technology

[Technology][threecolumns]

Health

[Healthcare][bleft]

Business

[Business][twocolumns]

Network Marketing

[Network Marketing][grids]

Breast Cancer: On-Time Diagnosis is the Best Precaution


Click here to read this article in Hindi

Breast Cancer: On-Time Treatment is the Best Precaution


Breast cancer is found in Indian women at the first number at this time. Every year one lakh 60 thousand women in India have breast cancer. Also, about 80 thousand women die due to breast cancer. India is the highest in terms of female deaths due to breast cancer.

One in every 22 women is likely to have breast cancer. If we see, the percentage of breast cancer in urban women is much higher than the proportion of rural women. Also, the amount of uterine cancer is higher in rural women.

Dr. Sumeet Shah (Pro-life Cancer Centre, Pune) said that, unfortunately, in most Indian women, breast cancer occurs at the age of about 30 years. Generally, 16 percent of cancer occurs in women aged between 30 and 40, while women between the ages of 45 and 55 have the highest evidence of breast cancer, 



What are the symptoms of breast cancer?


Any lump in the breasts, this is the first symptom of breast cancer. No matter how small the lump is, it can still be a cancer of the breast.


The second major symptom is bleeding of the nipples, light black water or plain water, as well as nipple turning inward, boils around the nipple, the skin that is thicker on the breasts or the lump in the armpits. All of these are symptoms of cancer.



How to diagnose?

Every woman needs to do a checkup of breasts after the 21st year of age. If cancer is diagnosed in this condition, then the successful treatment of cancer is possible before time. On the third or fourth day of the menstrual period, women should test their breasts with their hands. If at this stage, there are lumps in the breasts, changes in the nipples or changes in the skin, then cancer can be avoided as soon as possible by taking the opinion of the experts.

After age 40, every woman is required to do mammography. A biopsy is necessary in case of possible symptoms of breast cancer. In this, some muscles are removed from the lumps of the breasts and sent for testing. Subsequently, the diagnosis of cancer is done by extensive examination of those muscles.


If this lump of the breast is in small size then there is no need for extensive examination. It can be diagnosed by taking out the sonography of the abdomen, tests of liver function and X-ray of the chest. But if the lumps are large and there are lumps in the under the arm, then a CT scan or PET scan has to be done.


Like other cancers, breast cancer has four stages. In the first stage, the lumps of cancer are smaller than 2 cm. The same is for 2 to 5 centimeters in the second stage. The third stage is larger than 5 cm.


Also, stages are fixed on how many lumps under the arm. The lumps under the arms are usually called the third stage. 



If this lump is affixed to the chest muscle or skin, then it is called the fourth stage. If this disease reaches other organs like lungs, brain or bones, then it is called the fourth stage.

How to treat?

There has been excellent research on breast cancer in the last few years, due to which the technique of treatment has improved a lot. Today, we do not need to remove the entire breast as before. Only breast cancer can be removed by performing breast augmentation surgery. This does not change women's view of themselves.

Along with marital and social life, women do not have to go through any hesitation. A woman can live her life with satisfaction after she cured. Treatment of breast cancer depends on the stage of cancer. The cancer of the first and third stages can be corrected mainly through surgery. Breast augmentation is done in the first or second stage.


But in the breast augmentation process, it is necessary to be treated with X-ray rays. Also, the patient can be prevented from chemotherapy by doing genetic tests. But at the time when there is a possibility of cancer again, then chemotherapy or hormone therapy is given.


In the fourth stage, chemotherapy, hormonotherapy or targeted therapy is given. It is determined by genetic testing, which of all these therapies is necessary to give to the patient.


Today chemotherapy surgery has improved significantly. It has been possible to give chemotherapy without being completely painless and without side effects. Usually, a patient has to give six to eight times if she needs chemotherapy.


It is painful every time to give chemotherapy from the vein of the arm. Sometimes a vein is not found. Along with swelling and pain on the arm, such problems occur. To avoid this, painless chemotherapy is given. For this, an instrument named Kimoport is used.


