technology

[Technology][bleft]

Health

[Healthcare][bleft]

Business

[Business][bleft]

Network Marketing

[Network Marketing][bleft]

Is it POSSIBLE to Permanently CURE Diabetes? (Hindi)

अपने लक्ष्यों को निश्चित करें...  


जैसे-जैसे जीवन तनावपूर्ण हो रहा है, वैसे-वैसे हम लोग बीमारी, विकार के मूल कारण को जाने बिना शॉर्टकट के बारे में सोचने लगे हैं और गोली/दवा ही सबका उपाय है यह धारणा बना ली है. हम सब लोग गोलियों के साथ ही जीने के आदी हो गए हैं. ऐसा करके हम सभी सच्चे स्वास्थ्य से दूर जा रहे हैं.

सही मायनों में स्वास्थ्य क्या है, इसका सही अर्थ हम भूल चुके हैं. आप अपने परिवार की जिम्मेदारियाँ पूरी करने के लक्ष्य से काम करते रहते है. उसी उधेडबून में जब अचानक यह स्पष्ट हो जाता है कि, आपको डाइबिटीज है, तो आप बहुत दुखी और उदास हो जाते हैं. 

अब अगला जीवन दवाओं के साथ होगा, यह बात बहुत दुख देने वाली लगती है. फिर हम अच्छी ज़िंदगी जीने के लिए अलग-अलग तरीके आज़माने लगते हैं. लेकिन फिर ऐसा लगता है कि, पर्याप्त सफलता नहीं मिल रही है. जब विफलता हाथ लगती है, तो आप निराशा में जाने लगते है. 


फिर हमें दृढ़ विश्वास होने लगता है की यह बीमारी हमें अंत तक नहीं छोड़ेगी. लेकिन दोस्तों... घबराईये मत. एफएफडी (Freedom from Diabetice) ने सही रास्ता खोजा है......


एफएफडी ने स्वस्थ जीवन की कुंजी ही दी है. उन्होंने सिद्ध किया है कि, मधुमेह पूरी तरह से रिवर्स किया जा सकता है.


How it works?

Freedom from Diabetice के डॉ. प्रमोद त्रिपाठी बताते हैं की, यह मुख्य रूप से ४ प्रणालियों पर काम करता है :

1. आहार (Diet)
2. व्यायाम (Exercises)
3. आंतरिक परिवर्तन (Internal Change)
४. मेडिकल 

डॉ. प्रमोद त्रिपाठी बताते हैं कि, एफएफडी ने सभी प्रणालियों पर एक गहन अध्ययन किया है, ताकि विशिष्ट आहार, व्यायाम का पता लगाया जा सके जो मधुमेह को रिवर्स कर सकता है और इस स्थिति को स्थायी बनाये रख सकता है.

एफएफडी ने इस रिसर्च में ७ साल बिताए हैं और जाना है कि, डाइबिटीज कैसे रिवर्स होता है और इसके माध्यम से क्या कदम उठाए जाने चाहिये. डॉ. प्रमोद त्रिपाठी मानते हैं कि, डायबिटिक व्यक्ति अपने जीवनचर्या में कुछ लक्ष्य निर्धारित कर चलेगा तो वह डायबेटीस पर जीत प्राप्त कर सकता हैं. 


1. दवाएं बंद करना :

डॉ. प्रमोद त्रिपाठी के अनुसार एक मधुमेही का लक्ष्य सबसे पहले दवाएं बंद कैसी हों, इस ओर होना चाहिए. अगर आप आहार में कुछ बदलाव करना शुरू करते हैं और व्यायाम के बारे में सही जानकारी लेते है. तो तुरंत ही आपकी शुगर नियंत्रण में आने लगेगी. Freedom From Diabetice द्वारा रास्ता दिखाए जाने के कुछ ही दिनों में आपकी दवाएँ कम होने लगती हैं, लेकिन इस पॉईंट पर एक मधुमेही ने खुश नहीं होना चाहिए. दिल्ली अभी भी दूर है. यह अंत नहीं है बल्कि एक स्वस्थ जीवन की ओर पहला कदम है.


2. HbA1c <6:

एक बार दवाईयां बंद हो गयी तो दुसरा लक्ष HbA1c होना चाहिये. HbA1c < 6 याने ग्लाइकेटेड हिमोग्लोबीन. यह तब होता है जब हिमोग्लोबीन को ग्लूकोज के साथ जोड़ा जाता है. ग्लाइकेटेड हिमोग्लोबीन (HbA1c) को जांच कर, चिकित्सक इस बात का पूरा अंदाजा लगा सकते हैं की 3 महीनों की अवधि में आपकी औसत रक्तशर्करा का क्या होती है? मधुमेहियों के लिए, HbA1c जितना अधिक होगा, मधुमेह संबंधी जटिलताओं के विकास का जोखिम उतना अधिक होगा.


3. GTT टेस्ट:

एक बार जब आपका HbA1c नियंत्रित होना शुरू हो जाता है, तो आपका अगला ध्यान चीनी को पचाने के लिए होना चाहिए, जिसे जीटीटी पास करना कहते है. यदि आपकी फास्टिंग शुगर १०० से नीचे और पीपी (खाने के २ घंटे बाद) १४० से नीचे है, तो आपको मधुमेह मुक्त घोषित किया जाएगा. कई मधुमेह रोगियों ने सफलतापूर्वक FDD में शामिल होके और हमारी प्रणाली के अनुसार काम करके GTT को पास किया है.


