technology

[Technology][threecolumns]

Health

[Healthcare][bleft]

Business

[Business][twocolumns]

Network Marketing

[Network Marketing][grids]

Which apps can be used to track coronavirus outbreaks?


Click here to read this article in Hindi



Due to the infection of the coronavirus, at this time there is fear in the whole world. The infection of this virus, which came to light only a few months ago, has ended the lives of more than one lakh people in the world. The rich and powerful countries of the world are seen completely battered in front of coronavirus at this time.

While working in the world-renowned laboratories, no preventive medicines are being found on the corona by scientists and experts in medical science. But on the other hand, coronavirus is taking the lives of thousands of people every day. In such a situation, how could the students study in IITs of India be left behind?

The meritorious students of the country's renowned IITs, AITs and IISc have worked hard and invented a variety of cheap and small ventilators, test pests, sanitizers, masks, hand gloves, to fight against the corona. But some students have done an important job in the ongoing war against Corona by going even further.

These meritorious students of IITs have now invented such a mobile app, which will convey precise information about the corona to the government and all concerned. Through these modern apps, now the IIT students are expressing such belief that they will surely get success in the fight being fought against Corona. Today we are going to give information about this modern technology through this article.

Bluetooth app


At this time the technology of Bluetooth has greatly usable, due to smartphones. Using this technique, an IIT Delhi student has created an advanced app. The specialty of this Bluetooth app is to inform about the patient of COVID-19 & the people who are reached in the contact of the patient. This app can track and alert about such people through Bluetooth.

Five students of IIT Delhi have created this app. These include Vikas Upadhyay, a Ph.D. in Computer Science, other students of Computer Science Gulshan Jahangid, Pankaj Singh, and Anchal Sharma and Arshad Nassar of Design Department.


This team has worked hard to create an app that, in the last few days, people who have come in contact with coronavirus infected patients or have passed nearby them, can track all of them. When any person passed nearby the coronavirus affected person, the information of its date and area will also be provided to the administration through this app.


This app is going to be very effective in providing information about people reached in contact with coronavirus infected people. Such information can prove to be very helpful in the fight against coronavirus.

According to the team, this application provides very accurate, secure and reliable tracking technology. Additionally, it will help spread self-awareness in patients and encourage more testing of infections. It is an open-source project and is not related to or supported by the subsidiary lab of IIT Delhi or any mainstream activity of the Government of India.





Sampark-O-Meter Mobile App

Students studying in institutes like the Indian Institute of Technology, Indian Institutes of Science are also created apps to provide information about coronavirus infection. The app's name is Sampark-O-Meter. A team of former and alumni of IIT Mumbai has created an app named Quarantine.

Through this mobile app, people who have some symptoms of coronavirus can be tracked. If an infected person walks out of his home, the app can work to track him.


`Go corona go` app

A team of IIT institutes from different places in the country along with IIT Bengaluru has developed the Go Corona Go app.

IIT faculty member Dr. Tarun Rambha told in the context of the app that this app can identify the symptoms of coronavirus through Bluetooth and GPS. Therefore, this app can prove effective in finding coronavirus infected people and getting them treated in time.

The app also provides alerts on isolation and proximity scores and helps to maintain social distance.

Rambha said that a BTech student at the Indian Institute of Technology (IIT) Ranchi has played an important role in developing this app. This app can pinpoint potential areas on a map with maximum coronavirus infection probability.




This app can track COVID-19

The professor of IIT Roorkee, who works in the civil engineering department, has also developed a great app, which can prove to be very effective in curbing the coronavirus. Through this app, detailed information of any patient sent from Corona Positive to Isolation can be obtained by the government or related instruments. 

Many times Internet connectivity is not available in some places. In such places, this app can do sending the information of the infected person to the officials of the health department through SMS.

Testing of all these apps is going on at the moment. When the results of testing reach the government, only then a decision can be taken by the government to implement. However, when this work will be completed, nothing can be said about it.




Claim to build coronavirus anti-infection tent

A professor of IIT Ropad has made a unique claim even further. Professor Dheerajkumar says that he has built a tent, like South Korea, which is anti-infection. Dherajkumar has claimed that this tent made from a plastic sheet of 9x8 cannot have coronavirus infection.

Apart from this, the air entered into this tent will exit only after purify. He claims that Korea has built some similar tents, which have proved to be very effective there. However, the claims of these professors have not yet been confirmed by the official sources of any government.





















कोरोनावाइरस की जानकारी देने में मददगार साबित हो सकते है यह ऐप

आईआईटी और आआईएससी के छात्रों के प्रयास



कोरोना वाइरस के संक्रमण के चलते इस समय पूरे विश्व में त्राहीमाम मचा हुआ है. कुछ ही महिने पहले सामने आए इस वाइरस के संक्रमण ने अब तक विश्व में एक लाख से अधिक लोगों की जिंदगियां खत्म कर दी है. विश्व के अमीर और ताकतवर देश इस समय कोरोना के सामने पूरी तरह से पस्त दिखाई दे रहे है.