Chemoport is performed in a small surgery located on the chest of the patient and her tube is released into the blood vessel of the neck. After this, medicines are given from the chemoport Chamber. There is no need to put a needle in this hand anywhere. This entire process is painless. Also, the patient can use his hand well.



Do you know these facts related to breast cancer?

  • Even though there is no development of milk-producing breasts in men, but its cells and tissues can develop cancer. But the very few cases of breast cancer seen in the men. However, this evidence is less than one percent of the total breast cancer patients. 
  • Do you know that this cancer is found more in the left breast than the right breast? This cancer is found in the left breast 5 - 10% more. Nobody knows why.
  • Ten percent of breast cancer cases are genetic. The risk of getting breast cancer is almost doubled if relatives such as her parents or sister have breast cancer.
  • Breast cancer accounts for 30 percent of cancer cases found in women.
  • One in 8 women in the US is found to be suffering from breast cancer.
  • Surprisingly, breast cancer is found in high amounts in lifelong unmarried nuns.
  • Major progress has been seen in the treatment of breast cancer in recent years. Today more than 29 lakh patients suffering from breast cancer are alive in America.
  • Exercises like walking can reduce the risk of breast cancer by up to 25%.















Click here to read this article in English

ब्रैस्ट कैंसर: समय पर चिकित्सा ही सबसे अच्छी एहतियात है 

Breast Cancer: On-Time Treatment is the Best Precaution

भारतीय महिलाओं में स्तन (ब्रेस्ट) कैन्सर इस समय पहले नंबर पर है. प्रतिवर्ष भारत में एक लाख 60 हजार महिलाओं को स्तनों का कैन्सर होता है. साथ ही करीब 80 हजार महिलाओं की मृत्यु इस कैन्सर के चलते होती है. स्तनों के कर्करोग से महिलाओं की मौतों के मामले में भारत सबसे अधिक है.

हर 22 महिलाओं में एक महिला को स्तन का कैन्सर होने की संभावना रहती है. अगर हम देखें तो शहरी महिलाओं में स्तन का कैन्सर होने की मात्रा ग्रामीण महिलाओं के अनुपात में काफी ज्यादा है. साथ ही ग्रामीण महिलाओं में गर्भाशय के कैन्सर की मात्रा ज्यादा है.

दुर्भाग्यवश ज्यादातर भारतीय महिलाओं में स्तन का कैन्सर युवावस्था में यानी लगभग 30 वर्ष से अधिक उम्र में ही हो जाता है. आम तौर पर 16 प्रतिशत कैन्सर 30 से 40 आयुगुट की महिलाओं में होते है, जबकि 45 से 55 वर्ष की आयु में महिलाओं को स्तनों का कैन्सर होने का प्रमाण सबसे अधिक है, ऐसी जानकारी पुणे स्थित प्रो-लाइफ कैन्सर के सेंटर डॉ. सुमित शाह ने दी.


क्या है कैन्सर के लक्षण?


स्तनों में किसी भी तरह की कोई गांठ होना, यह स्तनों के कर्करोग का सबसे पहला लक्षण है. गांठ चाहे कितनी भी छोटी क्यों ना हों, तो भी वह स्तन का कर्करोग हो सकता है.

दुसरा प्रमुख लक्षण है स्तनाग्र (निप्पल्स) में से खून का रिसना, हलके काले रंग का पानी या सादा पानी निकलना, साथ ही निप्पल का पीछे जाना, निप्पल के आसपास फोड़े आना, स्तनों पर जो त्वचा का और मोटा होना या फिर बगल में गांठ बनना यह सभी कैन्सर के लक्षण होते है.


कैसे करें निदान?


