technology

[Technology][threecolumns]

Health

[Healthcare][bleft]

Business

[Business][twocolumns]

Network Marketing

[Network Marketing][grids]

Finolex Industries Takes An Initiative to Fight Coronavirus

सीएसआर पार्टनर मुकुल माधव फाउंडेशन के माध्यम से किया सहयोग

Finolex Industries came forward in the fight against Kovid-19


वर्ष 2019 के अंत में चीन में कोरोना वायरस से जुड़े मामलों के सामने आने के तुरंत बाद फिनोलेक्स इंडस्ट्रीज लिमिटेड और मुकुल माधव फाउंडेशन ने पूर्व तैयारियों को लेकर एक रणनीति तैयार करने की पहल की.

विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा कोरोना वायरस को एक वैश्विक महामारी घोषित करने से काफी पहले ही फिनोलेक्स इंडस्ट्रीज ने यह तैयारी शुरू कर दी थी. फाउंडेशन के साथ जुड़े स्थानीय अस्पतालों, डॉक्टरों, पैरा-मेडिकल भागीदारों और अन्य अनुभवी लोगों के साथ गहन परामर्श के बाद इस रणनीति को तैयार किया गया.

इस दौरान फेस मास्क की आवश्यकता में वृद्धि की संभावना को देखते हुए फाउंडेशन ने ऐसे विभिन्न संगठनों से संपर्क किया, जो इस आवश्यकता को पूरा करने के लिए योगदान कर सकते थे. मास्क बनाने के लिए पुणे में एचआईवी पाॅजिटिव महिलाओं को आजीविका प्रदान करने वाले फेमिली प्लानिंग एसोसिएशन और सतारा में स्थानीय महिलाओं के स्वयं सहायता समूहों से संपर्क किया गया.

फाउंडेशन द्वारा मसर, गुजरात और रत्नागिरी में संचालित स्किल डेवलपमेंट सेंटर में भी इसी तरह के प्रयास किए गए. इस तरह महिलाओं के स्वयं सहायता समूहों के लिए नए अवसर उत्पन्न हुए और उन्हें अपने परिवार की आय में योगदान करने के लिए अतिरिक्त पैसा कमाने का मौका मिला.

पुण्यधाम आश्रम जो पुणे के बाहरी इलाके में वरिष्ठ नागरिकों का आश्रयस्थल है, स्वेच्छा से मास्क बनाने के लिए आगे आया और इसने पुलिस बल, ससून अस्पताल और मुकुल माधव फाउंडेशन की जरूरतों को पूरा करने का प्रयास किया है.

रणनीति में एक और तैयारी यह भी थी कि अस्पतालों के नेटवर्क का सर्वेक्षण किया जाए, ताकि तत्काल जरूरत होने पर कोविड- 19 से प्रभावित रोगियों की देखभाल के लिए उनका इस्तेमाल किया जा सके. रेड क्रॉस सोसाइटी, केईएम अस्पताल, ससून जनरल अस्पताल,

नायडू अस्पताल और कई निजी अस्पतालों से इस बारे में एक अपील की गई. फाउंडेशन इन अस्पतालों में वेंटिलेटर, दस्ताने, पीपीई सूट, मास्क, सैनिटाइजर, कीटाणुनाशक और फेस शील्ड प्रदान करने के लिए सक्रिय है.

साइंस एंड टेक्नोलॉजी पार्क में स्थित एक स्टार्टअप के सहयोग से 4 साइटेक एयरआॅन जनरेटर्स (जो हवा को शुद्ध करने का काम करते हंै) नायडू हाॅस्पिटल्स को प्रदान किए गए और जल्द ही ऐसे 25 से अधिक जनरेटर्स सैसून अस्पताल, केईएम अस्पताल और पुलिस स्टेशनों को प्रदान किए जाएंगे.

ऑनलाइन क्राउड फंडिंग पोर्टल ‘केट्टो‘ के सहयोग से फिनोलेक्स इंडस्ट्रीज लिमिटेड और मुकुल माधव फाउंडेशन ने 4000 से अधिक ऐसे दिहाड़ी कामगारों के परिवारों की सहायता की, जिन्हें हाल के दौर में अपना रोजगार गंवाना पड़ा है. मुकुल माधव फाउंडेशन ने लगभग 7 समान विचारधारा वाले संस्थानों/स्वयंसेवकों के साथ भागीदारी की और प्रभावित लोगों को राशन सामग्री और अन्य वस्तुओं का वितरण भी किया.

इस दौरान राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों का भी पूरा ध्यान रखा गया. जिला स्वास्थ्य अधिकारी (डीएचओ), सीईओ और सिविल सर्जन सभी ने बहुत सहयोग किया है. निजी वाहनों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगने के बाद ग्रामीण क्षेत्रों में सामग्री पहुंचाने के लिए राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम (आरबीएसके) ने अधिकारियों और गैर सरकारी संगठनों के बीच समन्वय का काम किया.

फिनोलेक्स इंडस्ट्रीज लिमिटेड और मुकुल माधव फाउंडेशन ‘मिशन सेरेब्रल पाल्सी’ अभियान भी जोर-शोर से चला रहे हैं. वर्ष 2015 में समूचे महाराष्ट्र में फिनोलेक्स रिहैब सेंटर में यह अभियान शुरू किया गया था और अब मुकुल माधव फाउंडेशन की विशेषज्ञों की टीम द्वारा चिकित्सकों के सहयोग के साथ स्काइप और व्हाट्स ऐप वीडियो कॉल के माध्यम से लोगों को परामर्श दिया जा रहा है. प्रत्येक पीड़ित बच्चे के माता-पिता को फोन पर अलग-अलग समय दिया जा रहा है. लॉकडाउन की अवधि में भी परामर्श का यह कार्यक्रम जारी रहने की उम्मीद जताई गई है.

इन गतिविधियों की जानकारी देते हुए मुकुल माधव फाउंडेशन की मैनेजिंग ट्रस्टी श्रीमती रितु प्रकाश छाबरिया ने कहा, ‘‘लॉकडाउन की इस अवधि के दौरान फाउंडेशन अपने लाभार्थियों को पूरे दिल से समर्थन दे रहा है और उनकी तरफ से भी हमें ऐसा ही सपोर्ट मिल रहा है.

चाहे वे बुजुर्ग शख्स हों, एचआईवी से पीड़ित महिलाएं हों, मोबाइल शिक्षक, प्राधिकरण, माता-पिता या सिस्टम- ये सभी हमारी इन गतिविधियों और पहलों को अंजाम देने में एक अभिन्न हिस्सा रहे हैं. राज देशमुख, विनोद रोहाणी, चेतन लोढ़ा और कई अन्य स्वयंसेवक इस मिशन को बड़ी खामोशी के साथ अपना समर्थन दे रहे हैं.‘‘
Post A Comment
  • Blogger Comment using Blogger
  • Facebook Comment using Facebook
  • Disqus Comment using Disqus

No comments :


Current Affairs

[Current Affairs][bleft]

Climate change

[Climate Change][twocolumns]

Lifestyle

[Lifestyle][twocolumns]

Animal Abuse

[Animal Cruelty][grids]