle

आशा भोसले के बारे में लता दीदी ने जो कहा हैं वह १००% सत्य हैं. आशा जी की संगीत क्षेत्र में अपनी पहचान हैं. ऐसे कई गाने हैं हैं जो सिर्फ आशा के लिए ही बने हैं. संगीतकार ओ. पी. नय्यर तो एक ऐसी शख्सियत हैं जिन्होंने लता दीदी संगीत क्षेत्र की छोटी पर होने के बावजूद भी कभी उनके लिए गाना नहीं बनाया, बल्कि अपने गानों में आशा जी की आवाज को प्राथमिकता दी.

यही बात सिद्ध करती हैं की आशा जी ने अपने अलग गानो की पहचान बनायीं हैं. हिंदी एवं मराठी में गाये हुए ऐसे कई गाने हैं, जो सुनने के बाद ऐसे लगता हैं की सिर्फ आशा जी के लिए ही बने हैं.

Asha Bhosle famous song




अब इस छोटी सी बच्ची को देखिये. कितनी खूबसूरती से इसने ये गाना गया.




ये बच्ची हैं आर्या अम्बेकर! मराठी संगीत क्षेत्र में अभी यह एक उभरता सितारा हैं. इतनी प्रतिभा होने के बावजूद इन्होने आशा दीदी को compete  करने की बात कभी सपने में भी सोची भी नहीं होगी. और ना ही इनकी वजह आशा दीदी को गाने का अवसर समाप्त हुवा.

मगर रानू जी के बारे में ये बाते किसी सोच की तहत  फैलाई जा रही हैं, फेमस होने का नशा इतना बुरा होता हैं की वह इंसान अपनी राह से जरूर भटका सकता हैं, ऐसे प्रशंसकों से रानू जी दूर ही रहे, जो उनका नाम और प्रतिभा अपने स्वार्थ के लिए भुनाने में लगे हो.

द ग्रेट शोमैन राज कपूर जी की फिल्मो को ब्लॉकबस्टर बनाने में संगीत का अहम् रोल होता था. मैंने अपने जीवन में किसी भी फिल्म डायरेक्टर को संगीत का इतना ज्ञानी नहीं देखा, जितने राज कपूर थे.

राज कपूर जी की फिल्मो में अधिकतर गाने लता दीदी ने ही गाये हैं. उनकी फिल्म हीना का एक गाना जो आज भी उतनी ही सुना जाता हैं.





राज कपूर और लता मंगेशकर एक ऐसा कॉम्बिनेशन था जिन्होंने हिंदी फिल्मो के संगीत को नए आयाम प्रदान करने में अहम् भूमिका अदा की. उनके और लता दीदी के बीच अनबन का एक किस्सा भी बताया जाता हैं, जिसकी वजह से कुछ फिल्मो के गाने लता मंगेशकर ने नहीं गाये थे. आखिर राज साहब को फिल्मो के प्रॉफिट से शेयर तक लता जी को देना पड़ा था.

लता दीदी ने गाये हुए आर.के. प्रोडक्शन के फिल्मो के गाने दौर निश्चित ही सुनहरा रहा, यही लता जी की खासियत हैं.

आइये सुनते हैं राज कपूर की ही जुबानी की वह लता मंगेशकर के बारे में क्या कह रहे हैं.

Raj Kapoor on Lata Mangeshkar





लता दीदी ने सिर्फ फिल्मो में ही नहीं गया. श्रीराम, श्रीकृष्ण, संत मीराबाई, संत ज्ञानेश्वर, संत तुकाराम, संत रविदास के लिखे हुए भजनो को पूरी दुनिया भर पहुंचाने का महान कार्य लता दीदी की आवाज ने जितना किया है शायद उतना किसी और ने किया होगा.  पर हम लोग अक्सर ये बाते भूल जाते हैं. उनके द्वारा गाये हुए भजनो ने करोडो दिलो में भक्तिरस बढ़ने का असीम कार्य किया हैं.

मैं लता दीदी के मीरा भजन का बहोत बड़ा फैन हूँ. आओ trollers, मन की खटास मिटाकर लता के इस सुरमयी सफर के स्वर्गीय सुखों आनंद ले लो.

Meera Bhajan by Lata Mangeshkar





Pt. Bhimsen Joshi & Lata Mangeshkar Bhajan




लता मंगेशकर जी आपका धन्यवाद, ऐसे स्वर्गीय सूरो को धरती पर लाने के लिए!

Pandit Bhimse Joshi on "imitation"


आइये अब सुनते हैं महान गायक पंडित भीमसेन जोशी "imitation" पर क्या कहते हैं




अब कॉपी की बात देखे तो एक पाकिस्तानी गायक खालिद बैग जिनका नाम हैं. हूबहू रफ़ी साहब का गाना गाते हैं. रफ़ी साहब जैसे लीजेंडरी सिंगर का गाना इतना सही ढंग से गाना कोई आम बात जरूर नहीं हैं.

