technology

[Technology][bleft]

Health

[Healthcare][bleft]

Business

[Business][bleft]

Network Marketing

[Network Marketing][bleft]

Air Pollution: Knock of a Pandemic


Air Pollution: Knock of an Pandemic


Air pollution in the world is being compared with an "epidemic". Air pollution is one of the main global health risks today, due to air pollution, the increase in excess mortality and decrease in some years of life has become common. 

In particular, the increasing evidence of heart diseases can be attributed to reducing some years of life. Researchers say that due to various diseases caused by air pollution, the average life of people around the world has decreased by about three years.

A study was published on March 3, 2020, by The European Society of Cardiology. The study named "Loss of life expectancy from air pollution compared to other risk factors: a worldwide perspective", conducted special exercises on the fatal consequences on human life from toxic particles produced by burning oil, gas and coal.

In a press release issued after this study, Thomas Münzel, Professor at the medical center of the University of Mainz (Germany) and the author of this report, said: "Both air pollution and smoking can also be prevented, but in the last few decades, in compare with smoking, Much less attention has been paid to serious issues like air pollution, especially by cardiologists Received ". 


Professor Munzel further states that the damage caused by air pollution on public health life is much larger than expected. The results of our study suggest that air pollution is not less than an epidemic. Policymakers and the medical community should focus more on this. Man-made air pollution is responsible for about two-thirds of premature deaths, mainly due to the use of fossil fuels (oil, gas, and coal).


Air Pollution: Knock of an Pandemic


Earlier researches attributed the increase in air pollution to deaths due to high respiratory, cardiovascular disease and stroke. This latest research confirms that in 2015 there were 8.8 million premature deaths due to air pollution. It indicates the human population around the world to reduce their average life by three years.


The team found in this exercise that the number of premature deaths due to air pollution is generally increasing with age. But, in some regions including Africa and South Asia, the number of premature deaths among young children is also very high which is a matter of concern. According to a Fox News report, more than 100,000 American citizens die prematurely every year due to polluted air.

Air pollution is a global cause for an increase in heart and blood vessel-related diseases. Therefore it should be included in the guidelines of the European Society of Cardiology and the American Heart Association. These guidelines include the prevention of smoking, diabetes and hypertension and cholesterol as well as chronic heart diseases and heart failure.

Comparison of man-made air pollution and air pollution from natural resources, such as the Amazon wildfires or Australia's bush fires, found that fossil fuels are the most responsible for air pollution.

There are also solutions to avoid this epidemic. The energy required for transportation and power generation has to be clean. Which can only be done by finding a substitute for fossil fuels! Experts and scientists will have to look into this matter promptly.

According to the report by Cardiovascular Research Today, air pollution is not only shortening people's lives but can compare with the serious consequences of wars and violence, parasitic diseases, vector-borne diseases (such as malaria, HIV / AIDS) and smoking. Because of all these, the average age of human beings is reduced by 2.2 years, while the average age of 2.9 years is reduced due to air pollution. See the chart below.



Responsible for shortening people lives
Years reduced of your life
Extra deaths due to shortening life expectancy
Smoking
2.20
7.20 Million extra deaths
HIV/AIDS 
0.70
1.00 Million extra deaths
Malaria and similar diseases 
0.60
0.60 Million extra deaths
Wars and violence 
0.30
0.53 Million extra deaths
Air pollution
2.90
8.80 Million extra deaths


Incorporating information from these studies created a Global Exposure Mortality Model (GEMM) which proves that air pollution has hazardous results on internal organs. Increased carbon content has also proved fatal for mothers' womb.

According to a release issued by the European Society of Cardiology, the researchers recorded the adverse effect of air pollution on six categories of disease which include 

1. Lower respiratory tract infection
2. Chronic obstructive pulmonary disease
3. Includes conditions such as lung cancer
4. stroke (cerebrovascular disease)
5. high blood pressure and, 
6. diabetes.

They found that heart disease and brain diseases are the most responsible for the process of life expectancy caused by air pollution.

Alert for India and South Asia

Geographically, in East Asia, there are 35%  and 32% in South Asia having the death rate due to air pollution. Africa is followed by 11% and Europe at 9%. Compared to Europe, the death rate in South Asia is even lower by 12%, South Asia is significantly above average in reducing age.