विश्व की मशहूर लैब में काम करते हुए निष्णात वैज्ञानिकों और चिकित्सा विज्ञान के विशेषज्ञों द्वारा कोरोना पर इलाज खोजा जा रहा है, जोकि अभी तक 100 प्रतिशत कसौटी पर खरा नहीं उतरा है. लेकिन दूसरी ओर कोरोना प्रतिदिन हजारो लोगों की जिंदगियां लील रहा रहा है. ऐसे में भला भारत के आईआईटी में पढ़ने वाले छात्र  कैसे पीछ रह जाते.

देश की नामचीन आईआईटी, एआईटी तथा आईआईएससी के मेधावी छात्रों ने कड़ी मेहनत करते हुए अब तक कोरोना के खिलाफ लड़ने के लिए विभिन्न तरह के सस्ते और छोटे वेंटिलेटर्स, जांच कीट, सैनिटाइजर, मास्क, हैण्ड ग्लोव्ज का आविष्कार किया. लेकिन कुछ छात्रों ने अब इससे भी आगे जाकर कोरोना के खिलाफ चल रही जंग में एक अहम काम किया है.

आईआईटी के इन मेधावी छात्रों ने अब ऐसे मोबाईल ऐप का आविष्कार किया है, जोकि कोरोना के संदर्भ में एक सटिक जानकारी सरकार और संबंधित सभी यंत्रणाओं तक पहुंचाएगा. इन आधुनिक ऐप के माध्य से अब कोरोना के खिलाफ लड़ी जाने वाली लड़ाई में जरुर सफलता मिलेगी, ऐसा विश्वास आईआईटी के यह छात्र जता रहे है. आज हम इस लेख के माध्यम से इस आधुनिक तकनीक की जानकारी देने जा रहे है.

ब्ल्यूटूथ ऐप

इस समय स्मार्ट फोन के चलते ब्ल्यूटूथ की तकनीक काफी विकसित हुई है. इसी तकनीक का इस्तेमाल करते हुए आईआईटी दिल्ली के छात्र ने एक उन्नत ऐप बनाया है. इस ऐप की खासियत यह है कि, यह ऐप ब्ल्यूटूथ के माध्यम से कोविड-19 पीड़ित के संपर्क में ने वाले मरीज की जानकारी देगा. यह ऐप ब्ल्यूटूथ के माध्यम से सभी लोगों को ट्रैक कर सकता है और अलर्ट दे सकता है.

इस ऐप को बनाने के लिए आईआईटी दिल्ली के पांच छात्र एकत्रित हुए. इनमें कम्प्युटर साइन्स डिपार्टमेंट के पीएचडी स्टुडेंट विकास उपाध्याय, कम्प्युटर साइन्स डिपार्टमेंट के छात्र गुलशन जहागीड, पंकज सिंह तथा डिजाइन डिपार्टमेंट के अंचल शर्मा और अर्शद नासर का समावेश है.

इस टीम ने कड़ी मेहनत करते हुए ऐसा ऐप बनाया है जोकि, पिछले कुछ दिनों में जो लोग कोरोना वाइरस से संक्रमित लोगों के संपर्क में आए है या फिर उनसे पास से भी गुजरे है, इन सभी को ट्रैक कर सकता है. इतना ही नहीं बल्कि कोई भी व्यक्ति कोरोना बाधित व्यक्ति के पास से कब गुजरा इसकी तारीख और परिसर की जानकारी इस ऐप के माध्यम से प्रशासन को प्राप्त हो सकेंगी.

कोरोना से संक्रमित लोगों के संपर्क में आने वाले लोगों की जानकारी दिलाने में यह ऐप काफी कारगर साबित होने जा रहा है. कोरोना के खिलाफ लड़ाई के लिए इस तरह की जानकारी काफी मददगार साबित हो सकती है.

टीम के अनुसार, यह एप्लिकेशन काफी सटिक, सुरक्षित और विश्वसनीय ट्रैकिंग तकनीक प्रदान तो करता ही है. इसके अतिरिक्त यह रोगियों में आत्म-जागरूकता फैलाने में मदद करेगा और संक्रमण के परीक्षण के लिए और अधिक प्रोत्साहित करेगा. यह एक ओपन-सोर्स प्रोजेक्ट है और आईआईटी दिल्ली की सहायक लैब या भारत सरकार की किसी भी मुख्यधारा की गतिविधि से संबंधित या समर्थित नहीं है.



संपर्क-ओ-मीटर मोबाइल ऐप

इंडियन इन्स्टिट्यूट्स ऑफ़ टेक्नोलाॅजी, इंडियन इ्स्टिट्यूट्स ऑफ़ साइन्स जैसे संस्थानों में पढ़ने वाले छात्र भी कोरोना के संक्रमण की जानकारी दिलाने वाले ऐप तैयार कर रहे है. जिसमें  संपर्क-ओ-मीटर तथा आईआईटी मुंबई के पूर्व विद्यमान और पूर्व छात्रों की टीम ने क्वारंटिन नाम के ऐप बनाए है.