Mohammad Rafi famous song





इस दुनिया में टैलेंट की बिलकुल कमी नहीं हैं, ये बात इस वीडियो से पता चलती हैं. पर क्या खालिद बैग कभी रफ़ी साहब की जगह ले पाएंगे? बिलकुल नहीं. क्यूंकि उन्हें अपनी पहचान अपने आवाज से ही बनानी पड़ेगी.

यही बात तो लता जी ने कही थी मगर ट्विटर पर कुछ विद्वानों (?) को पसंद नहीं आया और उन्होंने अपनी भड़ास लता जी पर निकालते हुए अपने अज्ञानी होने का परिचय जरूर दिया.

Lata Mangeshkar trolled on twitter












लता दीदी ने किसी का नाम लिए बगैर दी हुयी सलाह का इतना बवंडर खड़ा करना एक गलत संस्कृति की पहचान तो नहीं बन रही हैं? शायद.... जिसे एक नाम दिया गया हैं, trolling.

ये ट्रोलर्स खुद क्या हैं ये भी जरा अपने गिरेबान में झांके. लता दीदी को more graceful बनने की सलाह देने वाले और उन पर अपमानजनक टिपण्णी का आरोप लगनेवाले अपने जिंदगी में कितनो की मदद की हैं, यह ये सवाल भी अपने आप से पूछे. मेरी नजर में ऐसे लोगों की कीमत किसी बरसाती मेंढक से ज्यादा नहीं हैं.

लता दीदी का सामाजिक योगदान, चैरिटी (जिसे वह ट्रोलर्स के जैसा ट्विटर पर आम नहीं करती) आदि बातो को जाने बिना कमेंट्स करना एक हीन  प्रवृत्ति का लक्षण ही हो सकता हैं.

Did Lata Mangeshkar not let her competitors get ahead


लता दीदी पर एक और सुप्रसिद्ध आरोप पहले से ही लगते आ रहा हैं, की उन्होंने प्रतिस्पर्धी गायिकाओं को आगे नहीं आने दिया. राज कपूर जैसे दिग्गजों ने कई फिल्मो में अन्य गायिकाओं को भी गाने का मौका दिया. मगर फिर उन्हें लता मंगेशकर को ही क्यों गाने के लिए बुलाना पड़ा? ऐसे कई संगीतकार हैं जिन्होंने सिर्फ और सिर्फ लता से ही गाने गंवाए.

इसके पीछे लता जी ने कुछ षड़यंत्र ही किया होगा ये तो सिर्फ तर्क ही हो सकता हैं. उनमे असीमित प्रतिभा हैं, ये भी तो एक सत्य हैं, जिसे नकारा नहीं जा सकता.

किसी लीजेंडरी कलाकार या खिलाड़ी के सामने उसके जितना ही टैलेंट होने के बावजूद भी कई अन्य लोग आगे नहीं बढ़ सकते, लेकिन इसके लिए उसे जिम्मेदार कैसे ठहराया जा सकता हैं?

वह जमाना मेलोडियस गानों का था. बॉलीवुड गानों का एक ही ट्रेंड ज्यादा चलता था, जिसकी पायनियर लता थी, जिसमे अपनी पहचान और जगह, उन्होंने काफी पहले ही बना ली थी.

Suman Kalyanpur

यह भी एक कारण हो सकता हैं, की लता मंगेशकर जितना ही टैलेंट होने के बावजूद भी सुमन कल्याणपुर उनकी जगह नहीं ले सकी. मैं तो कई वर्षो से इस गाने को लता दीदी ने गाया हैं यही  समझकर चल रहा था. ये होता हैं ट्रेंड. फिर कई सालो बाद पता चला ये सुमनजी की आवाज हैं.





सबसे बड़ी बात तो यह हैं, सुननेवाले किसको सुनना चाहते हैं? वह एक ऐसा दौर था जिसमे सामान्य स्टोरी, सामान्य एक्टर होने के बावजूद भी हिट गानो की वजह से फिल्मे चल जाती थी.

ऐसे में लता, मुकेश, रफ़ी, किशोरदा इनकी आवाज बॉलीवुड में एक ब्रांड बन चुकी थी और लोग उनके गाये गानो को ही पसंद करते थे. इसलिए नए गायक एवं गायिकाओं को लांच करने में रिस्क भी होती होगी, ऐसा भी म्यूजिक डायरेक्टर्स या प्रोडूसर्स मानते होंगे. इसका मतलब ये कतई नहीं हो सकता की लता ने षड़यंत्र रचा था और नयी गायिकाओं को आगे बढ़ने नहीं दिया.

गॉसिप एक अलग बात हैं. फ़िल्मी दुनिया में गॉसिप्स जंगल की आग की तरह फैलते हैं. मगर ये बात जरूर हैं, की लोग भी पत्थर उसी पेड़ को मारते हैं जिस पर फल ज्यादा होते हैं.

उस दौर में कितने रफ़ी, मुकेश, किशोर बने? पर उन पर कभी ये आरोप नहीं लगे. फिर ये आरोप लता मंगेशकर पर ही क्यों लगते हैं?