4. फास्टिंग इन्सुलिन (Fasting insulin):

टाइप-२ डाइबिटीज कुछ दिनों, सप्ताह या महीनों में विकसित नहीं होता. यह आमतौर पर इंसुलिन प्रतिरोध नामक एक स्थिति से शुरू होता है. इसके बाद प्री-डाइबेटिक या टाइप 2 डाइबिटीज हो सकता है. फास्टिंग इन्सुलिन टेस्ट करने से काफी जानकारी मिल सकती है. यह ४ से नीचे होना चाहिये.


5. hsCRP: हाई सेन्सिटिव्हिटी सी-रिऍक्टिव्ह प्रोटीन टेस्ट.

आजकल की तनावपूर्ण जीवनशैली, असमय खान-पान, रात को देर से जागना आम हो गया है. ये सभी गलत आदतें शरीर की आम्लता और सूजन को बढ़ा रही हैं. इसी वजह से इंसुलिन ठीक से काम नही कर पाता और ब्लड शुगर का स्तर बढ़ जाता है. hsCRP यह परीक्षण आपके शरीर में सूजन और आम्लता की मात्रा को दर्शाता है. इसलिए, hsCRP <1 को सूजन, अम्लता की जाँच के लिए सबसे महत्वपूर्ण परीक्षण माना जाता है. hsCRP <1 होना चाहिए.


6. फैट्स का प्रतिशत:



फैट्स के प्रतिशत को नियंत्रित करना एक डाइबिटिक के लिये आवश्यक होता है. क्योंकि फैट्स और इंसुलिन प्रतिरोध आपस में जुड़े होते हैं. अतिरिक्त फैट्स इंसुलिन के कार्य के रुकावट का कारण बनता है और शुगर की मात्रा को बढाता है. यह पुरुषों में <1% और महिलाओं में <3% होना चाहिए.


7. कोशिकाओं का प्रतिशत- muscle percentage

कोशिकाओं का प्रतिशत भी एक निश्चित सीमा के भीतर होना चाहिए. यह पुरुषों में 3२% और महिलाओं में २६% होना चाहिये.


8. कमर का नाप:

मोटापे की सही जांच कमर का नाप एक तरह से आपके शरीर का एक आदर्श परीक्षण है. आपकी कमर का नाप
आपकी पूरी ऊंचाई से आधा या कम होना चाहिए. यदि यह उससे अधिक है, तो आपको समझना चाहिए की आप मोटे हैं. और मोटापा कभी भी खतरनाक हीं होता - कई बीमारियों को न्यौता देता है.


9. ब्लड प्रेशर (Blood pressure)- 130/80

मधुमेहियों में हृदय रोग विकसित होने की संभावना अधिक होती है. इसलिए ब्लड प्रेशर को सही रखना बहुत जरूरी है. यह १3०/८० या उसके नीचे होना चाहिये.


10. मैरेथन दौडना:

एक मधुमेही का अंतिम लक्ष्य पूर्ण फिटनेस प्राप्त करना होना चाहिये. हमें पर्याप्त फिटनेस पाने की कोशिश करनी चाहिए ताकि हम मैराथन भी दौड सकें. लेकिन इसके लिए कदम दर कदम आगे बढ़ना होगा.

डॉ. प्रमोद त्रिपाठी मानते हैं कि, एफएफडी ने न केवल मधुमेहियों के लिए बल्कि समग्र स्वास्थ्य के लिए सफल मंत्र दिया है. इसलिए, स्वास्थ्य के बारे में हमारा विचार पहली जगह में स्पष्ट होना चाहिए और उसी के अनुसार हमें काम करना चाहिए. उच्च गुणवत्ता वाले स्वास्थ्य को प्राप्त करने के लिये हमें उचित मार्गदर्शन की आवश्यकता है. तो सही माईनो में सच्चाई जाने और अपने लक्ष तक पहुंचे.

For more information
Visit: http://freedomfromdiabetes.org

Post A Comment
  • Blogger Comment using Blogger
  • Facebook Comment using Facebook
  • Disqus Comment using Disqus

1 comment :

  1. I have been suffering from (HERPES) disease for the last four years and had constant pain, especially in my knees. During the first year, I had faith in God that I would be healed someday.This disease started to circulate all over my body and I have been taking treatment from my doctor, a few weeks ago I came on search on the internet if I could get any information concerning the prevention of this disease, on my search I saw a testimony of someone who has been healed from (Hepatitis B and Cancer) by this Man Dr. Silver and she also gave the email address of this man and advise we should contact him for any sickness that he would be of help, so I wrote to Dr. Silver telling him about my (HERPES Virus) he told me not to worry that I was going to be cured!! hmm i never believed it,, well after all the procedures and remedy given to me by this man few weeks later I started experiencing changes all over me as the Dr. assured me that I have cured, after some time i went to my doctor to confirmed if I have been finally healed behold it was TRUE, So friends my advice is if you have such sickness or any other at all you can email Dr. Silver (drsilverhealingtemple@gmail.com) sir I am indeed grateful for the help I will forever recommend you to my friends!!! with your lovely Email Address ( drsilverhealingtemple@gmail.com you can contact him also on whatsapp +2347032474849

    ReplyDelete


Current Affairs

[Current Affairs][bleft]

Climate change

[Climate Change][twocolumns]

Lifestyle

[Lifestyle][twocolumns]

Animal Abuse

[Animal Cruelty][grids]