technology

[Technology][threecolumns]

Health

[Healthcare][bleft]

Business

[Business][twocolumns]

Network Marketing

[Network Marketing][grids]

New Health Challenge: Are We Consuming Plastic Everyday?






The use of plastic today is on the verge of stopping the breath of this earth. The plastic spread on the earth will not biodegrade for hundreds of years. Inside the land, in the water of the oceans ....  plastic is spread everywhere. That is why plastic comes out from the stomach of many stray animals and sea creatures in such a large quantity that it threatens their life.

Every day 5 to 12 million tons of plastic waste is being dumped into the sea. Scientists estimate that by 2050 the oceans will have the same amount of garbage, as sea creatures' weight.

Isn't plastic pollution a major crisis? Just the smallest size of this waste is called microplastic which now you and all of us are entering the body. Read this article completely. Your attitude towards your life will change.

What are microplastics?



Any microparticle of plastic less than 5 millimeters in size is considered a microplastic. Microplastics can enter our bodies from many sources. Which includes water, air, soaps and lotions, detergents.

Microplastics also include microfibers, which are transmitted from one place to another by a synthetic, such as acrylic and polyester, with a washcloth. Medium-sized microplastics are small pieces of other plastic items, including anything from toys to furniture.


Where is microplastic waste found?


Microplastics are found everywhere, it found everywhere on the coastline, in rivers, in lakes, in ponds. According to the US Geological Survey, in the body of more than 12% of freshwater fishes in America are found in microplastics.

In many parts of the world, more than 112,000 particles have been found for every square mile of pond water and 1,285 particles for every square foot in the river bed.

Like this, we can say that micro-plastics have spread in every corner of the world everywhere.

A UK study examined the digestive system of ten different species of 50 marine animals and microplastics were found in each of them.

To avoid the invasion of plastic pollution created by humans, it seems that no place is free from this plastic waste.

Scientists recently studied a secluded forest in the Pyrenees mountain region shared between France and Spain. It found 365 microplastic pieces for every square meter of land, which indicates that microplastics not only spread through water but also spread through the air. Microplastics have also been found in the Arctic.

Are we consuming microplastics?



It is perhaps not surprising that microplastics are found in large quantities in our drinking water and in food. In some observations, it has been found that 83% of tap water samples in many parts of the world were found to be microplastic. The rate of this toxic water was found to be 94% in the US, which was the highest. Even the water in the US Congress building in Washington DC contained microplastics.

The second highest rates have since been seen in Lebanon and India. The lowest rates were found in Germany and France. Although that too is 72%. Microplastics have been found in tap water in Ecuador, Indonesia, and Uganda. 


There is also evidence that twice as much microplastic than tap water is found in bottled water.

Think you can avoid this by drinking only bottled water? Even drinking beer is not safe because there are microplastics.

Microplastics are also found in our food. One study researched the number of microplastics found in fish, shellfish, sugar, alcohol, tap water, and bottled water, and then estimated how much microplastics we consume based on dietary guidelines for Americans. The results vary with age and gender and 39,000 to 52,000 particles enter our body annually from foods, which is 15% compared to the average calorie intake.

There is no confusion, that microplastics are entering our bodies. They are found in our food supply, our water supply, and even our feces.

According to an analysis of samples of feces made in Europe, Japan, and Russia, an average of 20 pieces of plastic were found in 10 grams of feces, which means that we are consuming close to 1,000 pieces of plastic every day.

How much plastic we use throughout the day, from our toothbrushes, drinking glasses, food packaging. Since we started mass production of plastics in the 1940s, 8.3 billion tonnes of plastic have been produced somewhere and according to an amendment made in 2015, 6.3 billion tonnes of plastic - we have buried in the ground.

According to the National Oceanic and Atmospheric Administration, a plastic bottle takes 450 years to biodegrade. This means that every water bottle that was used till now or is still on the ground. 8 million metric tons of plastic are being dumped into the sea every year.

The major cause of micro-plastic pollution at sea?


Microparticles of polyester, nylon, and acrylic are now a major source of marine pollution but are largely unnoticed, experts believe.

Most people don't realize this, but the majority of our clothes are made of plastic, says Imogen Knapper, a researcher. We wash our clothes regularly, and hundreds of thousands of fibers are added to the water every time we wash clothes. It can be one of the main sources of plastic pollution in the environment. He said further that how can we remove something that is too small?

