technology

[Technology][bleft]

Health

[Healthcare][bleft]

Business

[Business][bleft]

Network Marketing

[Network Marketing][bleft]

Oral Cancer: Timely Diagnosis Can Increase Probability of Living

Oral Cancer: Timely Diagnosis Can Give You Assurance of Living
Image courtesy: Google


Cancer is a serious disease. Even today, the fear of cancer can shake even the best courageous person inside. But if we understand this thing correctly, cancer is not fatal. But even a little carelessness can make it serious and fatal. The only thing I can say about cancer is that the touch of this disease to anyone's life, not less than hell. That is why the biggest victory over cancer is in preventing it.

When someone has cancer, that person feels as everything is over now. With this thought, the patient goes into a vortex of despair. But in the last few decades, medical science has made a lot of inventions, so no disease is incurable today.

If the cancer is detected at the right time and it is treated appropriately, then any patient can come out of the vortex of this disease forever and his lifeline can be prolonged. But we need only to keep our morale high in this situation and get proper treatment through experts.

By the way, there are different types of cancers. But today we will discuss oral cancer in this article. Oral cancer has one-third of patients of the total cancer patients in India. Every year 17 thousand 500 people die in India by mouth cancer.

It is quite shocking that most of these deaths of the youth.

Oral cancer is a broad term that includes various fatal diseases. In a practice conducted in the 'National Institute of Cancer Prevention' under the 'Indian Council of Medical Research' (ICMR) in 2019, it has been found that the rapid rise in oral cancer disease in India is a matter of concern. In the last six years, the number of patients with oral cancer has increased by more than 2 lakhs and this figure has reached above 12 lakhs.

In this study, it was found that India has become the global capital of oral cancer. On the one hand, while there has been a record increase in the number of oral cancer patients, on the other hand, there is a lack of awareness or carelessness seen on this issue.

The record increase in the number of consumers of deadly substances like gutkha, tobacco, pan masala and the decline in the average age of the consumers is definitely going to raise concern, according to experts. Therefore, apathy towards precautions to avoid diseases related to the mouth is pointing towards a serious crisis.


Oral Cancer: Timely Diagnosis Can Give You Assurance of Living

Experts believe that if similar oral diseases continue to be ignored, then one day more than 50% of Indians may either suffer from oral cancer or maybe in the early stage of cancer. 

Major Causes and Symptoms

This cancer can occur due to any wound or lump on the lips, tongue, gums, inside the cheeks and anywhere inside the mouth. The main reasons for oral cancer are the intake of gutkha, consumption of cigarettes and tobacco products.

Different types of symptoms are seen when cancer occurs. Apart from this, frequent mouth sores, burning sensation in the throat, hoarseness of voice, pains at the time drinking water, shortness of sensations from lips, sudden slackening of teeth, discomfort when moving the jaws, discomfort when opening the mouth. These symptoms are also known as oral submucous fibrosis and cause oral cancer.

All these symptoms are just the beginning Those who consume gutkha and tobacco should not ignore the red and white stains of the mouth that indicate cancer. Being aware of this subject, get treatment on time. Ignoring such symptoms can cause cancer disease in a fatal situation.

Diagnosis

If the primary symptoms of cancer appear, first of all, get a biopsy done at the primary level and necessary investigation for it. After completion of the diagnosis, the size of the cancer is determined through a CT scan or MRI.

Take care of these things

While treating the cancer of the mouth, doctors have to take care of some important things. In this, in the treatment of any cancer, completely removing the cancerous part or part of cancer, properly maintaining the function of the part of the body that is suffering from cancer, and while doing all this, do not distort the part which is occupied by cancer. One has to take care of such important things.

Since the face is a prominently visible part of the body, it has to be taken care of, so that there is no distortion of any kind. Also, after the operation, there should be no difference in the patient's eating and drinking and swallowing food, or in the process of speaking, these things have to be taken care of.