हर एक महिला को उम्र 21वें वर्ष के बाद स्तनों का चेकअप करना जरुरी है. अगर इस अवस्था में अगर कैन्सर का निदान हो गया तो समय से पहले ही कैन्सर का सफल इलाज संभव है. मासिग धर्म के तिसरे या चौथे दिन महिलाएं अपने स्तन का अपने हाथों से परीक्षण करें. अगर इस अवस्था में स्तनों में गांठ, स्तनाग्र में होने वाले बदलाव या त्वचा में हुआ बदलाव दिखाई दें तो जल्द से जल्द कैन्सर विशेषज्ञों की राय लेकर संभावित कैन्सर की स्थिति से बच सकते है.

40 की उम्र के बाद हर एक महिला को मेमोग्राफी करना जरुरी होता है. स्तनों के कर्करोग के संभाव्य लक्षणों के दिखाई देने पर बायोप्सी करना जरुरी होता है. इसमें स्तनों की गांठ से कुछ पेशियां निकाल कर परीक्षण के लिए भेज दिया जाता है. बाद में उन पेशियों की गहन पड़ताल कर कर्करोग का निदान किया जाता है.

अगर स्तन की यह गांठ छोटे आकार में हों तो ज्यादा जांचपड़ताल की जरुरत नहीं होती. पेट की सोनेग्राफी, लीवर फंक्शन की टेस्ट तथा छाती का एक्स-रे निकाल कर उसका निदान हो सकता है. लेकिन अगर गाठ बड़ी हों और बगल में गांठ हों तो सिटी स्कैन या पैट स्कैन करना पड़ता है.

बाकी कैन्सर की तरह ही स्तन के कैन्सर के चार स्टेज होते है. पहले स्टेज में कर्करोग की गांठ 2 सेंटीमीटर से छोटी होती है. वही दूसरे स्टेज में 2 से 5 सेंटीमीटर होती है. तिसरे स्टेज में 5 सेंटीमीटर से बड़ी होती है.

यह गांठ अगर छाती के स्नायू को या त्वचा को चिपकी हुई हों तो उसे चौथी स्टेज कही जाती है. साथ ही बगल की गांठें कितनी है इस पर भी स्टेजेस फिक्स होती है. साधारणत: बगल की गांठें तिसरी स्टेज कही जाती है. यह बीमारी अगर दूसरे अंगों तक जैसे फेफड़े, मस्तिष्क या हड्डियों में पहुंचे तब उसे चौथी स्टेज कही जाती है.


कैसे होता हैं इलाज?


स्तन के कर्करोग पर पिछले कुछ वर्षों में बेहतरीन अनुसंधान हुआ, जिससे इसमें इलाज की तकनीक में काफी सुधार हुआ है. आज हमें पहले की तरह पूरा स्तन निकालने की जरुरत नहीं होती. स्तनसंवर्धन शल्यक्रिया कर केवल कर्करोग का भाग निकाला जा सकता है. इससे महिलाओं का खुद की ओर देखने का दृष्टिकोण नहीं बदलता.

साथही वैवाहिक एवं सामाजिक जीवन में महिलाओं को किसी संकोच से नहीं गुजरना पड़ता. बीमारी ठीक होने पर महिला अपना जीवन संतोष के साथ जी सकती है. स्तन के कैन्सर का इलाज वह कैन्सर किस स्टेज में इस पर निर्भर होता है. पहले और तिसरे स्टेज का कैन्सर मुख्य रूप से सर्जरी के माध्यम से ठिक किया जा सकता है. पहले या दुसरे स्टेज में स्तन का संवर्धन किया जाता है.

लेकिन स्तनसंवर्धन प्रक्रिया में एक्स-रे किरणों से इलाज कराना आवश्यक होता है. साथ ही जेनेटिक टेस्ट कर मरीज को किमोथेरेपी से बचाया जा सकता है. लेकिन जिस वक्त कैन्सर फिर से होने की संभावना रहती है, तब किमोथेरेपी या हार्मोनथेरेपी या दी जाती है.