A 2015 report by the Ellen MacArthur Foundation said that half a million tons of microfibers are being added to the waterways every year, which could amount to more than 50 billion plastic bottles. In developed countries, technologies to reduce micro-fiber pollution by providing appropriate treatment on the water are available, but less developed countries are unable to do such measures.

According to the Ocean Wise Organization, in the US and Canada, on average, more than 500 million microfibres are spread through the air and water in the atmosphere per year. 

Analyzing how dangerous micro-plastic pollution is causing damage to the environment, marine biologists say that sea creatures such as turtles have been found consuming plastic bags and other plastics. However, some concrete forensic evidence is not available with scientists yet.

Microplastics, like microfibers from our clothes, can also absorb harmful chemicals. Like we use a lot of 'low inflammable' items in our everyday life.

Including foam, mattresses, carpets, curtains, electronics and electrical appliances, computers, laptops, phones, televisions, and household appliances, electrical wires, and cables, insulation materials, vehicle seats, seat covers. Which contains a lot of harmful chemicals. These chemicals are attached to our clothes. Through which, this chemical with microplastic can also enter our body. But not all micro-plastics have proved to be so deadly.

Scientists make some suggestions to reduce the impact of micro-plastic spreading in the sea. While washing clothes, keep the water temperature above 30 ° C. Use liquid detergent. It is better than powder detergent. Use fewer clothes. Previous studies have shown that for the first time more microfibers get washed away in water during the washing of clothes.

Finally, experts have suggested the use of washing machines, which can reduce the effect of microfiber. Just as filters are installed in your car, so should your washing machine. In the era of technology, all the machines are being made to reduce the damage to the environment.



Are microplastics harmful to our health?

The most important question is, are microplastics really harmful to our health?

Unfortunately, we did not have enough amendments yet to respond firmly yes or no on this topic.

Scientists suspect that, due to its small size, microplastics are entering our bloodstream, our lymphatic system (the Lymphatic System - which works to keep our bodies toxin-free) and even in our liver.

Infertility problems have been observed in many animals due to microplastic. Due to the huge amount of plastic in the stomach, many animals are also seen to be malnourished.

We know that our waters are being polluted by plastic particles, but we need to know more about whether they are dangerous for animals that live in freshwater, which is an important source of food for large species.  

A study has found that modifications done on worms called Nidida have proved that microplastics have reduced the life of these animals by almost half.

Many small marine organisms consume microplastic. These small creatures are the feast for big sea creatures. This microplastic enters the body of big organisms and through them, it reaches the humans who consume seafood. Due to microplastic, one of the biggest food chains has been affected in today's time.

Microplastics found in the waters of the coast of Singapore have been found to contain toxic bacteria. Obviously, they must be entering your body, which can prove to be dangerous for you.

Research done on birds has shown that micro-plastic entering the body disrupts the amount of iron and increases the stress on the liver. Even changes the size of parts of the small intestine. But we do not yet know how much these findings apply to the human digestive system.

Scientists have started searching for it. Brittain has started studying the effects of microplastics on health. The World Health Organization has also started a study to examine the level of microplastics in bottled water. Till then we should avoid microplastic as much as we can.

I hope that a completely new topic has been discussed in this article. I request all of you that if you like this effort of ours, please share it. Because this is a very sensitive issue from our health point of view.











स्वास्थ्य के लिए नयी चुनौती

क्या हम रोज प्लास्टिक सेवन कर रहे हैं?

प्लास्टिक के बेशुमार इस्तेमाल से आज इस धरती की सांस रुकने के कगार पर हैं. सेंकडो वर्षों तक भी पृथ्वी पर फैला यह प्लास्टिक बायोडिग्रेड होने वाला नहीं हैं. जमीन के अंदर, महासागरों के पानी में.... हर जगह प्लास्टिक ही प्लास्टिक फैला हैं. इसीलिए कई भटके जानवरों के एवं समुद्री जीवों के पेट से प्लास्टिक इतनी बड़ी मात्रा में निकलता हैं  जिससे की उनकी जान को ख़तरा होता हैं.