This is how the treatment is done

If the cancer of the mouth is in the first or second stage, then it is usually preferred to do surgery and destroy cancer. If there is cancerous muscle's knot, in the neck, it can also be removed. In this, the loss of the patient's tongue, jaw, and cheeks of these organs can be reduced with modern medical methods like plastic surgery.

In this process, parts extracted from other parts of the body are also used. In this modern medical procedure, it is usually possible to make a new tongue or cheek from the skin of the wrist of the hand and blood vessels of the pulse, to make a new jaw from the lower leg bone and to plant new teeth on it.

This procedure is called oncoplastic surgery. After surgery, the face should not be deformed under any circumstances and special effects are taken in this direction so that the effects of cancer are not on the body.

Beyond this, if the patient's cancer reaches the third stage, then radiation is needed. But the possibility of defending the disease through radiation can be reduced. Chemotherapy is treated in the fourth stage of cancer. In this phase, only an attempt is made to focus on how to prolong the patient's lifeline.

Ultimately, the prevalence and depth of the disease depend on the future of treatment. To avoid this condition, diagnosis and treatment of such cancer are necessary in time. Therefore, without taking any kind of treatment, seek the opinion of experts and start treatment before the disease becomes serious. This is an effective way to overcome this disease.


For more information contact

Dr. Sumit Shah

Consultant Surgical Oncologist and Laparoscopic Surgeon

Prolife Cancer Centre‎, Pune

Contact no. 9607079019

























मुंह का कैन्सर : समय पर निदान, जीवनरेखा को बढ़ा सकता हैं 



Oral Cancer: Timely Diagnosis Can Give You Assurance of Living
Image courtesy: Google

कैंसर एक गंभीर बिमारी हैं. आज भी कैंसर का भय अच्छे से अच्छे हिम्मतवान इंसान को भी अंदर से हिला दे सकता हैं. मगर इस बात को हम सही ढंग से समझे तो कैंसर जानलेवा नहीं हैं. मगर थोड़ी सी लापरवाही भी इसे गंभीर और जानलेवा बना सकती हैं. पर कैंसर के बारे में मैं इतना ही कह सकता हूँ कि, इस बिमारी का किसी के भी जिंदगी को स्पर्श, किसी नरक से कम नहीं हैं. इसीलिए इसे ना होने देने में ही कैंसर पर सबसे बड़ी जीत हैं.  

किसी को कैन्सर की बीमारी होने पर उस इंसान को लगता है, जैसा अब अपना सब कुछ खत्म हो चुका है. इस विचार से मनुष्य निराशा के भंवर में धंसता चला जाता है. लेकिन पिछले कुछ दशकों में मेडिकल साइन्स ने काफी प्रगति कर ली है, इसलिए आज कोई भी बीमारी लाइलाज नहीं है.

अगर सही समय में कैन्सर की बीमारी का पता चल जाए और उस पर उचित तरीके से इलाज किया जाए तो कोई भी मरीज इस बीमारी के भंवर से हमेशा के लिए बाहर आ सकता है और उसकी जीवनरेखा और लम्बी की जा सकती है. लेकिन  इसके लिए जरुरत है केवल हमें इस स्थिति में भी अपना मनोबल उंचा रखने और विशेषज्ञों के माध्यम से उचित इलाज प्राप्त करने की.

वैसे तो कैन्सर की बीमारी के विभिन्न प्रकार होते. लेकिन आज हम इस भाग में Oral Cancer (मुख कर्करोग) पर चर्चा करेंगे. भारत में होने वाले कुल कैन्सर की बीमारियों में ओरल कैन्सर की मात्रा एक तिहाई होती है. प्रतिवर्ष भारत में 17 हजार 500 लोगों की मृत्यु मुंह के कैन्सर से होती है.


इसमें एक काफी चौंकाने वाली बात है कि, इनमें से ज्यादातर मौते युवाओं की होती है. ओरल कैंसर (Oral Cancer) एक व्यापक शब्द है जिसमें विभिन्न घातक बीमारियां शामिल हैं.