The average age of South Asia has decreased from 2.6 to 3.9 years, for which the stated reasons are indicating low health care and high child mortality. Therefore, in a country like India, it is most important to understand the seriousness of this matter.

The lowest mortality and average age reduction are found in Australia, where the most stringent air quality standards are followed worldwide.

However, this study has several limitations. Only air pollution is kept in front of it. But apart from this, plastic pollution can be seen emerging as another big danger.


Whether it is climate change or air pollution or plastic pollution, awareness is not seen in India and Asian countries.

Already suffering from many health hazards due to child mortality and poor health care and handling more than 25% of the world's population, this region has neither the will nor the resources to fight the dangers like air pollution. Its leaders have no vision to fight these types of health challenges.

From the point of view of this report, the furious form of a catastrophic epidemic in Asia is air pollution. If you want to avoid this, then you have to look serious towards such problems.

















वायु प्रदूषण: महामारी की दस्तक

Air Pollution: Knock of an Pandemic


दुनिया में वायु प्रदूषण की तुलना किसी "महामारी" से की जा रही है. वायु प्रदूषण आज के समय में एक मुख्य वैश्विक स्वास्थ्य जोखिमों में से एक है, जिससे अतिरिक्त मृत्यु दर में बढ़ोतरी तथा जीवन के कुछ वर्षों का कम होना आम बात बन चुकी हैं. 

विशेष रूप से हृदय रोगों के बढ़ते प्रमाण जिंदगी के कुछ वर्षों को घटाने के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता हैं. शोधकर्ताओं का कहना है कि वायु प्रदूषण की वजह से होने वाली विभिन्न बीमारियों के कारण दुनिया भर के लोगों का औसतन जीवन लगभग तीन साल से घट चुका हैं. 


The European Society of Cardiology द्वारा 3 मार्च, 2020, को एक अभ्यास प्रकाशित किया गया. “Loss of life expectancy from air pollution compared to other risk factors: a worldwide perspective.” (अन्य जोखिम कारकों की तुलना में वायु प्रदूषण से जीवन प्रत्याशा का नुकसान: एक विश्वव्यापी परिप्रेक्ष्य) नाम से किये गए अध्ययन में तेल, गैस और कोयले के जलने से निर्माण होने वाले विषैले कणों से मानवी जीवन पर होने वाले घातक परिणामों पर विशेष अभ्यास किया गया हैं.

इस अध्ययन के बाद जारी की गयी प्रेस विज्ञप्ति में मेडिकल सेण्टर विश्वविद्यालय मैंज जर्मनी और इस रिपोर्ट के सहाय्यक लेखक प्रोफेसर थॉमस मुंजेल (Thomas Münzel) ने कहा: "वायु प्रदूषण और धूम्रपान दोनों भी रोके जा सकते हैं, लेकिन पिछले कुछ दशकों में धूम्रपान के प्रति जागरूकता पैदा करने की तुलना में वायु प्रदूषण जैसे गंभीर मुद्दे पर बहुत कम ध्यान दिया गया है, विशेष रूप से हृदय रोग विशेषज्ञों द्वारा". 


प्रोफेसर मुन्ज़ेल आगे कहते हैं कि, सार्वजनिक स्वास्थ्य जीवन पर वायु प्रदूषण द्वारा होने वाली क्षति उम्मीद से बहुत बड़ी है. हमारे अभ्यास के परिणाम यह बताते हैं कि एक वायु प्रदूषण किसी महामारी से कम नहीं हैं. नीति-निर्माताओं (Policy makers) और चिकित्सा समुदाय को इस पर अधिक ध्यान देना चाहिए. लगभग दो-तिहाई अकाल मृत्यु के लिए मानव निर्मित वायु प्रदूषण जिम्मेदार हैं, जो मुख्य रूप से जीवाश्म ईंधन (तेल, गैस और कोयला) के उपयोग से पैदा हो रहा हैं. 