समुद्र में हर रोज 5 से 12 मिलियन टन प्लास्टिक कचरा डाला जा रहा हैं. वैज्ञानिकों का अनुमान हैं की 2050 तक समुद्रों में उतनाही कचरा होगा जितने वजन के समुद्री जीव होते हैं.

हैं ना प्लास्टिक पोलुशन एक बहोत बड़ा संकट? बस इसी कचरे के छोटे से छोटे साइज को माइक्रो प्लास्टिक कहा जाता हैं जो अब आप और हम सब शरीर में  प्रवेश कर रहा हैं. पढ़िए इस आर्टिकल को पूरा. आपका अपने जीवन के प्रति नजरिया बदल जाएगा. 


माइक्रोप्लास्टिक क्या हैं?


आकार में 5 मिलीमीटर से कम प्लास्टिक के किसी भी टुकड़े को एक माइक्रोप्लास्टिक माना जाता है.  माइक्रोप्लास्टिक्स कई स्रोतों से हमारे शरीर में प्रवेश कर सकते हैं. जिनमें साबुन और लोशन शामिल हैं.

माइक्रोप्लास्टिक्स में माइक्रोफ़ाइबर भी शामिल होते हैं, जो कपडे धोने के साथ ऐक्रेलिक और पॉलिएस्टर जैसे सिंथेटिक द्वारा एक जगह से दूसरी जगह प्रसारित होते रहते हैं. मध्यम आकार के माइक्रोप्लास्टिक अन्य प्लास्टिक आइटम के छोटे टुकड़े होते हैं, जिसमें खिलौने से लेकर फर्नीचर तक कुछ भी शामिल है.

माइक्रोप्लास्टिक कचरा कहाँ पाया जाता है?


माइक्रोप्लास्टिक्स हर जगह पाए जाते हैं, वे समुद्री तट पर, नदियों में,  झीलों में, तालाबों में हर जगह पाए जाते हैं. अमेरिकी भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण के अनुसार, अमेरिका में 12% से ज्यादा ताजे पानी की मछलियों माइक्रोप्लास्टिक्स पाए जाते हैं.

विश्व के कई हिस्सों में तालाब के पानी के हर वर्ग मील के लिए 112,000 कणों और नदी के तल में हर वर्ग फुट के लिए 1,285 कणों से भी ज्यादा पाए जा चुके हैं.

यूँ कह सकते हैं दुनिया की हर जगह हर कोना में माइक्रो प्लास्टिक पोलुशन द्वारा व्याप्त हो चुका हैं.

यूके के एक अध्ययन ने 50 समुद्री जानवरों की दस विभिन्न प्रजातियों के पाचन तंत्र की जांच की और उनमें से हर एक में माइक्रोप्लास्टिक्स पाया गया.

इंसानों द्वारा बनाए गए प्लास्टिक के प्रदूषण के आक्रमण से बचने के लिए ऐसा लग रहा है कि कोई जगह अब इस प्लास्टिक कचरे से मुक्त नहीं हैं.

वैज्ञानिकों ने हाल ही में फ्रांस और स्पेन के बीच साझा किए गए पाइरेनीस पर्वत क्षेत्र में एकांत जंगल का अध्ययन किया. उसमें प्रत्येक वर्ग मीटर भूमि के लिए 365 माइक्रोप्लास्टिक के टुकड़े मिले, जो बताता है कि माइक्रोप्लास्टिक्स केवल पानी के माध्यम से ही नहीं फैलता बल्कि हवा के माध्यम से भी माइक्रो प्लास्टिक कण फैलते हैं. आर्कटिक में भी माइक्रोप्लास्टिक्स पाए गए हैं.


क्या हम माइक्रोप्लास्टिक्स सेवन कर रहे हैं ?


यह शायद आश्चर्य की बात नहीं है कि माइक्रोप्लास्टिक्स हमारे पीने के पानी में और खाने में बड़ी मात्रा पाए जाते हैं.  कुछ निरीक्षणों में यह पाया गया हैं कि, विश्व के कई हिस्सों में 83% नल के पानी के नमूनों में माइक्रोप्लास्टिक पाया गया. अमेरिका में इस जहरीले पानी की दर 94% पायी गयी जो उच्चतम थी. यहाँ तक वाशिंगटन डीसी में अमेरिकी कांग्रेस भवन के पानी में भी माइक्रोप्लास्टिक शामिल थे.