'इंडियन कौन्सिल ऑफ मेडिकल रिसर्च'अंतर्गत (आयसीएमआर) के अंतर्गत कार्यरत 'नॅशनल इन्स्टिट्यूट ऑफ कॅन्सर प्रिव्हेन्शन'ने 2019 में किये गए एक अभ्यास में पाया कि, भारत में ओरल कैंसर की बिमारी का तेजी से बढ़ना चिंता का विषय हैं. बीते छह वर्षों में मुख कैंसर के पेशेंट्स में 2  लाख से ज्यादा बढ़ोतरी होकर यह आंकड़ा 12 लाख  के ऊपर पहुँच चूका हैं. इस संशोधन में यह पाया गया की भारत ओरल कैंसर की वैश्विक राजधानी बन चुका हैं. एक ओर जहाँ ओरल कैंसर के पेशेंट की संख्या में रिकॉर्ड बढ़ोतरी होने की बात सामने आयी हैं, वहीँ दूसरी ओर इस विषय पर जागरूकता की कमी या बेफिक्री विशेषज्ञों के लिए चिंता का विषय हैं.

इसमें गुटखा, तम्बाकू, पान मसाला जैसे घातक पदार्थों के सेवन करने वालों की संख्या में हो रहे रिकॉर्ड वृद्धि और सेवन करने वालों की औसतन उम्र में आयी गिरावट निश्चित ही चिंता बढ़ाने वाली हैं, ऐसा विशेषज्ञों का मानना हैं. इसलिए मुख से सम्बंधित बीमारियों से बचने के लिए सावधानियों के प्रति उदासीनता एक गंभीर संकट की ओर इशारा कर रहा हैं.
Oral Cancer: Timely Diagnosis Can Give You Assurance of Living


विशेषज्ञ मानते हैं, कि अगर इसी तरह से मुख रोगों की अनदेखी की जाती रही तो एक दिन भारत में 50% से ज्यादा भारतीय या तो मुख कैंसर से पीड़ित हो सकते हैं या कैंसर की शुरुआत की स्टेज में हो सकते हैं. 


प्रमुख कारण और लक्षण

यह कैन्सर मुंह के होंठ, जबान, मसूड़े, गाल के अंदर की जगहों पर तथा मुंह के अंदर कहीं भी कोई जख्म या गांठ होने से हो सकता है. मुंह का कैन्सर होने के प्रमुख कारणों में गुटखे का सेवन, सिगरेट एवं तंबाखूजन्य पदार्थों के सेवन से होता है.

कैन्सर होने पर विभिन्न तरह के लक्षण दिखाई देते है. इसके अलावा बार-बार मुंह के छाले होना, गले के अंदर जलन होना, आवाज का बैठना, पानी पिते समय तकलीफ होना, होंठों से संवेदनाएं कम होना, दांत अचानक ढिले होना, जबड़ों की हलचल करते समय तकलीफ होना, मुंह खोलते समय तकलीफ होना जिसे Oral submucous fibrosis भी कहा जाता हैं, ऐसे लक्षण मुंह के कैन्सर के होते है.

यह सभी प्रकार की तकलिफें मुंह के कैन्सर की शुरुआत भर होते है. इस स्थिति को चिकित्सा शास्त्र में ‘सबम्युकस फायब्रासिस’ (submucous fibrosis) कहा जाता है. गुटखा और तंबाखू का सेवन करने वाले लोग कैन्सर के इशारा देने वाले मुंह के लाल और सफेद दागों की ओर अनदेखी ना करें. इस विषय में जागरुक रहते हुए समय पर ही इलाज करवा लें. इस विषय की ओर अनदेखी करने से कैन्सर की बीमारी घातक स्थिति में पहुंच सकती है.

इस तरह करें निदान

कैन्सर के प्राथमिक लक्षण दिखाई देने पर सबसे पहले प्राथमिक स्तर पर बायोप्सी एवं इसके लिए आवश्यक जांच-पड़ताल करवा लें. निदान पूरा होने के बाद सीटी स्कैन या एमआरआई के माध्यम से कैन्सर की व्याप्ति कितनी है, उसका आकार कितना है, यह बात निश्चित हो जाती है.