चौथी स्टेज में किमोथेरेपी, हार्मोनोथेरेपी या टार्गेटेड थेरेपी दी जाती है. जेनेटिक जांच कर यह निश्चित किया जाता है कि, इन सभी थेरेपी में से कौनसी थेरेपी मरीज को देना जरुरी है.

आज किमोथेरेपी शल्यक्रिया में काफी सुधार हुए है. पूरी तरह से पीड़ारहित और साइड इफेक्ट ना होते हुए किमोथेरेपी देना संभव हो चुका हैत. आम तौर पर किसी मरीज को किमोथेरेपी की जरुरत होने पर उसे छह से आठ बार देना पड़ता है.

हर बार हाथ की नस से किमोथेरेपी देना तकलीफदेह होता है. कई बार नस नहीं मिलती. साथ ही हाथ पर सूजन, हाथ दुखना ऐसी तकलिफें होती है. इसे टालने के लिए पीड़ारहित किमोथेरेपी दी जाती है. इसके लिए किमोपोर्ट नाम का साधन इस्तेमाल किया जाता है.

किमोपोर्ट यह छोटीसी शल्यक्रिया कर मरीज के छाती पर स्थित स्नायू में बिठाया जाता है और उसकी नली गर्दन की रक्तवाहिनी में छोड़ी जाती है. इसके बाद दवाइयां किमोपोर्ट चेंबर से दी जाती है. इसमें कहीं भी हाथ में सुई लगाने की जरुरत नहीं होती. यह पूरी प्रक्रिया पीड़ारहित होती है. साथ ही मरीज अपने हाथ का इस्तेमाल अच्छी तरह से कर सकता है.


क्या आप ब्रेस्ट कॅन्सर से जुडी इन तथ्यों को जानते हैं?


  • भले ही पुरुषों में दूध पैदा करने योग्य स्तन का विकास नहीं होता हैं, फिर भी एक आदमी की ब्रैस्ट सेल्स और टिश्यूज कैंसर का विकास कर सकते हैं. मगर पुरुषों में स्तन कैंसर बहुत दुर्लभ होता हैं. हालांकि यह प्रमाण 1% जितना हैं.
  • क्या आप जानते हैं कि स्तन दाएं की तुलना में बाएं स्तन में यह कैंसर अधिक पाया जाता हैं? बाएं स्तन में यह कैंसर 5 - 10% अधिक पाया जाता हैं. कोई नहीं जानता ऐसा क्यों हैं.
  • स्तन कैंसर के में दस प्रतिशत मामले आनुवांशिक होते हैं. स्तन कैंसर होने का जोखिम तब लगभग दोगुना हो जाता है यदि उसके माता-पिता या बहन जैसे रिश्तेदारों में स्तन कैंसर होता हैं.
  • महिलाओं में पाए जाने वाले कैंसर के मामले में 30 प्रतिशत कैंसर मामले ब्रैस्ट कैंसर के होते हैं.
  • अमेरिका में 8 में से एक महिला को ब्रैस्ट कैंसर का पीड़ित पाया जाता हैं.
  • आश्चर्यजनक बात यह हैं कि, ब्रैस्ट कैंसर आजीवन अविवाहित नन्स में अधिक मात्रा में पाया जाता हैं.
  • स्तन कैंसर के उपचार में हाल के वर्षों में बड़ी प्रगति देखि गयी हैं. स्तन कैंसर से पीड़ित 29 लाख से ज्यादा मरीज आज अमेरिका में जीवित हैं.
  • चलने जैसे व्यायाम ब्रैस्ट कैंसर होने का खतरा 25% तक कम कर सकते हैं.


Post A Comment
  • Blogger Comment using Blogger
  • Facebook Comment using Facebook
  • Disqus Comment using Disqus

No comments :


Current Affairs

[Current Affairs][bleft]

Climate change

[Climate Change][twocolumns]

Lifestyle

[Lifestyle][twocolumns]

Animal Abuse

[Animal Cruelty][grids]