इसके बाद की सबसे अधिक दर लेबनान और भारत में देखी गयी हैं. सबसे कम दर जर्मनी और फ्रांस में पायी गयी. हालांकि वह भी 72%  इतनी हैं. इक्वेडोर, इंडोनेशिया और युगांडा में नल के पानी में माइक्रोप्लास्टिक पाए गए हैं. 

इस बात के प्रमाण भी हैं कि, नल के पानी से दोगुने माइक्रोप्लास्टिक बोतलबंद पानी में पाए जाते हैं.

सोचिये क्या आप केवल बोतलबंद पानी पीकर इससे बचा जा सकता हैं? यहां तक ​​कि बीयर पीना भी सुरक्षित नहीं है क्यूंकि वहाँ भी माइक्रोप्लास्टिक हैं.

माइक्रोप्लास्टिक हमारे खाने में में भी पाए जाते हैं. एक अध्ययन में मछली, शंख, शक्कर, अल्कोहल, नल का पानी और बोतलबंद पानी में पाए जाने वाले माइक्रोप्लास्टिक की मात्रा का रिसर्च किया गया और फिर अनुमान लगाया गया कि अमेरिकियों के लिए आहार संबंधी दिशानिर्देशों के आधार पर हम कितने माइक्रोप्लास्टिक का उपभोग करते हैं. परिणाम आयु और लिंग के साथ अलग अलग आये हैं और खाद्य पदार्थों से सालाना 39,000 से 52,000 कण हमारे शरीर में प्रवेश कर जाते हैं जो कि औसतन कैलोरी की मात्रा की तुलना में 15% हैं.

इसमें कोई दो राय नहीं हैं कि, माइक्रोप्लास्टिक्स हमारे शरीर में प्रवेश कर रहे हैं. वे हमारे भोजन की आपूर्ति, हमारे पानी की आपूर्ति और यहां तक ​​कि हमारे मल में भी पाए जाते हैं.

यूरोप, जापान और रूस में किये गए मल के नमूनों के विश्लेषण के अनुसार, 10 ग्राम की मल में प्लास्टिक के औसतन 20 टुकड़े पाए गए, जिसका अर्थ है कि हम हर दिन 1,000 प्लास्टिक के करीब टुकड़े सेवन कर रहे हैं.

अपने टूथब्रश, पीने के गिलास से लेकर अपने भोजन के पैकेजिंग से कितने प्लास्टिक का इस्तेमाल हम दिन भर करते हैं. चूंकि हमने 1940 के दशक में बड़े पैमाने पर प्लास्टिक का उत्पादन शुरू किया था, कहीं-कहीं 8.3 बिलियन टन प्लास्टिक का उत्पादन किया गया है और 2015 में किए गए एक संशोधन के अनुसार, 6.3 बिलियन टन-प्लास्टिक तो हमने जमीन में गाड़ दिया हैं.

नेशनल ओशनिक एंड एटमॉस्फेरिक एडमिनिस्ट्रेशन के अनुसार, एक प्लास्टिक की बोतल को बायोडिग्रेड करने के लिए 450 साल लगते हैं. इसका मतलब है कि हर उस पानी की बोतल के बारे में जो अभी तक इस्तेमाल की गई थी या अभी भी जमीन पर हैं. 8 मिलियन मीट्रिक टन प्लास्टिक हर साल समुद्र में डाला जा रहा हैं. 


समुद्र में होने वाले माइक्रो प्लास्टिक प्रदुषण का प्रमुख कारण?


समुद्री प्रदूषण का एक प्रमुख स्रोत पॉलिएस्टर, नायलॉन और एक्रिलिक के सूक्ष्म कण अब बड़े पैमाने पर पानी में शामिल हो रहे हैं, पर इस किसी का ध्यान नहीं गया, ऐसा विशेषज्ञों का मानना हैं. 

ज्यादातर लोगों को इसका एहसास नहीं है, लेकिन हमारे कपड़े का अधिकांश हिस्सा प्लास्टिक से बना है, एक शोधकर्ता इमोजेन नॅपर कहती हैं. हम नियमित रूप से अपने कपड़े धोते हैं, और सैकड़ों हजारों फाइबर हर बार कपडे धोने के साथ पानी में सम्मिलित हो जाते हैं. यह पर्यावरण में प्लास्टिक प्रदूषण के मुख्य स्रोतों में से एक हो सकता है. उन्होंने कहा आगे कहा कि, हम ऐसी चीज को कैसे हटा सकते हैं जो बेहद छोटी हो?