इन बातों का रखना होता है खयाल

मुंह के कैन्सर का इलाज कराते वक्त डॉक्टरों को कुछ अहम बातों का ध्यान रखना होता है. इसमें किसी भी कैन्सर के इलाज में कैन्सर की कारक गाठ या भाग को पूरी तरह से निकालना, शरीर का जो अंग कैन्सर पीड़ित है उसके कार्य को उचित तरीके से मेन्टेन करना तथा यह सब करते समय जो भाग कैन्सर से ग्रसित है उसे विकृत ना होने देना, ऐसी महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना पड़ता है.

चूंकि, चहरा यह शरीर का प्रमुखता से दिखने वाला भाग होता है, इसलिए उसमें किसी भी तरह की कोई विकृति ना आएं, इसका खयाल रखना पड़ता है. साथ ही ऑपरेशन के बाद मरीज के खाने-पीने और खाना निगलने में कोई तकलीफ या बोलने की प्रक्रिया में कोई अंतर ना आएं, इन बातों का खयाल रखना होता है.

इस तरह होता है इलाज

अगर मुंह का कैन्सर पहले या दूसरे स्टेज में हों तो सामान्य तौर पर शल्यक्रिया कर कैन्सर को नष्ट करने को की तरजीह दी जाती है. अगर गर्दन में कैन्सर की गाठ हों तो उसे भी निकाला जा सकता है. इसमें मरीज के जबान, जबड़े और गाल इन अंगों के होने वाले नुकसान को प्लास्टिक सर्जरी जैसे आधुनिक चिकित्सा पद्धति से कम किया जा सकता है.

इस प्रक्रिया में शरीर के दूसरे अंगों से निकाले गए भाग का भी इस्तेमाल किया जाता है. इस आधुनिक आयुर्विज्ञान की प्रक्रिया में आम तौर पर हाथ की कलाई की त्वचा तथा नाड़ी की रक्तवाहिनियों से नयी जबान या गाल बनाना, पैर की निचले भाग की हड्डी से नया जबड़ा बनाना और उस पर नये दातों का रोपण करना संभव हो पाया है. इस प्रक्रिया को आँकॉप्लास्टिक सर्जरी कहा जाता है. सर्जरी के बाद चेहरा किसी भी हाल में विकृत ना हों और भविष्य में कैन्सर का प्रभाव शरीर पर ना हों, इस दिशा में खास ख्याल रखा जाता है.

इससे आगे जाकर अगर मरीज का कैन्सर तिसरे स्टेज में पहुंच जाए तो फिर रेडिएशन की जरुरत होती है. लेकिन रेडिएशन के माध्यम से बीमारी वापिस होने की संभावना को कम किया जा सकता है. कैन्सर के चौथे चरण में केमोथेरेपी का इलाज किया जाता है. इस स्टेज में लेकिन केवल मरीज की जीवनरेखा किस तरह से लम्बी की जाए, इस ओर ध्यान देने का प्रयास होता है.

आखिर में बीमारी की व्याप्ति और गहराई इस पर इलाज का भविष्य निर्भर होता है. इस स्थिति से बचने के लिए वक्त रहते इस तरह के कैन्सर का निदान और इलाज होना आवश्यक है. इसलिए इलाज में किसी भी तरह की कोताही ना बरतते हुए विशेषज्ञों की राय लें और बीमारी को गंभीर होने से पहले उसका इलाज शुरू करें. यही इस बीमारी से उबरने का एक प्रभावी रास्ता है.

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें 

Dr. Sumit Shah

Consultant Surgical Oncologist and Laparoscopic Surgeon

Prolife Cancer Centre‎, Pune

Contact no. 9607079019


Post A Comment
  • Blogger Comment using Blogger
  • Facebook Comment using Facebook
  • Disqus Comment using Disqus

No comments :


Current Affairs

[Current Affairs][bleft]

Climate change

[Climate Change][twocolumns]

Lifestyle

[Lifestyle][twocolumns]

Animal Abuse

[Animal Cruelty][grids]