technology

[Technology][bleft]

Health

[Healthcare][bleft]

Business

[Business][bleft]

Network Marketing

[Network Marketing][bleft]

13 Global Health Challenges Set by WHO that will Make YOU Think (Hindi)

WHO द्वारा निर्धारित 13 वैश्विक स्वास्थ्य चुनौतियां जो आपको सोचने पर मजबूर करेगी


आने वाले वर्ष एवं दशक के लिए  विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने 13 तत्काल वैश्विक स्वास्थ्य चुनौतियों (Global Health Challenges) की एक सूची जारी की है. दुनिया भर में डब्ल्यूएचओ विशेषज्ञों द्वारा जारी की गयी इस सूची में संक्रामक रोगों को रोकना और महामारी के साथ लड़ने की तैयारी करना, किशोरों की रक्षा करना, जलवायु परिवर्तन में स्वास्थ्य को प्राधान्य क्रम देना, संघर्ष और संकट के क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराना इत्यादि शामिल हैं. 

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस एडनॉम घेब्यियस ने अपने बयान में कहा कि, यह 13 संकटों वाली सूची एक गहरी चिंता को दर्शाती है जबकि दुनियाभर के नेता मुख्य हेल्थ प्रिऑरिटीज़ अनदेखा कर रहे हैं. इस सूची में उपस्थित किये गए मुद्दे इतने आसान बिलकुल नहीं हैं, लेकिन इन मुद्दों पर जीत जरूर हासिल की जा सकती हैं. 

इस सूची में जारी किये गए मुख्य मुद्दे कुछ इस प्रकार हैं:




1. जलवायु संकट

डब्ल्यूएचओ का कहना है कि जलवायु संकट एक बहुत गंभीर स्वास्थ्य संकट हैं. जलवायु परिवर्तन के कारण अधिक तीव्र मौसम की घटनाएं हो रही हैं, जिससे कुपोषण की घटनाएं बढ़ रही हैं और मलेरिया जैसे संक्रामक रोगों के प्रसार तेजी से हो रहा हैं. जानिये जलवायु संकट के बारे में अधिक, यहाँ क्लिक करें.  

वही रिकॉर्ड ब्रेक मात्रा में कार्बन का उत्सर्जन हवा को प्रदूषित कर रहा है और ग्लोबल वार्मिंग का कारण बनता जा रहा है, जो दिल के दौरे, स्ट्रोक, फेफड़ों के कैंसर और क्रोनिक सांस की बीमारी से होने वाली एक चौथाई से अधिक मौतों के लिए जिम्मेदार हैं.





डब्ल्यूएचओ के अनुसार, "सार्वजनिक और निजी दोनों क्षेत्रों के शीर्षस्थ नेतृत्व को हमारी हवा को साफ करने और जलवायु परिवर्तन के स्वास्थ्य प्रभावों को कम करने के लिए मिलकर काम करना चाहिए. 2019 में, 50 से अधिक देशों के 80 से अधिक शहरों में साफ़ सुथरी हवा के निर्माण के लिए डब्ल्यूएचओ द्वारा निर्देशित किये गए गुणवत्ता के मानकों लिए कटिबद्ध हैं.

2. मेडिकल एमर्जेन्सीज़ में स्वास्थ्य सेवायें वितरित करना

WHO ने पिछले साल स्वास्थ्य सेवा कर्मियों पर 978 हमले के मामले दर्ज किये. 11 देशों में स्वास्थ्य सेवा कर्मियों पर किये गए इन हमलों में 193 मौतें हुयी. 

इस चुनौती पर, WHO स्वास्थ्य प्रणाली को मजबूत करने, तैयारियों में सुधार करने और स्वास्थ्य आपात स्थितियों (Medical Emergency) के लिए दीर्घकालिक एवं आकस्मिक फाइनेंस की उपलब्धता का विस्तार करने के लिए अन्य देशों और भागीदारों के साथ काम कर रहा हैं. 

डब्ल्यूएचओ का कहना है, "मेडिकल एमर्जेन्सीज़ को सुलझाने के लिए राजनीतिक समाधान जरुरत हैं. स्वास्थ्य देखभाल कर्मचारियों की हमलों से रक्षा करने की जरुरत पर भी इस लिस्ट में फोकस किया गया हैं. 