Air Pollution: Knock of an Pandemic



इससे पूर्व किये गए शोधों में उच्च श्वसन, हृदय रोग और स्ट्रोक की वजह से होने वाली मृत्यु के लिए वायु प्रदूषण में वृद्धि को जिम्मेदार ठहराया गया था. यह नवीनतम किया गया शोध इस बात की पुष्टि करता है कि 2015 में वायु प्रदूषण के कारण 8.8 मिलियन अतिरिक्त समय से पहले मौतें हुयी. यह लगभग दुनियाभर  मानव जाती के लिए अपने जीवन के औसतन तीन साल कम होने की ओर दिशा निर्देश करता हैं. 

टीम ने इस अभ्यास में पाया कि वायु प्रदूषण के कारण समय से पहले होने वाली मौतों की संख्या आम तौर पर उम्र के साथ बढ़ रही हैं. लेकिन, अफ्रीका और दक्षिण एशिया सहित कुछ क्षेत्रों में छोटे बच्चों में समय से पहले होने वाली मौतों की संख्या भी बहुत अधिक हैं जो चिंता का विषय हैं. फॉक्स न्यूज़ के एक रिपोर्ट के अनुसार प्रदूषित हवा के कारण हर साल 100,000 से ज्यादा अमेरिकन नागरिकों की समय से पहले मृत्यु हो जाती हैं. 


वायु प्रदूषण हृदय और रक्त वाहिका से सम्बंधित रोगों में बढ़ोतरी के लिए एक वैश्विक कारण हैं. इसलिए इसे यूरोपियन सोसाइटी ऑफ कार्डियोलॉजी और अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के दिशानिर्देशों में शामिल करना चाहिए. इन दिशा निर्देशों धूम्रपान, मधुमेह और उच्च रक्तचाप तथा कोलेस्ट्रॉल के साथ-साथ क्रोनिक हार्ट डिसीसेस और हार्ट फ़ैल की रोकथाम पहले से ही शामिल हैं. 

मानव निर्मित वायु प्रदूषण और प्राकृतिक संसाधनों फैलने जैसे की अमेज़न की जंगल की आग  या ऑस्ट्रेलिया की झाडी की आग  इसमें यह पाया गया कि जीवाश्म ईंधन वायु प्रदूषण के लिए सबसे ज्यादा जिम्मेदार हैं. 

इस महामारी से बचने के लिए समाधान नहीं हैं ऐसा बिलकुल नहीं हैं. परिवहन और बिजली उत्पादन के लिए लगने वाली ऊर्जा को साफ सुथरा करना होगा. जिसे केवल जीवाश्म ईंधन के लिए पर्यायी ईंधन ढूंढकर ही किया जा सकता हैं. विशेषज्ञों एवं वैज्ञानिकों को इस बात पर तत्परता से गौर करना होगा. 


Cardiovascular Research Today के रिपोर्ट के अनुसार, वायु प्रदूषण लोगों के जीवन को ना केवल छोटा कर रहा है बल्कि इससे होने वाली बीमारियों के गंभीर परिणामों की तुलना युद्धों तथा हिंसा, परजीवियों से होनेवाली बीमारियां, वेक्टर-जनित बीमारियां (जैसे मलेरिया, एचआईवी / एड्स) और स्मोकिंग से की जाए तो भी कम ही होगी. क्यूंकि इन सभी की वजह से मनुष्य की औसतन आयु कम होने का प्रमाण 2.2 वर्ष इतना हैं, जबकि वायु प्रदुषण से 2.9 वर्ष औसतन आयु कम होने की पुष्टि की जा चुकी हैं. नीचे दिया गया चार्ट देखें. 

औसतन उम्र कम होने के लिए जिम्मेदार
आपके जिंदगी के कम हुए साल 
औसतन उम्र कम होने से हो रही अतिरिक्त मृत्यु प्रतिवर्ष 
स्मोकिंग 
2.20
7.20 Million extra deaths
एचआयव्ही/एड्स 
0.70
1.00 Million extra deaths
मलेरिया एवं उसकी जैसी बीमारियां 
0.60
0.60 Million extra deaths
युद्ध और हिंसा 
0.30
0.53 Million extra deaths
वायु प्रदुषण 
2.90
8.80 Million extra deaths


इन अध्ययनों से जानकारी को शामिल करके एक वैश्विक एक्सपोजर मृत्यु दर मॉडल (GEMM) बनाया जो यह सिद्ध करता है कि वायु प्रदूषण आंतरिक अंगों पर विपरीत परिणाम करता हैं. बढ़ती हुयी कार्बन की मात्रा तो माताओं के गर्भ के लिए भी घातक सिद्ध हुयी हैं. 