इसका मतलब ये तो बिलकुल ही नहीं हैं, की नयी प्रतिभा वाले गायक उभरकर नहीं आये. कई गायक आये, जैसे की जगजीत सिंग, शंकर महादेवन (Shankar Mahadevan), हरिहरन (Hariharan), सुरेश वाडकर (Suresh Wadkar), येसुदास (Yesudas), शैलेन्द्र सिंग (Shailendra Sing) ये नाम हम आज भी याद रखते हैं, क्यूंकि इन्होने अपनी अलग शैली बनायी. ना की रफ़ी साहब, मुकेशजी और किशोरदा से तुलना करते बैठे. अगर वह इन में से ही किसीको फॉलो करने की कोशिश करते, तो शायद आज इनके गाने और नाम हमें याद नहीं रहते.


एक और महत्वपूर्ण बात यह हैं की, उस ज़माने में किसी उभरते कलाकार के लिए उतने प्लेटफार्म भी नहीं थे, जितने आज के ज़माने में उपलब्ध हैं. आज फिल्म में गाने का मौका नहीं मिलता तो आप यू-ट्यूब, फेसबुक, ट्विटर आदि सोशल मीडियल प्लेटफार्म से लोगो तक अपनी प्रतिभा को पंहुचा सकते हैं; जैसे रानू मंडल के साथ हुवा. इसी कारण आज एक से बढ़कर एक टैलेंट हमारे सामने आ रहा हैं, जो की उस जमाने में होना पॉसिबल नहीं था.

Kishor Kumar & Lata Mangeshkar


किशोर कुमार तो लता दीदी से १ रुपया मानधन कम लेते थे, ताकि लता जी की प्रतिभा का अपमान ना हो. जब किशोरदा  ने उनका अपमान करने की कभी सोची नहीं, तब तुम जैसे trollers की लता दीदी पर ऊँगली उठाने की हिम्मत कैसे हुयी? क्यूंकि तुम अपने आप को बहोत स्मार्ट समझते हो, जो की तुम हो नहीं!

इन सारी चीजों को समझने बिना किसी पर आरोप लगाना क्या सही हैं? जो लोग हालात को बिना समझे अपने कमेंट्स कर रहे हैं उन्हें और ज्यादा पढाई करने की जरुरत हैं. लता दीदी पर आरोप लगाना उनकी बहोत बड़ी गलती हैं.

अब आते हैं रानू मंडल के विषय पर. हम जैसे के पहले ही कह चुके हैं वह प्रतिभावान गायिका हैं. एकदम जमीन से आस्मां तक उनका सफर आगे आनेवाले नए कलाकारों को जरूर प्रोत्साहित करेगा.

लेकिन एक भय भी मन में हैं. इंटरनेट सेंसेशन बने रानू को आगे बढ़ाने की कोशिश की जा रही हैं या इस सेंसेशन को अपने प्रमोशन के लिए 'इस्तेमाल' किया जा रहा हैं. आज के जमाने में फिल्म के प्रमोशन के लिए लोग क्या क्या नहीं करते?

कही रानू से गाने गंवाकर हिमेश अपनी रोटी तो सेंकने में नहीं लगे हैं? इस बात का पता कुछ सालो में चल जाएगा. मगर इसका रानू को फायदा ही हुवा हैं.

मैं तो इतना ही कहूंगा की रानू मंडल ने लता दीदी की सलाह मानकर चलना चाहिए, यही उनके फायदे का सौदा साबित होगा. आज उन्हें जो नाम मिला हैं, अगर वह उसे आगे बढ़ाना चाहती हैं तो उन्ही लोगों से ज्यादा से ज्यादा सीखने की कोशिश करे जिन्होंने अपने जीवन में कुछ कर दिखाया हो. और सबसे बड़ी बात, प्रशंसकों के आड़ में बैठे बरसाती मेंढकों से दूरी बनाये रखे.

Disclaimer: इस आर्टिकल का उद्देश्य किसी का अपमान करना एवं किसीको बदनाम करना नहीं हैं. बस, जैसे को तैसा जवाब देने की कोशिश की गयी हैं; ताकि जब लता दीदी जैसे लिविंग लीजेंड पर आरोप करे, उससे पहले हकीकत को जान ले और समझ ले.

lata mangeshkar, lata mangeshkar, didi tera devar deewana, lata mangeshkar o mere sanam, internet troll, lata mangeshkar ke song, lata mangeshkar all songs, lata mangeshkar songs list, lata mangeshkar sad song, lata mangeshkar pyar kiya to darna kya, lata mangeshkar vande mataram, lata mangeshkar ek radha ek meera, lata mangeshkar best song, lata mangeshkar latest song, lata mangeshkar ganpati aarti, lata mangeshkar, Bhimse Joshi, kishore kumar, mohd rafi, mukesh, shreya ghoshal, sunidhi chauhan, asha bhosle, ranu mondal, himesh reshamiya, suresh wadkar, shankar mahadevan, yesudas, jagjitsingh

Post A Comment
  • Blogger Comment using Blogger
  • Facebook Comment using Facebook
  • Disqus Comment using Disqus

No comments :


Current Affairs

[Current Affairs][bleft]

Climate change

[Climate Change][twocolumns]

Lifestyle

[Lifestyle][twocolumns]

Animal Abuse

[Animal Cruelty][grids]