3. स्वास्थ्य देखभाल में अमीर गरीब की दूरी मिटाना 

लगातार बढ़ते सामाजिक और आर्थिक अंतराल की वजह से लोगों के स्वास्थ्य की गुणवत्ता में बड़ी विसंगतियां दिखाई देती हैं. यह भी एक आवश्यक चुनौती हैं. अमीर और गरीब देशों के बीच जीवन में 18 सालों का अंतर है, बल्कि देशों के भीतर और यहां तक ​​कि शहरों के भीतर भी असमानता की एक गहरी खाई हैं. 

डब्ल्यूएचओ अपने साझेदारों के साथ मिलकर बच्चे और माताओं की देखभाल, पोषण, लैंगिक समानता, मानसिक स्वास्थ्य में सुधार और पर्याप्त पानी और स्वच्छता पर काम कर रहा हैं. 

डब्ल्यूएचओ ने सभी देशों से अपने सकल घरेलू उत्पाद का 1%  या उससे अधिक प्राथमिक स्वास्थ्य सेवा पर खर्च करने का आह्वान किया है, ताकि वे अधिक लोगों की आवश्यक आवश्यक सेवाओं तक पहुँच हो सके, जिनकी उन्हें आवश्यकता हैं.

4. दवाओं की पहुँच का विस्तार 

दुनिया के लगभग एक तिहाई लोगों तक दवाओं, टीकों, नैदानिक ​​उपकरणों और अन्य आवश्यक स्वास्थ्य उत्पादों पहुँच नहीं पाते हैं. गुणवत्ता वाले स्वास्थ्य उत्पादों की काफी कम पहुंच की वजह से स्वास्थ्य को खतरा पैदा होता हैं.

डब्ल्यूएचओ ऐसे देशों के साथ काम कर रहा है ताकि दवाओं को जरुरतमंदों तक पहुंचाया जा सके. घटिया और क्वालिटी के उत्पादों से मुकाबला किया जा सके, आपूर्ति श्रृंखला में चिकित्सा उत्पादों की गुणवत्ता को सुनिश्चित करने के लिए कम आय वाले देशों की क्षमता बढ़ाई जा सके और संपर्क में आने से प्रसार होने वाले रोगों के लिए निदान और उपचार की पहुंच में सुधार किया जा सके, जिसमें डायबेटीस जैसे रोग भी शामिल हैं. 


5. संक्रामक रोग

एचआईवी, टुबेरीकुलोसिस, वायरल हेपेटाइटिस, मलेरिया, डेंगू फीवर और यौन संबंधों द्वारा संचारित संक्रामक रोगों की वजह से नए वर्ष 2020 में चार मिलियन लोगों की जान जा सकती हैं, जिनमे अधिकांश मौतें गरीब देशों में दर्ज होने की संभावना हैं. 

इस बीच, डिप्थेरिआ, टिटनेस, रूबेला, आदि  टीके से बचाव योग्य बीमारियाँ लगातार इंसानों के जान की दुश्मन बनी हुयी हैं. जिसने 2019 में 140,000 लोगों की जान ले ली.

पोलियो भी एक बार फिर चिंता का विषय बना है, पिछले साल वाइल्ड पोलियो वायरस के 156 मामले दर्ज किये गए, जो 2014 के बाद सबसे अधिक हैं. जिसमें पाकिस्तान और अफगानिस्तान यह दोनों देश शामिल हैं. पोलियो की केसेस में बढ़ोतरी के कारण, पढ़ें हमारा आर्टिकल

डब्ल्यूएचओ का कहना है कि आवश्यक स्वास्थ्य सेवाओं के लिए धन में वृद्धि और नियमित टीकाकरण के प्रयासों को बढ़ाना ही इस पर इलाज हो सकता हैं. 


6. महामारी की रोकथाम के जरूरी उपाय 

डब्लूएचओ के अनुसार, एक नए, अत्यधिक संक्रामक, वायुजनित वायरस, जिसमें ज्यादातर लोगों में रोगों का प्रतिकार करने की क्षमता की कमी होती है, ऐसी महामारियों के खिलाफ आवश्यक कदम उठाना भी इस मिशन का एक बड़ा उद्देश्य हैं. डब्लूएचओ का कहना है कि डेंगू, मलेरिया, जीका, चिकनगुनिया और पीत ज्वर जैसी बीमारियां फैल रही हैं, क्योंकि मच्छरों की आबादी नए नए क्षेत्रों में बढ़ रही हैं. 

