technology

[Technology][threecolumns]

Health

[Healthcare][bleft]

Business

[Business][twocolumns]

Network Marketing

[Network Marketing][grids]

Earn 500 Rupees Per Month through 'Steelbird Connect, Share and Earn' App

'स्टीलबर्ड कनेक्ट शेयर एंड अर्न' ऍप के कमाएं हर महीने 500 रूपए


कोरोनावायरस से प्रभावित जरूरतमंदों को वित्तीय मदद के लिए स्टीलबर्ड ने एक नया प्लेटफॉर्म लॉन्च किया

वर्तमान समय में जब पूरा विश्व कोरोनावायरस महामारी से त्रस्त है तथा लोगों के पास रोजगार की कमी हैऔर लॉकडाउन के चलते वे घरों में रहने के लिए मजबूर हैं और ऐसे नाजुकदौर में स्टीलबर्ड हाईटेक इंडिया लिमिटेड, देश में हेलमेट्स की सबसे बड़ी निर्माता कंपनी ने एक नए मोबाइल एप्लीकेशन 'स्टीलबर्ड कनेक्ट शेयर एंड अर्न' के माध्यम से उन लाखों लोगों के लिए एक पहल की हैं, जो स्वाभिमान के साथ घर बैठे कुछ कमाने की चाह रखते हैं.

इस संबंध में जानकारी देते हुए स्टीलबर्ड हाईटेक इंडिया लिमिटेड के मैनेजिंग डायरेक्टर राजीव कपूर ने कहा कि कोरोनावायरस के चलते आज वे करोड़ों लोग प्रभावित हुए हैं जो कि रोज कमाते थे और रोज खाते हैं, जिनमें दिहाड़ी करने वाले और अलग अलग तरह की फैक्टरियों में काम करने वाले शामिल हैं.उनकी कमाई का जरिया खत्म हो चुका है और उनके पास आज खाना खाने के लिए पैसे नहीं हैं.

उनकी मुश्किलें काफी अधिक हैं. हालांकि हमारी सरकार काफी अच्छा काम कर रही है. सभी वर्गों की मदद के लिए सरकार ने एक लाख 70 हजार करोड़ रूपए का पैकेज भी दिया है और सरकार उनके खातों में मदद के लिए पैसे भी डाल रही है, परंतु उनके सामने कड़ी मुसीबतें काफी ज्यादा हैं.

ये सब कुछ देखते हुए स्टीलबर्ड ने ये एप्लिकेशन लॉन्च की है ताकि गांव-गांव में जो लोग काम नहीं कर पा रहे हैं, लॉकडाउन के कारण वे काम नहीं कर पा रहे है, उनकी मदद की जा सके.

'स्टीलबर्ड कनेक्ट शेयर एंड अर्न' के माध्यम से उन तक पैसे पहुंचाए जा सकते हैं. इसका कई तरह से फायदा होगा. इस समय देश का कॉर्पोरेट वर्ल्ड, सरकार और हस्तियां अपनी तरफ से मदद कर रही हैं और लोगों को राशन से लेकर नकद मदद कर रही हैं. वहीं, स्टीलबर्ड की ओर से उठाया गया यह कदम वित्तीय दृष्टिकोण से पिछड़े लोगों को आगे बढ़ने में मदद कर सकता हैं.

राजीव कपूर का मानना हैं, कि ऐसे में स्टीलबर्ड की ये ऐप एक नई पेशकश कर रही है. हम चाहते हैं कि पूरा कॉर्पोरेट वर्ल्ड इस समय इस ऐप केमाध्यम से  वह जिस भी तरह से लोगों की मदद कर रहे हैं, उसके बारे में अपना प्रचार करे, उसके बारे में  पोस्ट करे जिससे की लोगों तक उनकी इन्फोर्मशन भी पहुंचेगी तथा उन्हें पैसे भी मिलेंगे.

उसके बाद वह बिड लगा सकता हैं ताकि जो भी जनता या आम यूजर इस मैसेज या पोस्ट को जितना अधिक शेयर करेगा, उतने पैसे उसके खाते में डाले जाएंगे. इसमें न्यूनतम बिड 50 पैसे लगाई जा सकती हैं और प्रति शेयर पर 50 पैसे प्राप्त हो सकते हैं. कोई भी कंपनी अपनी इस बिड को बढ़ा भी सकती है और वह ये तय कर सकती है कि वह किसी व्यक्ति को कितने पैसे देना चाहती है.

इसका एक सबसे बड़ा फायदा ये होगा कि इससे कॉर्पोरेट वर्ल्ड को अपनी सीएसआर, अपनी कंपनी या उत्पाद का नाम प्रचारित करने का मौका मिलेगा, क्योंकि वो जो भी पोस्ट डालेंगे, यूजर्स उसको देखेगा और उसको शेयर करेगा. इससे जरूरतमंदों को भी कुछ कमाने का मौका मिलेगा

जैसे ही एक जरूरतमंद अपने खाते में 500 रूपए कमा लेगा, तो स्टीलबर्ड 7 दिनों के अंदर पैसे उसके खाते में डाल देगा. जिससे वह राशन खरीद सकेगा और अपने परिवार का खाना दे सकेगा, उसका पेट भर सकेगा.अगर किसी यूजर्स के परिवार में चार सदस्य हैं तो वह पूरा परिवार 2000 रूपए भी कमा सकता है.

उन्होंने बताया कि ये समाज की एक बड़ी सेवा होगी और स्टीलबर्ड इसका कोई पैसा अपने पास नहीं रखेगा. कॉर्पोरेट वर्ल्ड से जो भी पैसा आएगा, वह पूरा पैसा यूजर्स को प्रदान कर दिया जाएगा.

यह कैसे काम करता हैं?


सबसे पहले ऍप को डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. या आप आपके वेब ब्राउज़र से भी ज्वाइन हो सकते हैं. वेब ब्राउज़र से ज्वाइन होने के लिए यहाँ क्लिक करें.

आपकी User ID बनने के बाद लॉगिन करें.

आपके लॉगिन एरिया में कुछ वीडियोस आपको देखने के लिए या शेयर करने के लिए कहा जाएगा. यह सारे वीडियोस आपके वाल पर  शेयर हो जायेगे. इस ऍप के माध्यम से आप अपने फ़ॉलोअर्स भी बना सकते हैं या आप मुझे भी फॉलो कर सकते हैं.

इसमें आप अधिक से अधिक लोगों को फॉलो कर सकते हैं और ज्यादा से ज्यादा वीडियोस आपको प्राप्त हो सकते हैं.





Post A Comment
  • Blogger Comment using Blogger
  • Facebook Comment using Facebook
  • Disqus Comment using Disqus

No comments :


Current Affairs

[Current Affairs][bleft]

Climate change

[Climate Change][twocolumns]

Lifestyle

[Lifestyle][twocolumns]

Animal Abuse

[Animal Cruelty][grids]