technology

[Technology][bleft]

Health

[Healthcare][bleft]

Business

[Business][bleft]

Network Marketing

[Network Marketing][bleft]

आने वाले दशक में वायु प्रदुषण से ब्रिटैन में हर रोज 45 मौते होने का अनुमान (Hindi)

आने वाले दशक में वायु प्रदुषण से ब्रिटैन में हर रोज 45 मौते होने का अनुमान

वायु प्रदूषण के कारण स्ट्रोक और दिल के दौरे से अगले दशक में अकेले ब्रिटैन में 160,000 से अधिक लोग मर सकते हैं, एक सामाजिक संस्थान ने अपने रिपोर्ट में यह चेतावनी दी है.


ब्रिटिश हार्ट फ़ाउंडेशन (BHF), ने आंकड़ों इन आंकड़ों को संकलित किया है. अपने रिपोर्ट में वह आगे कहते हैं, कि इस समय प्रति वर्ष अनुमानित 11,000 मौतें इस कारण होती हैं  होती हैं, लेकिन अभी इसके बढ़ने के आसार नजर आ रहे हैं, क्यूंकि, वैश्विक जनसंख्या की उम्र बढ़ती जा रही हैं.

British Health Foundation में हेल्थकेयर इनोवेशन के कार्यकारी निदेशक, Jacob West ने कहा: “हर दिन, देश भर में लाखों लोगों के शरीर में साँसों द्वारा जहरीले कण प्रवेश करते हैं, आगे जो हमारे रक्त में प्रवेश करते हैं और हमारे अंगों में फंस जाते हैं, जिससे दिल के दौरे और स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है. यह कहना भी कोई गलत नहीं होगा, कि हमारी जहरीली हवा एक सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल (Public Health Emergency) है, और हमने इस खतरे से निपटने के लिए पर्याप्त रूप से काम नहीं किया है.



हमें यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए सख्त, स्वास्थ्य-आधारित वायु गुणवत्ता दिशानिर्देशों को कानून के रूप में अपनाया जाए. हाल ही में सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान पर प्रतिबंध लगाने से पता चलता है कि सरकारी कार्रवाई से हम सांस लेने वाली हवा में सुधार कर सकते हैं.

जुलाई 2019 में, पर्यावरण और ग्रामीण मामलों के विभाग ने एक अध्ययन प्रकाशित किया जिसमें बताया गया कि 2030 तक ब्रिटेन के अधिकांश क्षेत्रों में वायु प्रदूषण पर डब्ल्यूएचओ के दिशा-निर्देशों को पूरा करना "तकनीकी रूप से संभव" था.

हाल ही में BHF ने एक नया अभियान शुरू किया है, You’re Full Of It, यह उजागर करने के लिए कि हर दिन पूरे यूके में कस्बों और शहरों में लोग PM2.5 के खतरनाक स्तर को कैसे प्रभावित कर रहे हैं.

पर्यावरण मंत्री, रेबेका पॉव ने कहा: हम सभी जानते हैं कि ब्रिटेन के आसपास के समुदायों पर वायु प्रदूषण का प्रभाव है, यही वजह है कि सरकार तेजी से आगे बढ़ रही है और वायु गुणवत्ता में सुधार के लिए तत्काल कार्रवाई कर रही है.

“हमारी स्वच्छ वायु रणनीति के साथ, जिसे विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) द्वारा बाकी दुनिया के लिए एक उदाहरण के रूप में सराहा गया."

एनएचएस के चिकित्सा निदेशक प्रोफेसर स्टीफन पॉविस ने कहा: "वायु प्रदूषण भी एक स्वास्थ्य आपात (Medical Emergency) स्थिति है, हर साल हजारों मौतों और  अलग अलग बीमारियों के लिए अस्पताल में दाखिल होने का कारण वायु प्रदुषण हैं, , यही वजह है कि कार्बन उत्सर्जन को कम करने के लिए एनएचएस अपनी कार्रवाई कर रहा है, बेहतर सेवाओं के माध्यम से लाखों अस्पताल नियुक्तियों की आवश्यकता को कम करके यातायात में कटौती करना शामिल है.

वायु प्रदूषण से होनेवाले एक वर्ष में लगभग 40,000 लोगों की मृत्यु यह स्पष्ट करता हैं, प्रदूषण से निपटना हर किसी का जरूरी काम हैं, जो प्राधान्य से किया जाना चाहिए.

Post A Comment
  • Blogger Comment using Blogger
  • Facebook Comment using Facebook
  • Disqus Comment using Disqus

No comments :


Current Affairs

[Current Affairs][bleft]

Climate change

[Climate Change][twocolumns]

Lifestyle

[Lifestyle][twocolumns]

Animal Abuse

[Animal Cruelty][grids]