मोबाइपल ऐप के माध्यम से कोरोना का संक्रमण जिनमें है या फिर थोडेसे भी लक्षण दिखाई देने वाले लोगों को ट्रैक कर किया जा सकता है. अगर कोई भी कोरोनाग्रस्त व्यक्ति अपने घर से बाहर निकलती है तो ऐप एक माध्यम से उसे ट्रैक करने का काम कर सकता है.

`गो करोना गो` ऐप

आईआईटी बेंगलुरु के साथ देश के विभिन्न जगहों के आईआईटी संस्थानों की एक टीम ने मिलकर गो कोरोना गो ऐप विकसित किया है. आईआईटी फैकल्टी के सदस्य डाॅ. तरुण रंभा ने ऐप के संदर्भ में बताया कि, यह ऐप ब्ल्यूटूथ और जीपीएस के माध्यम से काम करता है. यह ऐप कोविड-19 का संक्रमण जिन मरिजों में है. उनकी पहचान जीपीएस के माध्यम से की जा सकती है. इसलिए कोरोना के मरिजों को खोजने और उनपर समय रहते इलाज कराने में यह ऐप कारगर साबित हो सकता है. 

यह ऐप अलगाव और निकटता स्कोर पर अलर्ट भी प्रदान करता है, और सामाजिक दूरी को बढ़ाने में मदद करता है. रंभा ने कहा कि जो लोग संगरोध में हैं, उनके लिए जोखिम मूल्यांकन में उपयोग किए जाने वाले अपने लक्षणों को प्रदान करने की क्षमता है. रंभा ने कहा कि भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) रांची में एक बीटेक छात्र ने यह ऐप विकसित करने में अहम भूमिका अदा की है. यह ऐप अधिकतम कोरोनावायरस संक्रमण की संभावना वाले मैप पर संभावना वाले क्षेत्रों को निश्चित कर सकता है.


कोविड-19 को ट्रेक करेगा ऐप

आईआईटी रुडकी के प्राध्यापक जोकि वहां की सिविल इंजीनियरिंग विभाग में काम करते है, उन्होंने भी एक बेहतरीन ऐप विकसित किया है, जोकि कोरोना वाइरस को रोकने में काफी कारगर साबित हो सकता है. इस ऐप के माध्यम से कोरोना पाॅजीटिव से लेकर आइसोलेशन तक भेजे के किसी भी मरीज की विस्तार से जानकारी सरकार या संबंधित यंत्रणाओं को प्राप्त हो सकती है. कई बार कुछ जगहों पर इंटरनेट की कनेक्टिविटी नहीं होती. ऐसी जगहों पर यह ऐप एसएमएस के माध्यम से संक्रमित व्यक्ति की जानकारी स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों तक पहुंचाने का काम कर सकता है.

इन सभी ऐप की टेस्टिंग इस समय चल रही है. इन ऐप के टेस्टिंग के रिजल्ट जब सरकार तक पहुंचेंगे उसके बाद ही सरकार की ओर से इन ऐप को कार्यान्वित करने के संदर्भ में कोई फैसला लिया जा सकता है. हालांकि, यह काम कब तक पूरा हो जाएगा, इसके बारे में अभी कुछ भी नहीं कहा जा सकता.


कोरोना संक्रमणरोधी तंबू के निर्माण का दावा

आईआईटी रोपड के एक प्राध्यापक ने इससे भी आगे जाकर अनोखा दावा किया है. प्रा. धीरजकुमार कहते है कि, उन्होंने दक्षीण कोरिया की तर्ज पर एक ऐसा तंबु बनाया है, जोकि संक्रमणरोधी है. 9 बाइ 8 के प्लास्टिक शीट से बनाए गए इस तंबु में कोरोना वाइरस का संक्रमण नहीं हो सकता, ऐसा दावा धीरजकुमार ने किया है. इसके अलावा इस तंबु में जो भी हवा आएगी वह हवा शुद्ध होकर ही बाहर आएगी. उनका दावा है कि, कोरिया ने कुछ इसी तरह के तंबु बनाए है, जो वहां काफी कारगर साबित हुए है. हालांकि, इन प्राध्यापक महोदय के दावे की पुष्टि अभी तक किसी भी सरकार के आधिकारिक सूत्रों की ओर से नहीं की गई है.
Post A Comment
  • Blogger Comment using Blogger
  • Facebook Comment using Facebook
  • Disqus Comment using Disqus

No comments :


Current Affairs

[Current Affairs][bleft]

Climate change

[Climate Change][twocolumns]

Lifestyle

[Lifestyle][twocolumns]

Animal Abuse

[Animal Cruelty][grids]