एलेन मैकआर्थर फाउंडेशन की 2015 में जारी की गए रिपोर्ट में कहा गया कि हर साल जलमार्गों में आधा मिलियन टन माइक्रोफाइबर सम्मिलित हो रहे हैं, जो 50 बिलियन से अधिक प्लास्टिक की बोतलों के बराबर हो सकते हैं. विकसित देशों में, पानी पर उचित ट्रीटमेंट कर माइक्रो फाइबर पॉलुशन को कम करने की टेक्नोलॉजी उपलब्ध हैं, पर इस तरह के उपाय कम विकसित देश करने में असमर्थ हैं. 

महासागर वाइज संगठन के अनुसार, अमेरिका और कनाडा में औसतन प्रति वर्ष वातावरण में 500 मिलियन से अधिक माइक्रोफाइबर का प्रसार हवा और पानी के माध्यम से कर रहे हैं. 

माइक्रो प्लास्टिक पॉल्यूशन पर्यावरण को किस खतरनाक तरीके से  नुक्सान पहुंचा रहा हैं इस बात का विश्लेषण करते हुए समुद्री जीव वैज्ञानिक बताते हैं कि, कछुए जैसे समुद्री जीव प्लास्टिक बैग्स एवं अन्य प्लास्टिक का सेवन करते हुए पाए गए. हालांकि इसके कुछ ठोस फॉरेंसिक सबूत वैज्ञानिकों के पास अभी नहीं हैं. 

माइक्रोप्लास्टिक्स, हमारे कपड़ों से माइक्रोफाइबर की तरह, हानिकारक रसायनों को भी शोषित कर सकते हैं. जैसे कि हम हमारी रोजमर्रा की जिंदगी में कम ज्वलनशील (Low Inflammable) वस्तुओं का इस्तेमाल काफी जगह करते हैं.

जिसमें फोम, गद्दे, कालीन, पर्दे, इलेक्ट्रॉनिक्स और बिजली के उपकरण, कंप्यूटर, लैपटॉप, फोन, टीवी और घरेलू उपकरण, बिजली के तार और केबल, इन्सुलेशन सामग्री, गाड़ियों के सीट्स, सीट कवर शामिल हैं. जिसमें काफी सारे हानिकारक रसायन शामिल होते हैं. हमारे कपड़ों को यह केमिकल्स चिपक जाते हैं. जिसके माध्यम से माइक्रो प्लास्टिक के साथ यह रसायन भी हमारे शरीर में प्रवेश कर सकते हैं. लेकिन सभी माइक्रो प्लास्टिक इतने घातक नहीं सिद्ध नहीं हुए हैं.

समुद्र में फ़ैल रहे माइक्रो प्लास्टिक के प्रभाव को कम करने के लिए वैज्ञानिक कुछ सुझाव देते हैं. कपडे धोते समय पानी का तापमान 30 डिग्री सेल्सियस से ऊपर रखें. लिक्विड डिटर्जेंट का इस्तेमाल करें. पाउडर डिटर्जेंट की तुलना में यह बेहतर होता है. नए कपड़े कम इस्तेमाल करें. पिछले अध्ययनों से पता चला है कि पहली बार कपडे धोने के दौरान अधिक माइक्रोफ़ाइबर पानी में बह जाते हैं.

अंत में विशेषज्ञों ने वॉशिंग मशीनों का उपयोग करने का सुझाव दिया है, जो माइक्रो फाइबर के प्रभाव को कम कर सकते हैं. जिस तरह आपके कार में फिल्टर्स लगे होते हैं, उसी तरह आपके वाशिंग मशीन में भी लगे होने चाहिए. टेक्नोलॉजी के दौर में बन रहे सभी मशीने पर्यावरण के होने वाले नुकसान को कम करने के लिए बनायी जा रही हैं. 



क्या माइक्रोप्लास्टिक हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हैं?

सबसे अहम् सवाल यह हैं कि, क्या माइक्रोप्लास्टिक वास्तव में हमारी सेहत के लिए हानिकारक हैं?