यूरोपियन सोसाइटी ऑफ कार्डियोलॉजी के जारी किये गए विज्ञप्ति के अनुसार, शोधकर्ताओं ने छह श्रेणियों की बीमारी पर वायु प्रदूषण के विपरीत प्रभाव को दर्ज किया, जिसमें निम्न श्वसन पथ संक्रमण (lower respiratory tract infection), फुफ्फुसीय रोग (chronic obstructive pulmonary disease), फेफड़े के कैंसर Lung cancer), स्ट्रोक (cerebrovascular disease), उच्च रक्तचाप और मधुमेह जैसी स्थितियां शामिल हैं. उन्होंने पाया कि हृदय रोग और मस्तिष्क संबंधी बीमारियां वायु प्रदूषण से निर्माण होने वाले जीवन घटने की प्रक्रिया के लिए सबसे अधिक जिम्मेदार हैं.

भारत और दक्षिण एशिया के लिए खतरे की घंटी

भौगोलिक रूप से अगर देखा जाए तो वायु प्रदूषण से होने वाले मृत्यु दर में पूर्वी एशिया का हिस्सा 35% और दक्षिण एशिया का हिस्सा 32% हैं. इसके बाद अफ्रीका 11% और यूरोप 9% हैं. यूरोप की तुलना में, दक्षिण एशिया में मृत्यु दर 12% भले ही कम है, औसतन उम्र कम होने में दक्षिण एशिया काफी ऊपर हैं.

दक्षिण एशिया  की औसतन उम्र में 2.6 से 3.9 वर्ष तक की कमी आयी है, जिसके लिए बताये गए कारणों में निम्न दर्जे की स्वास्थ्य देखभाल और बाल मृत्यु दर अधिक होने का इशारा कर रही हैं. इसलिए भारत जैसे देश में इस बात की गंभीरता समझने सबसे अधिक जरुरत हैं.

सबसे कम मृत्यु दर और औसतन आयु में कमी ऑस्ट्रेलिया में पायी जाती हैं, जहाँ दुनिया भर में सबसे कठोर वायु गुणवत्ता मानकों का पालन किया जाता हैं. 

हालांकि, इस अध्ययन की कई मर्यादाएं हैं. इसमें केवल वायु प्रदुषण को सामने रखा गया हैं. मगर इसके सिवाय प्लास्टिक प्रदुषण  एक और बहोत बड़ा ख़तरा बनकर उभरते देखा जा सकता हैं.

चाहे क्लाइमेट चेंज  हो या वायु प्रदुषण या प्लास्टिक प्रदुषण   भारत और एशियाई देशों में इसके प्रति जागरूकता दिखाई नहीं देती. पहले से ही बाल मृत्यु एवं निम्न दर्जे की स्वास्थ्य देखभाल से कई स्वास्थ्य संकटों से जूझने वाले और विश्व की 25% से ज्यादा आबादी को संभालने वाले इस प्रदेश में वायु प्रदुषण जैसे संकटों से लड़ने की ना इच्छाशक्ति हैं ना ही संसाधन हैं, ना यहाँ के नेताओं में इसकी दूरदृष्टि. इस रिपोर्ट की नजर से देखें तो वायु प्रदुषण एशिया सामने एक महाभयानक महामारी का रूप धारण कर चुका हैं. अगर इससे बचना चाहते हो तो ऐसी समस्याओं की ओर गंभीरता से देखना होगा. 


Post A Comment
  • Blogger Comment using Blogger
  • Facebook Comment using Facebook
  • Disqus Comment using Disqus

No comments :


Current Affairs

[Current Affairs][bleft]

Climate change

[Climate Change][twocolumns]

Lifestyle

[Lifestyle][twocolumns]

Animal Abuse

[Animal Cruelty][grids]