टेड्रोस ने कहा कि, कई देश अपने लोगों को आतंकवादी हमलों से बचाने के लिए भारी निवेश करते हैं, लेकिन एक वायरस के हमले के खिलाफ नहीं, जो कहीं अधिक घातक हो सकता है, और आर्थिक और सामाजिक रूप से कहीं अधिक हानिकारक हैं. एक महामारी किसी अच्छे देश की अर्थव्यवस्थाओं को अपने घुटनों के बल ला सकती है.

डब्ल्यूएचओ, हेल्थ एमर्जेन्सीज़ के दौरान लोगों को सुरक्षित रखने के लिए स्वास्थ्य प्रणालियों और बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के लिए निवेश करने पर देशों को सलाह देने के लिए काम कर रहा हैं. 


7. खतरनाक उत्पाद हटाना

भोजन की कमी, असुरक्षित भोजन और अस्वास्थ्यकर आहार विश्व के लगभग एक तिहाई लोग इन बातों के शिकार रहते हैं. WHO ऐसे देशों के साथ मिलकर नीतियों, निवेशों और निजी क्षेत्र के सुधारों को विकसित कर रहा है ताकि खाद्य प्रणालियों को बेहतर बनाकर स्वस्थ और स्थायी आहार प्रदान किया जा सके. पिछले साल, खाद्य उद्योग 2023 तक ट्रांस फैटी एसिड को खत्म करने के लिए WHO ने प्रतिबद्धता जताई हैं. इंडस्ट्रीज में उत्पादित ट्रांस-फैटी एसिड के उन्मूलन के लिए WHO ने एक मार्गदर्शिका बनायी भी हैं. 

ट्रांस फैट्स को खत्म करना स्वास्थ्य और जीवन को बचाने के लिए महत्वपूर्ण है: डब्ल्यूएचओ का अनुमान है कि हर साल, ट्रांस फैट्स का सेवन हृदय रोग से 500,000 से अधिक लोगों की मौत का कारण बनता हैं.

 इसी के साथ WHO इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के बढ़ते स्वास्थ्य जोखिमों की जागरूकता कर रही हैं. 


8. स्वास्थ्य सेवा स्वयंसेवकों पर निवेश बढ़ाना

स्वास्थ्य सेवा कर्मियों की वैश्विक कमी एक सबसे बड़ी चुनौती हैं. दुनिया को 2030 तक 18 मिलियन से अधिक स्वास्थ्य सेवा श्रमिकों की आवश्यकता होगी, ज्यादातर निम्न और मध्यम आय वाले देशों में, जिनमें नौ मिलियन नर्स और दाइयाँ भी शामिल हैं.

शिक्षा, कौशल और नौकरियों में निवेश को प्रोत्साहित करने के लिए, WHO ने 2020 को नर्स और मिडवाइफ का वर्ष घोषित किया हैं.

डब्ल्यूएचओ और उसके साझेदार अप्रैल में विश्व स्वास्थ्य दिवस पर विश्व की नर्सिंग रिपोर्ट की एक व्यापक रिपोर्ट जारी करेंगे. WHO कई अन्य देशों के साथ काम कर रहा हैं ताकि स्वास्थ्य कर्मचारियों को प्रशिक्षित करने और उन्हें अच्छे वेतन का भुगतान करने के लिए नए निवेश जुटाया जा सके.


9. किशोरों को सुरक्षित रखना

प्रतिवर्ष 10 से 19 साल के बीच के एक मिलियन से अधिक किशोरों की मृत्यु हो जाती हैं. मुख्य कारण सड़क दुर्घटनाएं, एचआईवी, आत्महत्या, श्वसन संक्रमण और पारस्परिक हिंसा हैं. शराब, तम्बाकू और नशीली दवाओं के उपयोग, शारीरिक व्यायाम की कमी, असुरक्षित यौन संबंध, और बाल कुपोषण जैसे कारणों से किशोरों में मृत्यु के कारणों का जोखिम बढ़ाते हैं. 

2020 में, WHO मानसिक चिकित्सकों द्वारा किशोरों के मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए डिज़ाइन किए गए शिक्षकों और ड्रग्स, शराब, आत्महत्या और पारस्परिक हिंसा रोकने के लिए नए मार्गदर्शन जारी करेगा.