दुर्भाग्य से इस विषय में हमें हां या ना में दृढ़ता से जवाब देने के लिए अभी तक पर्याप्त संशोधन नहीं हुआ हैं.

वैज्ञानिकों को संदेह है कि, उनके छोटे आकार के कारण, माइक्रोप्लास्टिक्स हमारे रक्तप्रवाह, हमारे लसीका तंत्र (Lymphatic System- जो हमारे शरीर को टोक्सिन मुक्त रखने के लिए कार्य करता हैं) और यहां तक ​​कि हमारे लिवर में भी प्रवेश कर रहे हैं.

माइक्रो प्लास्टिक की वजह से कई प्राणियों में बांझपन की समस्या देखी गयी हैं. विशाल मात्रा में प्लास्टिक की मात्रा पेट में जाने की वजह से कई प्राणी कुपोषण का शिकार भी होते दिखाई दे रहे हैं.

हम जानते हैं कि हमारे जलस्रोत प्लास्टिक के कणों से प्रदूषित हो रहे हैं, लेकिन हमें और अधिक यह जानने की जरुरत हैं, कि क्या यह उन प्राणियों के लिए खतरनाक हैं, मीठे पानी में रहते हैं, जो बड़ी प्रजातियों के भोजन का एक महत्वपूर्ण स्रोत हैं. 

एक अध्ययन में पाया गया है कि नीडिडा नामक जंतु पर किये गए संशोधन में यह सिद्ध हुआ हैं कि, मइक्रोप्लास्टिक्स की वजह इन जंतुओं के जीवन को लगभग आधा कर दिया हैं.

कई छोटे समुद्री जीव माइक्रो प्लास्टिक का सेवन करते हैं. इन छोटे जीवों को बड़े समुद्री जीव खाते हैं. जिसकी वजह से यह माइक्रो प्लास्टिक बड़े जीवों के शरीर में प्रवेश करता हैं और उनके माध्यम से समुद्री जीवों का सेवन करने वाले इंसानो तक यह पहुँच जाता हैं. माइक्रो प्लास्टिक की वजह से एक सबसे बड़ी फ़ूड चैन को आज के समय में  कर बाधित कर दिया हैं.

सिंगापुर के समुद्री तट के पानी में पाए जाने वाले माइक्रोप्लास्टिक को जहरीले बैक्टीरिया से लिप्त पाया गया हैं. जाहिर है कि, वह आपके शरीर प्रवेश करते ही होंगे, जो की आपके लिए खतरनाक साबित हो सकता हैं.

पक्षियों पर किये गए रिसर्च से पता चला है कि माइक्रो प्लास्टिक का शरीर में प्रवेश करना करना आयरन की मात्रा को बाधित करता है तथा लिवर पर तनाव बढ़ाता हैं. यहां तक ​​कि छोटी आंत के कुछ हिस्सों के आकार को भी बदल देता हैं. लेकिन हमें अभी तक पता नहीं है कि ये निष्कर्ष मानव के पाचन तंत्र पर कितना लागू होते हैं.

वैज्ञानिकों ने इस पर खोज शुरू कर दी हैं. ब्रिटैन ने माइक्रोप्लास्टिक के स्वास्थ्य पर होने वाले प्रभावों का अध्ययन शुरू कर दिया हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बोतलबंद पानी में माइक्रोप्लास्टिक्स के स्तर की जांच के लिए एक अध्ययन भी शुरू किया हैं. तब तक हम माइक्रो प्लास्टिक से जितना बच सकते हैं हमें बचना चाहिए.

आशा करता हूँ की एकदम नए विषय पर इस आर्टिकल में चर्चा की गयी हैं. आप सभी से अनुरोध हैं कि, हमारा यह प्रयास आपको अच्छा लगता हैं तो कृपया इसे शेयर करे. क्यूंकि यह हमारे स्वास्थ्य की दृष्टी से काफी संवेदनशील मुद्दा हैं. 
Post A Comment
  • Blogger Comment using Blogger
  • Facebook Comment using Facebook
  • Disqus Comment using Disqus

No comments :


Current Affairs

[Current Affairs][bleft]

Climate change

[Climate Change][twocolumns]

Lifestyle

[Lifestyle][twocolumns]

Animal Abuse

[Animal Cruelty][grids]