10. लोगों में विश्वास को बढ़ाने के लिए कार्य करना 

सार्वजनिक स्वास्थ्य के प्रति सोशल मीडिया में गलत सूचना के प्रसार कर काफी भ्रांतियां फैलाई जाती हैं, जिससे कई लोग सच्चाई से दूर होकर अपनी जान की जोखिम उठाते हैं. डब्लूएचओ का कहना है मृत्यु दर में बढ़ोतरी के लिए कई एंटी वाक्सिनेशन मूवमेंट्स जिम्मेदार हैं. 

डब्ल्यूएचओ प्राथमिक स्वास्थ्य सेवा को मजबूत करने के लिए काम कर रहा है ताकि लोगों तक सस्ती सेवायें आसानी से पहुंच सकें, जिसमें लोकप्रिय सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर विश्वसनीयता बढ़ाने के लिए उपयोगकर्ताओं को टीके और अन्य स्वास्थ्य मुद्दों के बारे में विश्वसनीय जानकारी प्राप्त हो. 


11. नई तकनीकों का उपयोग बढ़ाना

नई तकनीकें जैसे ह्यूमन जीनोम एडिटिंग (DNA को डिकोड करने की पद्धति) और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस कई बीमारियों की रोकथाम, निदान और इलाज की क्षमता में क्रांतिकारी बदलाव ला रही हैं, लेकिन इसमें कई चुनौतियाँ भी सामने आ रही हैं. अधिक जानकारी के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का मेडिकल के क्षेत्र में क्रांतिकारी योगदान, हमारा आर्टिकल पढ़ें. 


2019 में, डब्ल्यूएचओ ने ह्यूमन जीनोम एडिटिंग और डिजिटल स्वास्थ्य के लिए नई सलाहकार समितियों का गठन किया, जो सबूतों की समीक्षा करने और मार्गदर्शन प्रदान करने के लिए दुनिया के प्रमुख विशेषज्ञों को एक मंच पर ला सके. WHO नैदानिक ​​और सार्वजनिक स्वास्थ्य समाधान प्रदान करने वाले नए साधनों से अन्य देशों ने इसे स्वीकार करने के लिए भी काम करेगा.


12. Antimicrobial Resistance (रोगाणुरोधी प्रतिरोध)

डब्ल्यूएचओ पर्यावरण, कृषि और पशु क्षेत्रों में राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय प्राधिकरणों के साथ काम कर रहा है, ताकि इसके मूल कारणों का पता लगाकर Antimicrobial Resistance (एएमआर) के खतरे को कम किया जा सके, जबकि नए एंटीबायोटिक्स में रिसर्च और डेवलपमेंट पर भी काम चल रहा हैं. 


13. स्वच्छ जल और स्वच्छता

विश्व स्तर पर चार मूल स्वास्थ्य सुविधाओं में से एक में बुनियादी जल और स्वच्छता (WASH) सेवाओं की कमी है जो स्वास्थ्य प्रणाली के लिए महत्वपूर्ण हैं. स्वास्थ्य सुविधाओं में इन बुनियादी बातों की कमी के कारण खराब गुणवत्ता देखभाल और रोगियों एवं स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के लिए संक्रमण की संभावना बढ़ाती हैं. 

डब्ल्यूएचओ और इसके साझेदार अपनी स्वास्थ्य सुविधाओं में WASH सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए 35 निम्न और मध्यम आय वाले देशों के साथ काम कर रहे हैं. और 2030 तक वैश्विक स्तर पर सभी स्वास्थ्य सुविधाओं में बुनियादी WASH सेवाएं होने का लक्ष्य रखा हैं. 

इस सूची में जारी किये गए महत्वपूर्ण लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए सरकारों, समुदायों और अंतर्राष्ट्रीय एजेंसियों को मिलकर काम करना चाहिए. एक स्वस्थ दुनिया के लिए कोई शॉर्टकट नहीं हैं. 2030 तेजी से आ रहा है, और हमें अपने नेताओं को उनकी प्रतिबद्धताओं के लिए जवाबदेह समझना चाहिए. 

Post A Comment
  • Blogger Comment using Blogger
  • Facebook Comment using Facebook
  • Disqus Comment using Disqus

No comments :


Current Affairs

[Current Affairs][bleft]

Climate change

[Climate Change][twocolumns]

Lifestyle

[Lifestyle][twocolumns]

Animal Abuse

[Animal Cruelty][grids]